बिहार में कार्तिक पूर्णिमा स्नान के दौरान भगदड़, तीन मरे

बिहार में कार्तिक पूर्णिमा स्नान के दौरान भगदड़, तीन मरे

पटना। बिहार के बेगूसराय जिले में गंगा के सिमरिया घाट पर कार्तिक पूर्णिमा स्नान के लिए पहुंची लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ में भगदड़ मचने से 3 लोगों की मौत हो गई है। इस भगदड़ में 10 अन्य लोगों के घायल होने की जानकारी भी मिली है, जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। सीएम नीतीश कुमार ने मृतकों के परिजनों के लिए 4 लाख रुपये मुआवजे की घोषणा की है।

इस घटना पर जिला प्रशासन की ओर से कहा गया है कि भगदड़ जैसी स्थिति नहीं थीं। घटना सुबह करीब 8 बजे की है, कार्तिक मेला होने की वजह से भीड़ ज्यादा थी। भीड़ में मौजूद तीन बुजुर्ग जिनमें एक पुरुष और दो महिलाएं शामिल हैं की दम घुटने से मौत हुई है। मृतकों के उम्र 75 वर्ष से अधिक है, जिनकी मौत सांस लेने में हुई दिक्कत की वजह से हुई। इसके अलावा जिलाधिकारी की ओर से किसी भी श्रद्धालु के घायल होने की बात को पूरी तरह से नकारा गया है।

{ यह भी पढ़ें:- बिहार: वॉलीबॉल मैच के बहाने बुलाकर चार युवकों की गोली मारकर हत्या }

वहीं बेगूसराय के बीजेपी सांसद भोला सिंह ने जिला प्रशासन की बयानी को गलत करार देते हुए कहा है कि भगदड़ में एक दरोगा समेंत 7 लोगों की मौत हो चुकी है। इस घटना के लिए जिला प्रशासन और राज्य सरकार जिम्मेदार है। बिना तैयारी के कुम्भ का मेला आयोजित किया गया। इस वजह से यह हादसा हुआ। सांसद ने राज्य सरकार से भगदड़ की जांच कराने की मांग की है।

स्थानीय लोगों की माने तो बेगूसराय के सिमरिया घाट पर गंगा उत्तरायण दिशा में बहती है। इसी विशेषता के चलते हर वर्ष इस घाट पर कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर लाखों श्रद्धालुओं का जमावड़ा होता है। बिहार के अलावा झारंखंड से भी भारी संख्या में लोग यहां डुबकी लगाने पहुंचते हैं।

{ यह भी पढ़ें:- अनिल अंबानी से भी अमीर है बिहार का यह शख्स }

Loading...