चार सितम्बर को भारत और पाकिस्तान के बीच बैठक, जानिए क्या होगा मुद्दा

b

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच जारी तनाव के बीच करतारपुर कॉरिडॉर को लेकर बैठक की खबर है। विदेश मंत्रालय के हवाले से खबर है कि करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत और पाकिस्तान के प्रतिनिधियों के बीच 4 सितंबर को बैठक होने वाली है।

Kartarpur Corridor Indian And Pakisani Officals To Meet For 3rd Time On 4th September :

दोनों देशों ने पुष्टि की है कि वह 4 सितंबर बुधवार को करतारपुर गलियारे के अंतिम तौर-तरीकों को पूरा करने के लिए मिलेंगे। यह बैठक इस बार भारत में अटारी पर होने वाली है। बैठक का समय सुबह 10.30 बजे निर्धारित किया गया है। करतारपुर कॉरिडोर को लेकर नई दिल्ली ने बातचीत का प्रस्ताव रखा था।

भारत और पाकिस्तान के प्रतिनिधिन करतारपुर कॉरिडोर को लेकर तीसरी बार बातचीत करने जा रहे है। करतारपुर कॉरिडॉर के बनने से लाखों तीर्थयात्रियों को पवित्र करतारपुर गुरुद्वारे में दर्शन कर सकेंगे। करतारपुर कॉरिडोर को लेकर इस साल अटारी में पहले चरण की बैठक हुई थी। इसके बाद वाघा में जुलाई में भी बैठक हुई थी।

दूसरे चरण की बातचीत 14 जुलाई को पाकिस्तान के वाघा में हुई थी। उस वक्त पाकिस्तान ने पुरानी रावी क्रीक पर ब्रिज बनाने पर सहमति व्यक्त की थी जिससे की गुरुद्वारा करतारपुर साहिब में पूरे साल तीर्थयात्रा करने की अनुमति होगी। करतारपुर कॉरिडोर पर पाकिस्तानी और भारतीय दोनों तरफ क ाम जोरों पर है।

नवंबर 2018 में भारत, पाकिस्तान ने पंजाब के गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक को सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक के अंतिम विश्राम स्थल करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब को जोडऩे वाली एक सीधी सीमा.पार स्थापना की घोषणा की। करतारपुर डेरा बाबा नानक से लगभग चार किमी दूर रावी नदी के पार पाकिस्तान के नरोवाल जिले में स्थित है।

नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच जारी तनाव के बीच करतारपुर कॉरिडॉर को लेकर बैठक की खबर है। विदेश मंत्रालय के हवाले से खबर है कि करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत और पाकिस्तान के प्रतिनिधियों के बीच 4 सितंबर को बैठक होने वाली है। दोनों देशों ने पुष्टि की है कि वह 4 सितंबर बुधवार को करतारपुर गलियारे के अंतिम तौर-तरीकों को पूरा करने के लिए मिलेंगे। यह बैठक इस बार भारत में अटारी पर होने वाली है। बैठक का समय सुबह 10.30 बजे निर्धारित किया गया है। करतारपुर कॉरिडोर को लेकर नई दिल्ली ने बातचीत का प्रस्ताव रखा था। भारत और पाकिस्तान के प्रतिनिधिन करतारपुर कॉरिडोर को लेकर तीसरी बार बातचीत करने जा रहे है। करतारपुर कॉरिडॉर के बनने से लाखों तीर्थयात्रियों को पवित्र करतारपुर गुरुद्वारे में दर्शन कर सकेंगे। करतारपुर कॉरिडोर को लेकर इस साल अटारी में पहले चरण की बैठक हुई थी। इसके बाद वाघा में जुलाई में भी बैठक हुई थी। दूसरे चरण की बातचीत 14 जुलाई को पाकिस्तान के वाघा में हुई थी। उस वक्त पाकिस्तान ने पुरानी रावी क्रीक पर ब्रिज बनाने पर सहमति व्यक्त की थी जिससे की गुरुद्वारा करतारपुर साहिब में पूरे साल तीर्थयात्रा करने की अनुमति होगी। करतारपुर कॉरिडोर पर पाकिस्तानी और भारतीय दोनों तरफ क ाम जोरों पर है। नवंबर 2018 में भारत, पाकिस्तान ने पंजाब के गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक को सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक के अंतिम विश्राम स्थल करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब को जोडऩे वाली एक सीधी सीमा.पार स्थापना की घोषणा की। करतारपुर डेरा बाबा नानक से लगभग चार किमी दूर रावी नदी के पार पाकिस्तान के नरोवाल जिले में स्थित है।