विधानसभा में बोले कर्नाटक सीएम कुमारस्वामी, राज्यपाल ने फिर से भेजा है ‘प्रेमपत्र’

hd kumarswami
विधानसभा में बोले कर्नाटक सीएम कुमारस्वामी, राज्यपाल ने फिर से भेजा है 'प्रेमपत्र'

नई दिल्ली। कर्नाटक में मौजूदा कुमारस्वामी सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। इस बीच राज्यपाल ने मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को फिर से एक पत्र लिखा है। ये पत्र मिलने के बाद कुमारस्वामी ने कहा है कि राज्यपाल ने उन्हे एक और प्रेमपत्र भेजा है, जिसमें उन्होने शाम छह बजे तक बहुमत साबित करने की बात लिखी है।

Karnataka Cm Coomaraswamy Speaks In Assembly Governor Has Again Sent Love Letter :

बता दें कि कुमारस्वामी ने कर्नाटक भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा के निजी सहयोगी संतोष की निर्दलीय विधायक एच नागेश के साथ कथित तौर पर विमान में चढ़ते हुए एक तस्वीर दिखाते हुए कहा, ‘मैं राज्यपाल का सम्मान करता हूं। लेकिन, राज्यपाल द्वारा भेजे गए दूसरे प्रेमपत्र से मुझे दुख पहुंचा है। उन्हें विधायकों की खरीद-फरोख्त का पता केवल 10 दिन पहले चला?’

एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि राज्यपाल ने अपने दूसरे पत्र में विधायकों की खरीद—फरोख्त की बात लिखी है। उन्होने कहा कि क्या अभी राज्यपाल महोदय इस बात से अनभिज्ञ थे। उन्होंने कहा, ‘फ्लोर टेस्ट पर निर्णय मैं आप पर (स्पीकर) छोड़ता हूं। इसे दिल्ली से निर्देशित नहीं किया जाएगा। मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप मुझे राज्यपाल द्वारा भेजे गए पत्र से बचाएं।’

नई दिल्ली। कर्नाटक में मौजूदा कुमारस्वामी सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। इस बीच राज्यपाल ने मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को फिर से एक पत्र लिखा है। ये पत्र मिलने के बाद कुमारस्वामी ने कहा है कि राज्यपाल ने उन्हे एक और प्रेमपत्र भेजा है, जिसमें उन्होने शाम छह बजे तक बहुमत साबित करने की बात लिखी है। बता दें कि कुमारस्वामी ने कर्नाटक भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा के निजी सहयोगी संतोष की निर्दलीय विधायक एच नागेश के साथ कथित तौर पर विमान में चढ़ते हुए एक तस्वीर दिखाते हुए कहा, 'मैं राज्यपाल का सम्मान करता हूं। लेकिन, राज्यपाल द्वारा भेजे गए दूसरे प्रेमपत्र से मुझे दुख पहुंचा है। उन्हें विधायकों की खरीद-फरोख्त का पता केवल 10 दिन पहले चला?' एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि राज्यपाल ने अपने दूसरे पत्र में विधायकों की खरीद—फरोख्त की बात लिखी है। उन्होने कहा कि क्या अभी राज्यपाल महोदय इस बात से अनभिज्ञ थे। उन्होंने कहा, 'फ्लोर टेस्ट पर निर्णय मैं आप पर (स्पीकर) छोड़ता हूं। इसे दिल्ली से निर्देशित नहीं किया जाएगा। मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि आप मुझे राज्यपाल द्वारा भेजे गए पत्र से बचाएं।'