कानपुर में कोरोना पॉजिटिव जमातियों ने प्रशासन की बढ़ाई मुश्किलें, आठ जोन रेड घोषित

corona virus

कानपुर: दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में हुए जलसे में शामिल तब्लीगी जमाती कानपुर प्रशासन की मुश्किले बढ़ा रहे हैं। प्रशासन को जानकारी मिल रही है कि यहां पर करीब आधा सैकड़ा से ज्यादा जमाती ठहरे थे। इनमें आठ विदेशी सहित 31 को पकड़ा जा चुका है पर अभी भी इससे ज्यादा जमातियों की जानकारी नहीं मिल पा रही है। वहीं दो विदेशियों सहित छह जमातियों के कोराना पॉजिटिव मिलने से प्रशासन से लेकर स्वास्थ्य महकमा भी परेशान हैं। खुफिया जानकारी के अनुसार पुलिस इन जमातियों को खोजने में जुटी हैं। वहीं प्रशासन ने सख्त कदम उठाते हुए जहां पर यह जमाती ठहरे थे उन आठ इलाकों को रेड जोन घोषित कर दिया है। इन इलाकों की ड्रोन से निगरानी हो रही है और जो भी लॉकडाउन का उल्लंघन करते पकड़ा गया उसे भारी जुर्माना देना पड़ेगा। इसके साथ ही प्रशासन ने जनता से भी अपील की है कि रेड जोन घोषित इलाकों में न जायें।

Kanpur News :

गौरतलब है कि तेलंगाना में छह लोगों की मौत के बाद जब उनकी ट्रैवल हिस्ट्री निकाली गयी तो पता चला कि यह लोग दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में हुए जलसे में शामिल होने गये थे। यह सभी तब्लीगी जमात के सदस्य हैं और इस्लाम के प्रचार प्रसार के लिए जलसे में शामिल होने गये थे। यहां पर कई देशों के तब्लीगी जमाती भी आये हुए थे और देश के अलग-अलग शहरों में इस्लाम के प्रचार-प्रसार के लिए निकल गये हैं। इसके बाद से पूरे देश में भारतीय और विदेशी तब्लीगी जमातियों की खोज शुरु हुई। इसमें अब तक कानपुर प्रशासन ने भी आठ विदेशी सहित 31 तब्लीगी जमातियों को विभिन्न मस्जिदों से खोज निकाला है।

खुफिया जानकारी मिल रही है कि अभी इससे ज्यादा तब्लीगी जमाती शहर में आये थे और उन्हे खोजा जाये। इसी बीच दो विदेशी सहित आठ तब्लीगी जमाती कोरोना पॉजिटिव पाये गये तो प्रशासन और स्वास्थ्य महकमे में परेशानियों का पहाड़ टूट पड़ा। प्रशासन अब किसी भी सूरत में इन जमातियों को खोजने में जुट गया है और साथ ही इनकी ट्रैवल हिस्ट्री भी खंगाल रहा है। प्रशासन को अब तक पता चला है कि जनपद के आठ इलाकों में जमातियों का अड्डा रहा है। इसको लेकर प्रशासन ने इन सभी इलाकों को रेड जोन घोषित कर दिया है। प्रशासन ने ’जमात’ का संक्रमण रोकने के लिए नगर के छह और ग्रामीण क्षेत्र के दो इलाकों में रेड जोन का बैरियर लगा दिया है। इन जगहों पर लोगों की आवाजाही रोक दी गई है।

कानपुर: दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में हुए जलसे में शामिल तब्लीगी जमाती कानपुर प्रशासन की मुश्किले बढ़ा रहे हैं। प्रशासन को जानकारी मिल रही है कि यहां पर करीब आधा सैकड़ा से ज्यादा जमाती ठहरे थे। इनमें आठ विदेशी सहित 31 को पकड़ा जा चुका है पर अभी भी इससे ज्यादा जमातियों की जानकारी नहीं मिल पा रही है। वहीं दो विदेशियों सहित छह जमातियों के कोराना पॉजिटिव मिलने से प्रशासन से लेकर स्वास्थ्य महकमा भी परेशान हैं। खुफिया जानकारी के अनुसार पुलिस इन जमातियों को खोजने में जुटी हैं। वहीं प्रशासन ने सख्त कदम उठाते हुए जहां पर यह जमाती ठहरे थे उन आठ इलाकों को रेड जोन घोषित कर दिया है। इन इलाकों की ड्रोन से निगरानी हो रही है और जो भी लॉकडाउन का उल्लंघन करते पकड़ा गया उसे भारी जुर्माना देना पड़ेगा। इसके साथ ही प्रशासन ने जनता से भी अपील की है कि रेड जोन घोषित इलाकों में न जायें। गौरतलब है कि तेलंगाना में छह लोगों की मौत के बाद जब उनकी ट्रैवल हिस्ट्री निकाली गयी तो पता चला कि यह लोग दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में हुए जलसे में शामिल होने गये थे। यह सभी तब्लीगी जमात के सदस्य हैं और इस्लाम के प्रचार प्रसार के लिए जलसे में शामिल होने गये थे। यहां पर कई देशों के तब्लीगी जमाती भी आये हुए थे और देश के अलग-अलग शहरों में इस्लाम के प्रचार-प्रसार के लिए निकल गये हैं। इसके बाद से पूरे देश में भारतीय और विदेशी तब्लीगी जमातियों की खोज शुरु हुई। इसमें अब तक कानपुर प्रशासन ने भी आठ विदेशी सहित 31 तब्लीगी जमातियों को विभिन्न मस्जिदों से खोज निकाला है। खुफिया जानकारी मिल रही है कि अभी इससे ज्यादा तब्लीगी जमाती शहर में आये थे और उन्हे खोजा जाये। इसी बीच दो विदेशी सहित आठ तब्लीगी जमाती कोरोना पॉजिटिव पाये गये तो प्रशासन और स्वास्थ्य महकमे में परेशानियों का पहाड़ टूट पड़ा। प्रशासन अब किसी भी सूरत में इन जमातियों को खोजने में जुट गया है और साथ ही इनकी ट्रैवल हिस्ट्री भी खंगाल रहा है। प्रशासन को अब तक पता चला है कि जनपद के आठ इलाकों में जमातियों का अड्डा रहा है। इसको लेकर प्रशासन ने इन सभी इलाकों को रेड जोन घोषित कर दिया है। प्रशासन ने ’जमात’ का संक्रमण रोकने के लिए नगर के छह और ग्रामीण क्षेत्र के दो इलाकों में रेड जोन का बैरियर लगा दिया है। इन जगहों पर लोगों की आवाजाही रोक दी गई है।