कर्नाटक में गहराता जा रहा है सरकार पर संकट, निर्दलीय विधायक ने मंत्रीपद से दिया इस्तीफा

congress and jds
कर्नाटक में गहराता जा रहा है सरकार पर संकट, निर्दलीय विधायक ने मंत्रीपद से दिया इस्तीफा

नई दिल्ली। कनार्टक में कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन के सरकार पर संकट और गहराता जा रहा है। 13 विधायकों के इस्तीफे के बाद सरकार को बचाने की हर संभव कोशिश जारी है। इस बीच सोमवार को एक और निर्दलीय ​विधायक नागेश ने अपना मंत्रीपद छोड़ दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा भी राज्यपाल को भेजा है। वहीं बागी विधायकों को मनाने के लिए उन्हें मंत्री पद देने का वादा किया जा रहा है। उनके क्षेत्र को स्पेशल पैकेज दिए जाने की भी बात हो रही है।

Karnataka Crisis To Save Government Congress Jds Gave Minister Post Offer To Rebel Mlas :

लेकिन, कांग्रेस के 10 और जेडीएस के 3 विधायकों ने ये ऑफर ठुकरा दिया है। ऐसे में गठबंधन की सरकार पर संकट गहरा गया है। सूत्रों की माने तो सियासी संकट से बचने के लिए कांग्रेस—जेडीएस गठबंधन सरकार अपने मंत्रियों से भी इस्तीफे दिलवा सकती है। कांग्रेस और जेडीएस के 13 विधायकों के इस्तीफे के नतीजतन गठबंधन सरकार के अल्पमत में आने के साथ कर्नाटक वैसी ही राजनीतिक अस्थिरता के मुहाने पर पहुंच गया है, जैसी अस्थिरता वहां सरकार गठन के तुरंत बाद देखी गई थी। हालांकि जेडीएस और कांग्रेस ने सरकार को बचाने की कवायद कर रही है, पर फिलहाल उनकी राह कठिन दिख रही है।

निर्दलीय विधायक नागेश के मंत्री पद छोड़ने के बाद वहां पर और राजीनिक घमासान शुरू हो गया है। कांग्रेस सांसद डीके सुरेश ने कहा कि कांग्रेस के सभी मंत्री अपने पद से इस्तीफा देने वाले हैं। उन्होंने कहा, ‘भाजपा के राष्ट्रीय नेता इसके पीछे हैं। भाजपा किसी विपक्षा पार्टी को राज्य में या देश पर शासन करने देना नहीं चाहती है। वह लोकतंत्र को बर्बाद कर रहे हैं।’

वहीं इस सियासी संकट के बीच कर्नाटक के डिप्टी सीएम जी परमेश्वर ने कहा, मैंने कांग्रेस पार्टी के सभी मंत्रियों को नाश्ते पर बुलाया है ताकि उनसे बर्तमान राजनीतिक हलचल और कमियों के बारे में जानकारी हासिल की जा सके। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा क्या करने की कोशिश कर रही है। यदि जरूरत पड़ी तो हम सब इस्तीफा देंगे।

नई दिल्ली। कनार्टक में कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन के सरकार पर संकट और गहराता जा रहा है। 13 विधायकों के इस्तीफे के बाद सरकार को बचाने की हर संभव कोशिश जारी है। इस बीच सोमवार को एक और निर्दलीय ​विधायक नागेश ने अपना मंत्रीपद छोड़ दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा भी राज्यपाल को भेजा है। वहीं बागी विधायकों को मनाने के लिए उन्हें मंत्री पद देने का वादा किया जा रहा है। उनके क्षेत्र को स्पेशल पैकेज दिए जाने की भी बात हो रही है। लेकिन, कांग्रेस के 10 और जेडीएस के 3 विधायकों ने ये ऑफर ठुकरा दिया है। ऐसे में गठबंधन की सरकार पर संकट गहरा गया है। सूत्रों की माने तो सियासी संकट से बचने के लिए कांग्रेस—जेडीएस गठबंधन सरकार अपने मंत्रियों से भी इस्तीफे दिलवा सकती है। कांग्रेस और जेडीएस के 13 विधायकों के इस्तीफे के नतीजतन गठबंधन सरकार के अल्पमत में आने के साथ कर्नाटक वैसी ही राजनीतिक अस्थिरता के मुहाने पर पहुंच गया है, जैसी अस्थिरता वहां सरकार गठन के तुरंत बाद देखी गई थी। हालांकि जेडीएस और कांग्रेस ने सरकार को बचाने की कवायद कर रही है, पर फिलहाल उनकी राह कठिन दिख रही है। निर्दलीय विधायक नागेश के मंत्री पद छोड़ने के बाद वहां पर और राजीनिक घमासान शुरू हो गया है। कांग्रेस सांसद डीके सुरेश ने कहा कि कांग्रेस के सभी मंत्री अपने पद से इस्तीफा देने वाले हैं। उन्होंने कहा, 'भाजपा के राष्ट्रीय नेता इसके पीछे हैं। भाजपा किसी विपक्षा पार्टी को राज्य में या देश पर शासन करने देना नहीं चाहती है। वह लोकतंत्र को बर्बाद कर रहे हैं।' वहीं इस सियासी संकट के बीच कर्नाटक के डिप्टी सीएम जी परमेश्वर ने कहा, मैंने कांग्रेस पार्टी के सभी मंत्रियों को नाश्ते पर बुलाया है ताकि उनसे बर्तमान राजनीतिक हलचल और कमियों के बारे में जानकारी हासिल की जा सके। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा क्या करने की कोशिश कर रही है। यदि जरूरत पड़ी तो हम सब इस्तीफा देंगे।