इन शर्तों के साथ खत्म हुई करन जौहर के दिल की मुश्किल

मुंबई। पाकिस्तानी कलाकार फवाद खान अभिनित फिल्म ऐ दिल है मुश्किल की रिलीज को आखिरकार छूट मिल गई है, लेकिन यह छूट कुछ शर्तों के साथ मिली है। फिल्म को रिलीज करवाने के लिए शनिवार को करन जौहर, मुकेश भट्ट समेंत फिल्म इंडस्ट्री के कुछ कद्दावर लोगों ने मनसे प्रमुख राज ठाकरे और सीएम देवेन्द्र फडनवीस से मुलाकात की। जिसके बाद कुछ शर्तों के साथ राज ठाकरे ने फिल्म की रिलीज पर किसी प्रकार का विरोध दर्ज न करवाने की बात कही है।




फिल्म की रिलीज के लिए सामने रखी गई शर्तों में सबसे पहली शर्त रखी गई कि फिल्म शुरू होने से पहले उरी हमले के शहीदों के सम्मान के लिए एक संदेश दिखाया जाएगा। दूसरी शर्त के अनुसार फिल्म निर्माता को 5 करोड़ रूपए आर्मी वेलफेयर फंड में जमा करवाना होगा। तीसरी और सबसे अहम शर्त भविष्य में पाकिस्तानी कलाकारों को फिल्मों में न लिये जाने को लेकर रखी गई है।

मिली जानकारी के मुताबिक राज ठाकरे ने वार्ता के लिए फिल्म इंडस्ट्री का नेतृत्व कर रहे दल के सामने स्पष्ट रूप से कहा ​है कि उनकी पार्टी रिलीज के लिए तैयार उन फिल्मों का विरोध नहीं करेगी जिनमें पाकिस्तानी कलाकारों ने काम किया है। लेकिन सभी को इन शर्तों का पालन करना होगा।




आपको बता दें कि शनिवार की मुलाकात के बाद करन जौहर ने स्पष्ट कर दिया है कि वे भविष्य में किसी पाकिस्तानी टेलेन्ट को अपनी फिल्म में मौका नहीं देंगे। उनकी दिवाली पर रिलीज होने जा रही ​फिल्म ऐ दिल है मुश्किल में फवाद खान और इमरान अब्बास नकवी ने काम किया है। उरी हमले के बाद पाकिस्तान वापस लौटे फवाद खान ने करांची हवाई अड्डे पर जिस तरह से नेशन फर्स्ट कहकर भारत में अपने विरोधियों को उनकी फिल्म के विरोध को एक वजह दे दी थी।