इस दिन से खुलेगा करतारपुर साहिब गलियारा, शाह महमूद कुरैशी ने दी जानकारी

Kartarpur Sahib corridor
इस दिन से खुलेगा करतारपुर साहिब गलियारा, शाह महमूद कुरैशी ने दी जानकारी

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बाद से बंद करतापुर साहिब गलियारे को खोलने की तैयारी शुरू हो गयी है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने इसकी जानकारी दी है। विदेश मंत्री ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि, ‘पाकिस्तान सभी सिख तीर्थयात्रियों के लिए करतारपुर साहिब गलियारे को फिर से खोलने की तैयारी कर रहा है।

Kartarpur Sahib Corridor Will Open From This Day Shah Mahmood Qureshi Gave Information :

महाराजा रणजीत सिंह की पुण्यतिथि के अवसर पर 29 जून 2020 को गलियारे को फिर से खोलने के लिए हम भारतीय पक्ष को हमारी तत्परता से अवगत करा रहे हैं।’ बता दें कि, भारत और पाकिस्तान की सरकारों ने मिलकर गुरदासपुर के डेरा बाबा नानक और पाकिस्तान के करतारपुर में स्थित गुरुद्वारे को जोड़ने के लिए गलियारा बनाने का फैसला लिया था। 2018 में इसकी नींव रखी गई थी।

भारत में 26 नवंबर और पाकिस्तान में 28 नवंबर को इसका शिलान्यास किया गया था। इसके बाद गुरु नानक देव के प्रकाशोत्सव के मौके पर नौ नवंबर 2019 को इसे जनता को समर्पित कर दिया गया था। बता दें कि, भारत ने कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए 15 मार्च को करतारपुर गलियारे को बंद करने का फैसला किया था। इसे पहले 31 मार्च तक बंद किया गया था लेकिन बाद में इसे अनिश्चितकाल तक के लिए बंद रखने का फैसला किया गया।

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बाद से बंद करतापुर साहिब गलियारे को खोलने की तैयारी शुरू हो गयी है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने इसकी जानकारी दी है। विदेश मंत्री ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि, 'पाकिस्तान सभी सिख तीर्थयात्रियों के लिए करतारपुर साहिब गलियारे को फिर से खोलने की तैयारी कर रहा है। महाराजा रणजीत सिंह की पुण्यतिथि के अवसर पर 29 जून 2020 को गलियारे को फिर से खोलने के लिए हम भारतीय पक्ष को हमारी तत्परता से अवगत करा रहे हैं।' बता दें कि, भारत और पाकिस्तान की सरकारों ने मिलकर गुरदासपुर के डेरा बाबा नानक और पाकिस्तान के करतारपुर में स्थित गुरुद्वारे को जोड़ने के लिए गलियारा बनाने का फैसला लिया था। 2018 में इसकी नींव रखी गई थी। भारत में 26 नवंबर और पाकिस्तान में 28 नवंबर को इसका शिलान्यास किया गया था। इसके बाद गुरु नानक देव के प्रकाशोत्सव के मौके पर नौ नवंबर 2019 को इसे जनता को समर्पित कर दिया गया था। बता दें कि, भारत ने कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए 15 मार्च को करतारपुर गलियारे को बंद करने का फैसला किया था। इसे पहले 31 मार्च तक बंद किया गया था लेकिन बाद में इसे अनिश्चितकाल तक के लिए बंद रखने का फैसला किया गया।