कर्नाटक चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा दांव, लिंगायत समुदाय को अलग धर्म की मान्यता

कर्नाटक चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा दांव, लिंगायत समुदाय को अलग धर्म की मान्यता
कर्नाटक चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा दांव, लिंगायत समुदाय को अलग धर्म की मान्यता

Karnataka Cabinet Approves Separate Religion Tag For Lingayats

बेंगलुरू। कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले राज्य मंत्रिमंडल ने सोमवार को हिंदू धर्म के लिंगायत पंथ को एक अलग धर्म के रूप में मान्यता देने पर सहमति जताई। राज्य के कानून मंत्री टी.बी. जयचंद्र ने यह जानकारी दी। जयचंद्र ने मंत्रिमंडल की बैठक के बाद पत्रकारों से कहा, “कर्नाटक राज्य अल्पसंख्यक आयोग की अनुशंसा पर, राज्य मंत्रिमंडल ने सर्वसम्मति से लिंगायत और वीरशैव लिंगायत को धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा देने का फैसला किया है।” शिव की पूजा करने वाले लिंगायत और वीरशैव लिंगायत दक्षिण भारत में सबसे बड़ा समुदाय हैं।

निर्णायक भूमिका में हैं लिंगायत

कर्नाटक में लिंगायत समुदाय के लोगों की संख्या राज्य की कुल आबादी की 17 से 18 फीसदी है। बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्पा भी इसी समुदाय से आते हैं। बीजेपी ने विवादित येदियुरप्पा को सीएम पद का दावेदार बनाकर इस समुदाय को लुभाने की कोशिश की थी। हालांकि, अब कांग्रेस ने नया दांव खेला है। राजनीतिक कारणों की वजह से बीजेपी कांग्रेस के इस कदम का विरोध कर रही है। इससे लिंगायतों के बीजेपी से रूठकर कांग्रेस के खेमे में जाने की अटकलें लगाई जा रही हैं।

भाजपा कर रही विरोध

भाजपा और हिंदू समाज के कई वर्गों ने इस फैसले का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक फायदे के लिए सिद्धारमैया सरकार समाज को बांट रही है। राज्य में दो महीने बाद चुनाव हैं, इसलिए यह फैसला लिया गया। मालूम हो कि राज्य में भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार वाईएस येदियुरप्पा भी इसी समुदाय से आते हैं।

बेंगलुरू। कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले राज्य मंत्रिमंडल ने सोमवार को हिंदू धर्म के लिंगायत पंथ को एक अलग धर्म के रूप में मान्यता देने पर सहमति जताई। राज्य के कानून मंत्री टी.बी. जयचंद्र ने यह जानकारी दी। जयचंद्र ने मंत्रिमंडल की बैठक के बाद पत्रकारों से कहा, "कर्नाटक राज्य अल्पसंख्यक आयोग की अनुशंसा पर, राज्य मंत्रिमंडल ने सर्वसम्मति से लिंगायत और वीरशैव लिंगायत को धार्मिक अल्पसंख्यक का दर्जा देने का फैसला किया है।" शिव की पूजा करने वाले लिंगायत और…