कर्नाटक कैडर के IAS अनुराग तिवारी की संदिग्ध हालात में मौत

लखनऊ: लखनऊ में बुधवार सुबह 2007 के कर्नाटक कैडर के भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के एक अधिकारी का शव संदिग्ध परिस्थितियों में पाया गया। पुलिस ने बताया कि मृतक अधिकारी अनुराग तिवारी बहराइच जिले के रहने वाले थे और उनका शव सरकारी मीराबाई वीआईपी गेस्ट हाउस के पास बरामद हुआ।



एक अधिकारी ने बताया कि अभी तिवारी की मौत का पता नहीं चल सका है। शव पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। पुलिस तिवारी की मौत के कारणों की जांच के लिए आसपास के इलाकों के सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। पुलिस ने इसके बारे में और अधिक जानकारी देने से इनकार करते हुए पुष्टि की कि अधिकारी की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई।

आईएएस अनुराग तिवारी 2007 बैच के थे। उन्होंने ड़ॉ.एपीजे अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी से संबद्ध लखनऊ स्थित इंस्टीट्यूट अॉफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (आईईटी) से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बीटेक किया था। बचपन से ही मेधावी अनुराग ने बीटेक करने के बाद सिविल सर्विसेज में सफलता पाई और उन्हें आईएएस में कर्नाटक कैडर मिला। वे इस समय कर्नाटक के खाद्य एवं आपूर्ति विभाग में आयुक्त के पद पर तैनात थे। इससे पहले वे उप सचिव (वित्त), मधुगिरि के सहायक आयुक्त, कोडागु के उपायुक्त के रूप में भी काम संभाल चुके थे।




अनुराग तिवारी की मौत के बाद वजह तलाशने की कोशिश हो रही है। बताया जा रहा है कि उनके पारिवारिक संबंध ठीक नहीं थे। इस वजह से वह अक्सर डिप्रेशन में रहते थे। हालांकि, मौत किन वजहों से हुई है, ये अभी तक साफ नहीं हो पाया है। उनकी पत्नी से भी संबंधों में खटास की बात सामने आ रही है। इसके अलावा पारिवारिक उम्मीदों व महत्वाकांक्षाओं के द्वंद्व भी चर्चा में है। अनुराग की पत्नी बैंक में नौकरी करती हैं। माता-पिता भी सरकारी नौकरी में रहे हैं।