कर्नाटक में फंसा बहुमत का पेंच, बीजेपी को रोकने के लिए कांग्रेस ने चला दांव

कर्नाटक , बीजेपी
कर्नाटक में फंसा बहुमत का पेंच, बीजेपी को रोकने के लिए कांग्रेस ने चला दांव
नई दिल्ली। कर्नाटक चुनाव नतीजों में नाटकीय अंदाज़ में बहुमत का पेंच फंस जाने के बाद कांग्रेस बड़ा दांव खेलने जा रही है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस ने बीजेपी को रोकने के लिए बिना शर्त जेडीएस को समर्थन देने का मन बना लिया है। पार्टी के नेता जी। परमेश्वर ने कहा है, 'हम जनादेश को स्वीकार करते हैं। उसके समक्ष नतमस्तक हैं। सरकार बनाने के लिए हमारे पास आंकड़े नहीं है। ऐसे में कांग्रेस ने सरकार बनाने के लिए जेडीएस…

नई दिल्ली। कर्नाटक चुनाव नतीजों में नाटकीय अंदाज़ में बहुमत का पेंच फंस जाने के बाद कांग्रेस बड़ा दांव खेलने जा रही है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस ने बीजेपी को रोकने के लिए बिना शर्त जेडीएस को समर्थन देने का मन बना लिया है। पार्टी के नेता जी। परमेश्वर ने कहा है, ‘हम जनादेश को स्वीकार करते हैं। उसके समक्ष नतमस्तक हैं। सरकार बनाने के लिए हमारे पास आंकड़े नहीं है। ऐसे में कांग्रेस ने सरकार बनाने के लिए जेडीएस को समर्थन देने की पेशकश की है।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए मतगणना जारी है। 222 सीटों के रुझानों में भाजपा भले ही आगे है, पर बहुमत का पेंच फंस रहा है। अब तक भाजपा 108, कांग्रेस 73, जेडीएस 39 व अन्य दो सीटों पर आगे है। शिकारीपुरा सीट से भाजपा के सीएम पद के उम्मीदवार बीएस येद्दियुरप्पा 35397 वोटों से जीत गए हैं। वहीं, चामुंडेश्वरी सीट से सिद्दरमैया हार गए हैं। सिद्दरमैया अपरान्ह चार बजे राज्यपाल से मिलकर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देंगे। इस बीच, जेडीएस की सरकार बनाने के लिए कांग्रेस तैयार हो गई है। जेडीएस को कांग्रेस बाहर से समर्थन दे सकती है।

{ यह भी पढ़ें:- इस बार टॉपर्स के लिए आए लैपटॉप से गायब हो गई मुलायम की तस्वीर }

इस बीच बीजेपी का विजय रथ बहुमत से पहले अटकने की स्थिति में कांग्रेस अपने लिए संभावना देख रही है। कांग्रेस 74 सीटों पर आगे है, जबकि जेडीएस 39 सीटें हासिल करती दिख रही है। ऐसे में कांग्रेस इस रणनीति पर भी काम कर रही है कि जेडीएस को सीएम पद की पेशकश कर सरकार गठित कर ली जाए। दोनों साथ आते हैं तो 113 सीटें हो जाएंगी, जो बहुमत के जादुई आंकड़े से दो सीट अधिक होगा।

{ यह भी पढ़ें:- सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कर्नाटक में हुई लोकतंत्र की जीत: रजनीकांत }

Loading...