राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान से कहा- कश्मीर कब आपका था, जो उसके लिए हमेशा रोते रहते हो

rajnath
राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान से कहा- कश्मीर कब आपका था, जो उसके लिए हमेशा रोते रहते हो

नई दिल्ली। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को लेह में 26वें किसान-जवान-विज्ञान मेले का उद्घाटन किया। किसान-जवान विज्ञान मेले का उद्घाटन करने के बाद राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया। राजनाथ सिंह ने कहा कि ‘मैं पाकिस्तान से पूछना चाहता हूं, कश्मीर कब उनका था कि इसे लेकर रो रहे हैं। पाकिस्तान बन गया तो हम आपके वजूद का सम्मान करते हैं। कश्मीर पर पाकिस्तान का कोई हक नहीं है।’

Kashmir Issue Defence Minister Rajnath Singh Ladakh Pakistan :

रक्षामंत्री ने कहा- हम पाकिस्तान के साथ अच्छे पड़ोसी संबंध रखना चाहते हैं। पहले उसे भारत के खिलाफ आतंकवाद का इस्तेमाल बंद करना चाहिए। हम पाकिस्तान से बात कैसे कर सकते हैं जब वह आतंक का इस्तेमाल कर भारत को अस्थिर करने की कोशिश करता रहता है।

राजनाथ ने आगे कहा- “पाकिस्तान को अपने कब्जे वाले कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन के हल पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। मैं पाकिस्तान से पूछना चाहता हूं कि कश्मीर उसका कब था। कश्मीर हमेशा भारत का हिस्सा था। पाकिस्तान का कश्मीर पर कोई हक नहीं है।”

राजनाथ बतौर रक्षा मंत्री पहली बार जून में लद्दाख गए थे

लद्दाख कोे केंद्र शासित प्रदेश बनाने पर चीन ने आपत्ति जताई थी, इस लिहाज से राजनाथ सिंह का दौरा काफी अहम माना जा रहा है। इससे पहले रक्षा मंत्री की जिम्मेदारी संभालने के बाद वे पहली बार जून में लद्दाख गए थे और सियाचिन वॉर मेमोरियल पहुंचकर जवानों को श्रद्धांजलि दी थी।

जम्मू-कश्मीर के 5 जिलों में मोबाइल सेवा शुरू

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद धीरे-धीरे हालात सामान्य होने लगे हैं। बुधवार को पांच जिले डोडा, किश्तवाड़, रामबन, राजौरी और पुंछ में बुधवार से मोबाइल सेवा शुरू कर दी गई। राज्य से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद से यहां कई तरह की पाबंदियां लगा दी गई थीं। उनमें से एक मोबाइल सेवा भी है। कई जिलों में लैंडलाइन सेवा पहले ही चालू हो चुकी है। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका पर संचार सेवाओं पर रोक को लेकर केंद्र सरकार से हफ्तेभर में जवाब मांगा था।

नई दिल्ली। केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को लेह में 26वें किसान-जवान-विज्ञान मेले का उद्घाटन किया। किसान-जवान विज्ञान मेले का उद्घाटन करने के बाद राजनाथ सिंह ने पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया। राजनाथ सिंह ने कहा कि 'मैं पाकिस्तान से पूछना चाहता हूं, कश्मीर कब उनका था कि इसे लेकर रो रहे हैं। पाकिस्तान बन गया तो हम आपके वजूद का सम्मान करते हैं। कश्मीर पर पाकिस्तान का कोई हक नहीं है।' रक्षामंत्री ने कहा- हम पाकिस्तान के साथ अच्छे पड़ोसी संबंध रखना चाहते हैं। पहले उसे भारत के खिलाफ आतंकवाद का इस्तेमाल बंद करना चाहिए। हम पाकिस्तान से बात कैसे कर सकते हैं जब वह आतंक का इस्तेमाल कर भारत को अस्थिर करने की कोशिश करता रहता है। राजनाथ ने आगे कहा- “पाकिस्तान को अपने कब्जे वाले कश्मीर में मानवाधिकार उल्लंघन के हल पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। मैं पाकिस्तान से पूछना चाहता हूं कि कश्मीर उसका कब था। कश्मीर हमेशा भारत का हिस्सा था। पाकिस्तान का कश्मीर पर कोई हक नहीं है।” राजनाथ बतौर रक्षा मंत्री पहली बार जून में लद्दाख गए थे लद्दाख कोे केंद्र शासित प्रदेश बनाने पर चीन ने आपत्ति जताई थी, इस लिहाज से राजनाथ सिंह का दौरा काफी अहम माना जा रहा है। इससे पहले रक्षा मंत्री की जिम्मेदारी संभालने के बाद वे पहली बार जून में लद्दाख गए थे और सियाचिन वॉर मेमोरियल पहुंचकर जवानों को श्रद्धांजलि दी थी। जम्मू-कश्मीर के 5 जिलों में मोबाइल सेवा शुरू जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद धीरे-धीरे हालात सामान्य होने लगे हैं। बुधवार को पांच जिले डोडा, किश्तवाड़, रामबन, राजौरी और पुंछ में बुधवार से मोबाइल सेवा शुरू कर दी गई। राज्य से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद से यहां कई तरह की पाबंदियां लगा दी गई थीं। उनमें से एक मोबाइल सेवा भी है। कई जिलों में लैंडलाइन सेवा पहले ही चालू हो चुकी है। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका पर संचार सेवाओं पर रोक को लेकर केंद्र सरकार से हफ्तेभर में जवाब मांगा था।