1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. Karnataka CM Oath : कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री बने बसवराज बोम्मई, जल्द होगा मंत्रिमंडल विस्तार

Karnataka CM Oath : कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री बने बसवराज बोम्मई, जल्द होगा मंत्रिमंडल विस्तार

Karnataka news कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ( Basavaraj Bommai) को बुधवार को प्रदेश के राज्यपाल थावरचंद गहलोत (Governor Thaawarchand Gehlot) पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई है। शपथ केवल मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई को दिलाई गई। मंत्रिमंडल का विस्तार जल्द किया जाएगा।

By संतोष सिंह 
Updated Date

कर्नाटक। Karnataka CM Oath कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ( Basavaraj Bommai) को बुधवार को प्रदेश के राज्यपाल थावरचंद गहलोत (Governor Thawarchand Gehlot) पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई है। शपथ केवल मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई को दिलाई गई। मंत्रिमंडल का विस्तार जल्द किया जाएगा।

पढ़ें :- PM Modi US Visit: अमेरिका के दौरे के लिए रवाना हुए पीएम मोदी, कही ये अहम बातें
Jai Ho India App Panchang

बीएस येदियुरप्पा (BS Yediyurappa) के इस्तीफे के बाद मंगलवार देर शाम को केंद्रीय पर्यवेक्षकों धर्मेंद्र प्रधान(Central Supervisors Dharmendra Pradhan), जी किशन रेड्डी (G Kishan Reddy) और कर्नाटक भाजपा प्रभारी अरुण सिंह (Karnataka BJP in-charge Arun Singh )की देखरेख में भाजपा विधायक दल की बैठक में येदियुरप्पा ने अपने करीबी और लिंगायत समुदाय (Lingayat community) से आने वाले राज्य के गृहमंत्री बोम्मई के नाम का प्रस्ताव रखा, जिन्हें सर्वसम्मति से नेता चुन लिया गया।

2023 के चुनाव विधानसभा में सत्ता साधने की कोशिश

कर्नाटक में लिंगायत समुदाय की आबादी करीब 17 फीसदी है। 224 सदस्यीय विधानसभा में 100 से ज्यादा सीटों पर लिंगायत समुदाय का प्रभाव है। ऐसे में बीजेपी ने येदियुरप्पा को हटाकर लिंगायत समुदाय के ही किसी व्यक्ति को नया सीएम बनाकर 2023 में होने वाले चुनाव में सत्ता साधने की कोशिश की है।

सादर लिंगायत समुदाय से आने वाले बसवराज पेशे से मैकेनिकल इंजीनियर हैं। खेती से जुडे़ होने के नाते कर्नाटक के सिंचाई मामलों का जानकार माना जाता है। राज्य में कई सिंचाई परियोजनाएं शुरू करने की वजह से उनकी सराहना की जाती है। उन्हें अपने विधानसभा क्षेत्र में भारत की पहली 100 फीसदी पाइप सिंचाई परियोजना लागू करने का श्रेय भी दिया जाता है। उनके पिता एसआर बोम्मई भी कर्नाटक के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। बसवराज 2008 में भाजपा में शामिल हुए और तभी लगातार पार्टी में ऊपर चढ़ते चले गए। वह पहले राज्य सरकार में जल संसाधन मंत्री रहे हैं। उन्होंने अपने राजनीतिक कॅरियर की शुरुआत जनता दल के साथ की थी।

पढ़ें :- आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा काट सकती है विधायकों के टिकट, ढूंढा सत्ता विरोधी लहर की काट

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...