कर्नाटक चुनाव आयोग के ब्रांड एम्बेसडर राहुल द्रविड़ का वोटर लिस्ट से कटा नाम, नही कर सकेंगे मतदान

rahul dravid
कर्नाटक चुनाव आयोग के ब्रांड एम्बेसडर राहुल द्रविड़ का वोटर लिस्ट से कटा नाम, नही कर सकेंगे मतदान

नई दिल्ली। एक तरफ तो चुनाव आयोग मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए तरह—तरह के कार्यक्रमों का आयोजन करवा रहा है वहीं दूसरी तरफ उन्ही के कुछ कारिंदे उनके मंसूबों पर पानी फेरने का प्रयास कर रहे हैं। उनकी कारगुजारियों की वजह से मतदाता सूची से वोटरों के नाम ही गायब हो गए। जिससे वो लोग इस बार लोकसभा चुनाव में मतदान नहीं कर सकेंगे।

Karnataka Election Commissions Brand Ambassador Rahul Dravid Namr Cut From Voter List :

बता दें कि भारतीय टीम में पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ इस बार लोकसभा चुनाव में वोट नहीं डाल पाएंगे। यह खबर हैरानी वाली इसलिए है क्योंकि राहुल द्रविड़ खुद इस बार कर्नाटक चुनाव आयोग के एंबेसडर और आइकॉन हैं।

बताया जा रहा हैं कि कुछ समय पहले द्रविड़ का नाम वोटर लिस्ट में नहीं है। दरअसल, कुछ समय पहले उनका नाम लिस्ट से हटाया गया था। उन्होने सही समय पर वोटर लिस्ट में नाम जुड़वाने का आवेदन ही नहीं किया है। नतीजा यह निकला की उनका नाम लिस्ट में दोबारा शामिल नहीं किया गया। इस मामले में चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कहा, ‘हमें हैरानी है कि इस बार द्रविड़ वोट नहीं डाल पाएंगे।’ उनका तर्क ​है कि ये सब इसलिए हुआ है कि उन्होने अपना घर बदला है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक द्रविड़ ने इंदिरानगर छोड़कर आरएमवी एक्सटेंशन के अश्वथनगर में शिफ्ट हुए थे।

नई दिल्ली। एक तरफ तो चुनाव आयोग मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए तरह—तरह के कार्यक्रमों का आयोजन करवा रहा है वहीं दूसरी तरफ उन्ही के कुछ कारिंदे उनके मंसूबों पर पानी फेरने का प्रयास कर रहे हैं। उनकी कारगुजारियों की वजह से मतदाता सूची से वोटरों के नाम ही गायब हो गए। जिससे वो लोग इस बार लोकसभा चुनाव में मतदान नहीं कर सकेंगे।

बता दें कि भारतीय टीम में पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ इस बार लोकसभा चुनाव में वोट नहीं डाल पाएंगे। यह खबर हैरानी वाली इसलिए है क्योंकि राहुल द्रविड़ खुद इस बार कर्नाटक चुनाव आयोग के एंबेसडर और आइकॉन हैं।

बताया जा रहा हैं कि कुछ समय पहले द्रविड़ का नाम वोटर लिस्ट में नहीं है। दरअसल, कुछ समय पहले उनका नाम लिस्ट से हटाया गया था। उन्होने सही समय पर वोटर लिस्ट में नाम जुड़वाने का आवेदन ही नहीं किया है। नतीजा यह निकला की उनका नाम लिस्ट में दोबारा शामिल नहीं किया गया। इस मामले में चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कहा, 'हमें हैरानी है कि इस बार द्रविड़ वोट नहीं डाल पाएंगे।' उनका तर्क ​है कि ये सब इसलिए हुआ है कि उन्होने अपना घर बदला है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक द्रविड़ ने इंदिरानगर छोड़कर आरएमवी एक्सटेंशन के अश्वथनगर में शिफ्ट हुए थे।