बच्चे दे रहे थे परीक्षा, स्कूल में बज रहा था बैंड-बाजा

कानपुर: बेगानी शादी में कभी अस्पताल में भर्ती मरीज तो कभी सरकारी स्कूल के बच्चे मुहाल हो रहे है। बीते दिनों कानपुर के जिला महिला अस्पताल को बारातशाला में तब्दील किये जाने का मामला अभी ठण्डा भी नहीं पड़ा था कि नगर निगम के ज़ोन 5 में बना परिषदीय प्राथमिक विद्यालय में परीक्षा के दौरान बरात उठाई गई और जम कर ढोल ताशे बजे इस दौरान परीक्षार्थी कान में उंगली डाले परीक्षा देने को मजबूर दिखे । मीडिया द्वारा मामला संज्ञान में आने पर जिला प्रशासन ने इसपर कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए है ।



कानो में उंगली डाले परीक्षा दे रहे बच्चे कान फाडू ढोल ताशो की आवाज में परीक्षा देने को मजबूर है क्योकि स्कूल से बरात उठाई जा रही थी । कानपुर नगर निगम के ज़ोन 5 में बना परिषदीय प्राथमिक सरकारी स्कूल खलासी लाइन क्षेत्र में आज एक बरात का जनवासा बना हुआ है लेकिन स्कूल की प्रिंसिपल इस बरात के धूमधड़ाके को बच्चो का एन्जॉयमेंट बता रही है । परिषदीय स्कूल की प्रिंसिपल सुचिता देवी ने बताया कि स्कूल से बरात उठ रही है क्योकि स्कूल किराए के मकान में है और आज शादी का माहौल है और शादी के माहौल में म्यूजिक तो बजता ही है जिसमे बच्चे भी एन्जॉय कर लेते है ।

स्कूल में परीक्षा दे रहे बच्चो से जब इस शोर शराबे के बीच चल रही परीक्षा के बारे में बात की तो उन्होंने अपनी दिक्कते बयां कर दी । बच्चो ने बताया कि ढोल की आवाजो से परीक्षा देने में बहुत दिक्कते आ रही है कान में उंगली डाल कर मजबूरी में परीक्षा दे रहे है । स्कूल में परीक्षा के दौरान ढोल ताशो की थापे बजने के मामले को मीडिया ने जब उठाया तो जिला प्रशासन तुरंत हरकत में आ गया । जिलाधिकारी ने मामले में बेसिक शिक्षा अधिकारी को तुरंत जांच के आदेश देकर कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिए है ।