1. हिन्दी समाचार
  2. कर्नाटक: पूर्व डिप्टी CM के ठिकानों पर छापेमारी जारी, अब तक 5 करोड़ रुपये बरामद

कर्नाटक: पूर्व डिप्टी CM के ठिकानों पर छापेमारी जारी, अब तक 5 करोड़ रुपये बरामद

By बलराम सिंह 
Updated Date

Karnataka Raids Continue On Former Deputy Cms Bases Rs 5 Crore Recovered So Far

नई दिल्ली। कर्नाटक के पूर्व उप मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जी परमेश्वर के ठिकानों पर गुरुवार से चल रही आयकर विभाग की छापेमारी आज भी जारी है। उनके ट्रस्ट द्वारा संचालित मेडिकल कॉलेज में कुछ अनियमितताएं पाई गई हैं। आयकर विभाग ने छापेमारी में लगभग पांच करोड़ रुपए की नकदी जब्त की है। आयकर अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। इससे पहले गुरुवार को आयकर विभाग के 300 से अधिक कर्मियों ने कर्नाटक में कांग्रेस के दो बड़े नेताओं-पूर्व उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर और पूर्व सांसद आर एल जलप्पा के बेटे राजेंद्र के प्रतिष्ठानों पर छापेमारी की थी।

पढ़ें :- नारदा स्टिंग केस: चार नेताओं की गिरफ्तारी के बाद सियासी भूचाल, टीएमसी ने राज्यपाल पर उठाया सवाल

आपको बता दें कि परमेश्वर का परिवार सिद्धार्थ ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूशंस का संचालन करता है। इसकी स्थापना परमेश्वर के पिता एच एम गंगाधरैया ने 58 साल पहले की थी। परमेश्वर से संबंधित कार्यालय, आवास और संस्थानों पर छापा मारने के साथ ही अधिकारियों ने उनके भाई जी शिवप्रसाद और निजी सहायक रमेश के आवास की भी तलाशी ली गई थी। राजेंद्र दोद्दाबल्लापुरा और कोलार में आर एल जलप्पा इंस्टिट्यूट चलाते हैं।

अधिकारियों ने बताया कि नीट परीक्षाओं से जुड़े मामले में करोड़ों रुपये की कर चोरी के संबंध में परमेश्वर और अन्य के ठिकानों पर यह छापेमारी की गई है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में विभिन्न स्थानों और राजस्थान के कुछ हिस्सों में कुल 30 परिसरों पर छापेमारी की जा रही है जिसमें 300 से अधिक आयकर अधिकारी शामिल हैं।

आयकर विभाग ने तुमकुर में एक न्यास के दो मेडिकल कॉलेजों में नीट की परीक्षाओं में कथित अनियमितताओं पर अंकुश लगाने के लिए यह कदम उठाया है। बताया जाता है कि परमेश्वर श्री सिद्धार्थ एजुकेशन ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं। अधिकारियों ने बताया कि नीट की परीक्षा में किसी अन्य के स्थान पर परीक्षा देने से संबंधित कथित फर्जीवाड़े और सीटें पाने के लिए कथित रूप से अवैध भुगतान करने की बात सामने आने पर विभाग हरकत में आया। उन्होंने कहा कि परीक्षा में दूसरों के स्थान पर बैठने वालों का पता लगाने के लिए राजस्थान में तलाशी की जा रही है।

छापेमारी के बीच बेंगलुरु पहुंचे परमेश्वर ने बेंगलुरु में कहा कि उनके पास इस बारे में कोई सूचना नहीं है कि छापेमारी क्यों की जा रही है। उन्होंने कहा कि मेरे पास कोई सूचना नहीं है कि छापेमारी क्यों की जा रही है। मुझे आयकर अधिकारियों ने बुलाया है, इसलिए उनसे मिलने आया हूं। परमेश्वर मई, 2018 से जुलाई, 2019 तक कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री थे।

पढ़ें :- डब्ल्यू.वी. रमन को समर्थन दे रहे है पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X