करतारपुर : पाकिस्तानी सेना ने अपने पीएम के फैसले को पलटा, कहा-भारतीयों के लिए पासपोर्ट जरूरी

kartarpur
करतारपुर : पाकिस्तानी सेना ने अपने पीएम के फैसले को पलटा, कहा-भारतीयों के लिए पासपोर्ट जरूरी

नई दिल्ली। करतारपुर कॉरिडोर को लेकर पाक सेना ने अपने ही प्रधानमंत्री इमरान खान के फैसले को पलट दिया है। पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर के अनुसार अब सिख तीर्थ यात्रियों को करतारपुर कॉरिडोर का प्रयोग करने के लिए भारतीय पासपोर्ट की आवश्यकता होगी। वहीं, इससे पहले पाक पीएम इमरान खान ने ट्वीट कर कहा था कि, करतारपुर कॉरिडोर को प्रयोग करने के लिए पासपोर्ट की आवश्यकता नहीं होगी।

Kartarpur Pakistan Army Reverses Its Pms Decision Saying Passport Is Necessary For Indians :

इससे पहले इमरान ने कुछ दिन पहले ट्वीट करते हुए लिखा था कि भारत से करतारपुर आने वाले सिखों के लिए दो बातें जरूरी हैं। पहला उन्हें पासपोर्ट की जरूरत नहीं है केवल एक वैध पहचान पत्र चाहिए और दूसरा उन्हें 10 दिन पहले रजिस्ट्रेशन कराने की कोई आवश्यकता नहीं है। विदेश मंत्रालय के मुताबिक, विदेश सचिव सोहेल महमूद ने पवित्र सिख गुरुद्वारे को खोलने की पाकिस्तान की पहल पर विशेष रूप से ध्यान आकर्षित कराने के लिए राजनयिकों को बुधवार को इस बारे में जानकारी दी।

मंत्रालय ने कहा कि, महमूद ने गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के शुभ अवसर पर करतारपुर साहिब गलियारा खोलने की देश के प्रधानमंत्री इमरान खान की ऐतिहासिक पहल पर प्रकाश डाला। विदेश सचिव ने रेखांकित किया कि पाकिस्तान ने यह कदम दुनिया भर के, विशेष कर भारत के सिख श्रद्धालुओं द्वारा लंबे समय से किए जा रहे अनुरोध को स्वीकार करने की दिशा में उठाया है। उन्होंने कहा कि करतारपुर साहिब गलियारे के अलावा भारत के सिख श्रद्धालु वाघा बॉर्डर से भी आएंगे।

नई दिल्ली। करतारपुर कॉरिडोर को लेकर पाक सेना ने अपने ही प्रधानमंत्री इमरान खान के फैसले को पलट दिया है। पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर के अनुसार अब सिख तीर्थ यात्रियों को करतारपुर कॉरिडोर का प्रयोग करने के लिए भारतीय पासपोर्ट की आवश्यकता होगी। वहीं, इससे पहले पाक पीएम इमरान खान ने ट्वीट कर कहा था कि, करतारपुर कॉरिडोर को प्रयोग करने के लिए पासपोर्ट की आवश्यकता नहीं होगी। इससे पहले इमरान ने कुछ दिन पहले ट्वीट करते हुए लिखा था कि भारत से करतारपुर आने वाले सिखों के लिए दो बातें जरूरी हैं। पहला उन्हें पासपोर्ट की जरूरत नहीं है केवल एक वैध पहचान पत्र चाहिए और दूसरा उन्हें 10 दिन पहले रजिस्ट्रेशन कराने की कोई आवश्यकता नहीं है। विदेश मंत्रालय के मुताबिक, विदेश सचिव सोहेल महमूद ने पवित्र सिख गुरुद्वारे को खोलने की पाकिस्तान की पहल पर विशेष रूप से ध्यान आकर्षित कराने के लिए राजनयिकों को बुधवार को इस बारे में जानकारी दी। मंत्रालय ने कहा कि, महमूद ने गुरु नानक देव की 550वीं जयंती के शुभ अवसर पर करतारपुर साहिब गलियारा खोलने की देश के प्रधानमंत्री इमरान खान की ऐतिहासिक पहल पर प्रकाश डाला। विदेश सचिव ने रेखांकित किया कि पाकिस्तान ने यह कदम दुनिया भर के, विशेष कर भारत के सिख श्रद्धालुओं द्वारा लंबे समय से किए जा रहे अनुरोध को स्वीकार करने की दिशा में उठाया है। उन्होंने कहा कि करतारपुर साहिब गलियारे के अलावा भारत के सिख श्रद्धालु वाघा बॉर्डर से भी आएंगे।