कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे के संपर्क में थे चौबेपुर के दो दारोगा और एक सिपाही, सस्पेंड

kanpur
कानपुर एनकाउंटर: विकास दुबे के संपर्क में थे चौबेपुर के दो दारोगा और एक सिपाही, सस्पेंड

कानपुर। कानपुर एनकाउंटर मामले का मुख्य आरोपी विकास दुबे अभी पुलिस की गिरफ्त से दूर है। पुलिस आरोपी की तलाश करने में जुटी है। इस बीच विकास दुबे का साथ देने वाले पुलिसकर्मियों पर शिकंजा कसना शुरू हो गया है। बदमाश विकास दुबे के संपर्क में चौबेपुर पुलिस थाने के दो दारोगा और एक सिपाही थे।

Kanpur Encounter Two Constables And One Soldier From Chaubepur Were In Contact With Vikas Dubey Suspended :

इनकी कॉल डिटेल से खुलासा हुआ है। इसके बाद दारोगा कुंवर पाल और कृष्ण कुमार शर्मा समेत सिपाही राजीव को एसएसपी ने सस्पेंड कर दिया है और मामले की जांच शुरू हो गई है। बता दें कि, रविवार को विकास दुबे का करीबी दयाशंकर अग्निहोत्री पकड़ा गया था, जिसने पूछताछ में कबूला था पुलिसकर्मियों पर विकास दुबे ने ही गोली चलायी थी।

दयाशंकर ने बताया था कि पुलिस की छापेमारी की खबर विकास को थाने से पता चली थी, जिसके बाद विकास ने 25-30 लोगों को बुलाया था। यह सभी लोग हथियारों से लैस थे। इस खुलासे के बाद पुलिस ने उन पुलिसकर्मियों की तलाश शुरू कर दी थी, जो विकास दुबे के संपर्क में थे। चौबेपुर पुलिस थाने के सभी पुलिसकर्मियों के कॉल डिटेल खंगाले गए।

कॉल डिटेल खंगालने के दौरान खुलासा हुआ कि चौबपुर के तीन पुलिसकर्मी विकास दुबे के संपर्क में थे। इसके बाद एसएसपी ने आरोपी दारोगा कुंवर पाल और कृष्ण कुमार शर्मा के साथ कॉन्स्टेबल राजीव को सस्पेंड कर दिया है और इन तीनों पुलिसकर्मियों के खिलाफ जांच शुरू हो गई है।

 

कानपुर। कानपुर एनकाउंटर मामले का मुख्य आरोपी विकास दुबे अभी पुलिस की गिरफ्त से दूर है। पुलिस आरोपी की तलाश करने में जुटी है। इस बीच विकास दुबे का साथ देने वाले पुलिसकर्मियों पर शिकंजा कसना शुरू हो गया है। बदमाश विकास दुबे के संपर्क में चौबेपुर पुलिस थाने के दो दारोगा और एक सिपाही थे। इनकी कॉल डिटेल से खुलासा हुआ है। इसके बाद दारोगा कुंवर पाल और कृष्ण कुमार शर्मा समेत सिपाही राजीव को एसएसपी ने सस्पेंड कर दिया है और मामले की जांच शुरू हो गई है। बता दें कि, रविवार को विकास दुबे का करीबी दयाशंकर अग्निहोत्री पकड़ा गया था, जिसने पूछताछ में कबूला था पुलिसकर्मियों पर विकास दुबे ने ही गोली चलायी थी। दयाशंकर ने बताया था कि पुलिस की छापेमारी की खबर विकास को थाने से पता चली थी, जिसके बाद विकास ने 25-30 लोगों को बुलाया था। यह सभी लोग हथियारों से लैस थे। इस खुलासे के बाद पुलिस ने उन पुलिसकर्मियों की तलाश शुरू कर दी थी, जो विकास दुबे के संपर्क में थे। चौबेपुर पुलिस थाने के सभी पुलिसकर्मियों के कॉल डिटेल खंगाले गए। कॉल डिटेल खंगालने के दौरान खुलासा हुआ कि चौबपुर के तीन पुलिसकर्मी विकास दुबे के संपर्क में थे। इसके बाद एसएसपी ने आरोपी दारोगा कुंवर पाल और कृष्ण कुमार शर्मा के साथ कॉन्स्टेबल राजीव को सस्पेंड कर दिया है और इन तीनों पुलिसकर्मियों के खिलाफ जांच शुरू हो गई है।