कन्नौज हादसा: घायलों को देखने अस्पताल पंहुचे अखिलेश, डॉक्टर को RSS, BJP का बताकर भगाया

akhilesh yadav
कन्नौज हादसा: घायलों को देखने अस्पताल पंहुचे अखिलेश, डॉक्टर को RSS, BJP का बताकर भगाया

कन्नौज। उत्तर प्रदेश के कन्नौज में बीते 11 जनवरी को ट्रक व बस की भिड़त से एक दर्दनाक हादसा हुआ था जिसमें 20 लोगों की मौत हो गयी थी और दर्जनो घायल हुए थे। इन्ही घायलों को देखने के लिए जब अखिलेश यादव अस्पताल पंहुचे तो उन्होने डॉक्टर से जमकर अभद्रता की। जब डॉक्टर मरीजों से जुड़ी जानकारी देने लगा तो उन्होने उसे आरएसएस, बीजेपी का बताकर भगा दिया।

Kannauj Accident Akhilesh Reached The Hospital To See The Injured Duped The Doctor As Rss Bjp :

आपको बता दें कि कन्नौज के जीटी रोड पर बीते 11 जनवरी की रात डबल डेकर स्लीपर बस और ट्रक की जबरदस्त भिडंत हो गयी थी ​जिसकी वजह से बस में भींषण आग लग गयी। हादसा रात में हुआ था तो कुछ लोग सो रहे थे, इसी वजह से 20 लोगों की जलकर मौत हो गयी थी जबकि 21 लोग बुरी तरह जख्मी हो गये ​थे ओर उनका अभी भी अस्पताल में इलाज चल रहा है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री अखिलेश यादव इन्ही पीड़ितों का हाल चाल लेने कन्नौज पहुंचे थे।

इसी दौरान उन्होंने अस्तपाल में पीड़ित के पास खड़े डॉक्टर को वहां से यह कहकर भगा दिया कि तुम एक बहुत छोटे कर्मचारी हो, बाहर भाग जाओ यहां से। दरअसल अखिलेश यादव सरकार द्वारा पीड़ितों को दिये गये मुआवजे के में जानकारी ले रहे थे इसी बात पर डॉक्टर उन्हे पूरी जानकारी देने लगे तो उन्होने डॉक्टर को रोंक दिया और कहा ‘तुम मत बोलो, तुम सरकारी आदमी हो। हम जानते हैं सरकार क्या होती है, इसलिए मत बोलो क्योंकि तुम सरकार के आदमी हो, तुम्हें नहीं बोलना चाहिए। उन्होंने कहा कि ‘आप आरएसएस से हो सकते हैं, भाजपा से हो सकते हैं। उन्होने डॉक्टर को आरएसएस और बीजेपी का बताते हुए कहा, दूर हो जाओ, भाग जाओ, बाहर भाग जाओ।

वहीं इस मामले में डॉक्टर डीएस मिश्रा ने कहा, ‘मैं वहां पर खड़ा था, क्योंकि मैं उनका अटैंडिंग ऑफिसर था। जब मरीज के परिवार ने दावा किया कि उन्हें कोई मुआवजा नहीं मिला तो मैंने उन्हें सही करना चाहा कि उन्हें चेक मिल गए हैं।’ साथ ही उन्होंने कहा कि वह इमरजेंसी ड्यूटी पर थे फिर भी अखिलेश यादव ने उन्हें वहां से चले जाने के लिए कहा।

अखिलेश यादव ने हादसे के लिए योगी सरकार को जिम्मेदार ठहराया था। वहीं इस दौरान सभी मृतकों को 20 लाख रुपए मुआवजा देना का ऐलान किया है साथ ही सरकार से मांग की प्रत्येक परिवार को सरकार 10 10 लाख रूपये मुआवजा दे। आपको बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपए और जख्मी लोगों को 50 हजार रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया था.

कन्नौज। उत्तर प्रदेश के कन्नौज में बीते 11 जनवरी को ट्रक व बस की भिड़त से एक दर्दनाक हादसा हुआ था जिसमें 20 लोगों की मौत हो गयी थी और दर्जनो घायल हुए थे। इन्ही घायलों को देखने के लिए जब अखिलेश यादव अस्पताल पंहुचे तो उन्होने डॉक्टर से जमकर अभद्रता की। जब डॉक्टर मरीजों से जुड़ी जानकारी देने लगा तो उन्होने उसे आरएसएस, बीजेपी का बताकर भगा दिया। आपको बता दें कि कन्नौज के जीटी रोड पर बीते 11 जनवरी की रात डबल डेकर स्लीपर बस और ट्रक की जबरदस्त भिडंत हो गयी थी ​जिसकी वजह से बस में भींषण आग लग गयी। हादसा रात में हुआ था तो कुछ लोग सो रहे थे, इसी वजह से 20 लोगों की जलकर मौत हो गयी थी जबकि 21 लोग बुरी तरह जख्मी हो गये ​थे ओर उनका अभी भी अस्पताल में इलाज चल रहा है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष व पूर्व उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री अखिलेश यादव इन्ही पीड़ितों का हाल चाल लेने कन्नौज पहुंचे थे। इसी दौरान उन्होंने अस्तपाल में पीड़ित के पास खड़े डॉक्टर को वहां से यह कहकर भगा दिया कि तुम एक बहुत छोटे कर्मचारी हो, बाहर भाग जाओ यहां से। दरअसल अखिलेश यादव सरकार द्वारा पीड़ितों को दिये गये मुआवजे के में जानकारी ले रहे थे इसी बात पर डॉक्टर उन्हे पूरी जानकारी देने लगे तो उन्होने डॉक्टर को रोंक दिया और कहा 'तुम मत बोलो, तुम सरकारी आदमी हो। हम जानते हैं सरकार क्या होती है, इसलिए मत बोलो क्योंकि तुम सरकार के आदमी हो, तुम्हें नहीं बोलना चाहिए। उन्होंने कहा कि 'आप आरएसएस से हो सकते हैं, भाजपा से हो सकते हैं। उन्होने डॉक्टर को आरएसएस और बीजेपी का बताते हुए कहा, दूर हो जाओ, भाग जाओ, बाहर भाग जाओ। वहीं इस मामले में डॉक्टर डीएस मिश्रा ने कहा, 'मैं वहां पर खड़ा था, क्योंकि मैं उनका अटैंडिंग ऑफिसर था। जब मरीज के परिवार ने दावा किया कि उन्हें कोई मुआवजा नहीं मिला तो मैंने उन्हें सही करना चाहा कि उन्हें चेक मिल गए हैं।' साथ ही उन्होंने कहा कि वह इमरजेंसी ड्यूटी पर थे फिर भी अखिलेश यादव ने उन्हें वहां से चले जाने के लिए कहा। अखिलेश यादव ने हादसे के लिए योगी सरकार को जिम्मेदार ठहराया था। वहीं इस दौरान सभी मृतकों को 20 लाख रुपए मुआवजा देना का ऐलान किया है साथ ही सरकार से मांग की प्रत्येक परिवार को सरकार 10 10 लाख रूपये मुआवजा दे। आपको बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपए और जख्मी लोगों को 50 हजार रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया था.