1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. कन्या पूजन 2022: जानिए इस शुभ दिन का तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व

कन्या पूजन 2022: जानिए इस शुभ दिन का तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व

कन्या पूजन 2022: चैत्र नवरात्रि के आखिरी दो दिनों यानी अष्टमी और नवमी को श्रद्धालु कन्या पूजन करते हैं. जानिए कन्या पूजन की तिथि, समय और पूजा विधि के बारे में।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

चैत्र नवरात्रि नौ दिनों का त्योहार है जो मार्च या अप्रैल के महीने में आता है। इस त्योहार में भक्त मां दुर्गा के नौ अवतारों की पूजा करते हैं। वसंत नवरात्रि और राम नवरात्रि के रूप में भी जाना जाता है, चैत्र नवरात्रि 2 अप्रैल को शुरू हुई और 2022 में 11 अप्रैल को समाप्त होगी। चैत्र नवरात्रि के अंतिम दो दिनों में, यानी अष्टमी और नवमी, भक्त कन्या पूजन करते हैं। कन्या पूजन की तिथि, समय और पूजा विधि देखें।

पढ़ें :- 1 फरवरी 2023 राशिफल: इन 3 राशि के जातकों को आज का दिन रहेगा भाग्यशाली, इन्हें मिलेगा बड़ा धन लाभ

कन्या पूजन 2022: तिथि और समय

नवरात्रि के दौरान किसी भी दिन कन्या पूजा की जा सकती है, लेकिन अष्टमी और नवमी को पूजा करना अधिक शुभ माना जाता है। इसलिए 9 या 10 अप्रैल को कन्या पूजन करना शुभ रहेगा।

अष्टमी तिथि शुरू – 08 अप्रैल, 2022 को रात 11:05 बजे

अष्टमी तिथि समाप्त – 01:23 पूर्वाह्न 10 अप्रैल, 2022

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: माघ शुक्ल पक्ष एकादशी, जाने शुभ-अशुभ समय मुहूर्त और राहुकाल...

राम नवमी मध्याह्न मुहूर्त – सुबह 11:07 बजे से दोपहर 01:40 बजे तक

अवधि – 02 घंटे 32 मिनट

राम नवमी मध्याह्न क्षण – दोपहर 12:23 बजे

नवमी तिथि प्रारंभ – 01:23 पूर्वाह्न 10 अप्रैल, 2022

नवमी तिथि समाप्त – 11 अप्रैल, 2022 को 03:15 AM

पढ़ें :- फरवरी मा​​​ह में विवाह के हैं 13 शुभ मुहूर्त, गृह प्रवेश, मुंडन व वाहन खरीद की नोट कर लें शुभ घड़ी?

सुकर्मा को अधिकांश शुभ कार्यों के लिए अच्छा माना जाता है।

सुकर्मा योग प्रारंभ: 11:25 पूर्वाह्न, 09 अप्रैल

सुकर्मा योग समाप्त: 12:04 अपराह्न, 10 अप्रैल

अभिजीत मुहूर्त दोपहर के समय का शुभ मुहूर्त है, जो लगभग 48 मिनट तक रहता है।

अभिजीत मुहूर्त: 9 अप्रैल को सुबह 11:57 बजे से दोपहर 12:48 बजे तक

कन्या पूजन 2022: पूजा विधि

पढ़ें :- 31 जनवरी 2023 राशिफल: मेष राशि के जातकों को होगा अच्छा मुनाफा, जाने अपनी राशि का हाल

लोकप्रिय मान्यताओं के अनुसार, 2 से 10 साल की उम्र की 9 लड़कियों को भोज के लिए बुलाया जाता है क्योंकि यह संख्या मां दुर्गा के 9 अवतारों का प्रतिनिधित्व करती है।

एक छोटे लड़के को नौ लड़कियों के साथ एक साथ रखने की प्रथा है। बालक को भैरव बाबा का रूप या लंगूर कहा जाता है।

भोजन प्रातः स्नान करने के बाद ही करना चाहिए।

कन्याओं के पैर धोना भी जरूरी है।

उनके माथे पर रोली लगाई जाती है। उनकी कलाई पर पवित्र धागा बांधा जाता है।

इसके बाद ही कन्याओं को बिठाकर भोजन कराएं।

लड़कियों को छोड़ते समय उन्हें अनाज, पैसे या कपड़े दिए जाते हैं। और बदले में उनसे आशीर्वाद मांगें क्योंकि उन्हें देवी का रूप माना जाता है।

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: माघ शुक्ल पक्ष दशमी, जाने शुभ-अशुभ समय मुहूर्त और राहुकाल...

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...