कश्मीर को कांग्रेस ने बताया INDIAN OCCUPIED KASHMIR

लखनऊ। मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने पर कांग्रेस ने शनिवार को लखनऊ में एक 16 पेज की बुकलेट जारी कर बैठे बैठाए खुद को विवादों में घेर लिया है। इस बुकलेट के जिस 12वें पेज पर चीन—पाकिस्तान आर्थिक कैरीडोर का जिक्र किया है उसी पेज पर बने मानचित्र में कश्मीर को भारत अधिग्रहित कश्मीर लिखा गया है।​ कांग्रेस की इस गलती को यूपी भाजपा ने हाथों ​हाथ लेते हुए कांग्रेस पर पूरे देश से मांफी मांगने का दबाव बनाना शुरु कर दिया है।


भाजपा ने कहना शुरू कर दिया है कि कश्मीर को लेकर पाकिस्तान और कांग्रेस की विचारधरा एक जैसी है। यूपी भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा कि कश्मीर समस्या को पैदा करने वाली कांग्रेस पार्टी को यह साफ करना चाहिए कि वो भारत के साथ है या पाकिस्तान साथ।




उन्होंने कहा कि यह सवाल इसलिए खड़ा हुआ है क्योंकि आज कांग्रेस पार्टी ने अपनी तरफ से जारी की गई बुकलेट में कश्मीर को भारत अधिग्रहित कश्मीर कहा है। यह बेहद आपत्तिजनक है और यह साबित करता है कि जब भारत की सेना पाक परस्त आंतकवादियों का बहादुरी से सफाया कर रही है। तब कांग्रेस पार्टी भारत के अभिन्न अंग कश्मीर को भारत का हिस्सा मानने को भी तैयार नहीं है। हालांकि यह पहली बार नहीं इससे पहले भी कांग्रेस के नेता मणि शंकर अय्यर पाकिस्तान में जाकर भारत भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ मदद मांग चुके हैं। यह साबित करता है कि कांग्रेस पार्टी देश के साथ नहीं है।

{ यह भी पढ़ें:- सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को खत लिख कहा- लोकसभा में महिला आरक्षण बिल पास कराइए }

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने आज प्रेसवार्ता कर राष्ट्रीय सुरक्षा पर आंच शीर्षक से एक बुकलेट जारी की है इस बुकलेट के पेज नम्बर 12 पर जो नक्शा बनाया गया है उसमें कश्मीर को INDIAN OCCUPIED KASHMIR बताया गया है। इससे साफ होता है कि पाकिस्तान और कांग्रेस पार्टी की भाषा एक जैसी है।




भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और कांग्रेस पार्टी को अपने इस शर्मनाक कृत्य के लिए पूरे देश से मांफी मांगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि देश जानता है कि कश्मीर समस्या के लिए कौन सी पार्टी और कौन से नेता जिम्मेदार रहे है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में देश न सिर्फ मजबूत हुआ है बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर महाशक्ति बनने की तरफ बढ़ रहा है। कश्मीर में सेना का भी मनोबल बढ़ा हुआ है और हमारे बहादुर सैनिकों ने आतंकवादियों और आतंकवाद को सरपरस्ती देने वाले पाकिस्तान की कमर तोड़ कर रख दी है। इसका नतीजा यह हुआ है कि पाकिस्तान को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर गुहार लगानी पड़ रही है।



उन्होंने कहा कि कश्मीर का आतंकवाद और पाकिस्तान से सीमा विवाद कांग्रेस की देन है। करीब छह दशको तक हर मोर्चे पर विफल रही कांग्रेस पार्टी जब कश्मीर समस्या और आतंकवाद पर भारतीय जनता पार्टी की सरकार को सर्टिफिकेट देती है तो हर किसी को हैरानी होती है। देश के लोग देख रहे है कि किस तरह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में भारतीय सेना का मनोबल बढ़ा हुआ है और इसके परिणाम स्वरूप पिछले कुछ दिनों में हमारी बहादुर सेना ने कई खूंखार आतंकवादियों को उनके गढ़ में ही मार गिराया है।

{ यह भी पढ़ें:- राहुल गांधी ने अमेरिका में तय किए 2019 के चुनावी मुद्दे }

अकेले 27 मई की रात ही सेना 24 घंटों में 11 खतरनाक आतंकवादियों को ढेर कर दिया। इतना ही नहीं आतंकवादियों के पोस्टर ब्वाय रहे बुरहान और उसके करीबी साथी सबजार को भी भारतीय सेना ने बहादुरी से मुठभेंड़ में मार गिराया। भारतीय सेना और सरकार की बड़ी सफलता है। कश्मीर की घाटी से अब नौजवान भारतीय प्रशासनिक सेवाओं आने लगे हैं। इस बार के ही सिविल सर्विस परीक्षा के नतीजों में जम्मू कश्मीर से 14 नौजवानों का चयन हुआ है और यह इस बात का सबूत है कि किस तरह घाटी के नौजवानों का भरोसा लोकतंत्र के लिए बढ़ा है। भारत के लिए इससे बेहतर शुभ संकेत क्या हो सकता है।

ऐसे में नकारात्मक राजनीति करने वाली और देश के लोगों की नजरों में बेनकाब हो चुकी कांग्रेस पार्टी हताशा में है और इसीलिए कश्मीर को भारत अधिग्रहित कश्मीर बताने का पाप कर रही है।

{ यह भी पढ़ें:- जब प्यार चढ़ा परवान तब हुआ मध्य प्रदेश में कांग्रेस -भाजपा का गठबंधन }