कश्मीर में आतंकियों ने सेना के लेफ्टिनेंट को अगवा कर किया गोलियों से छलनी

कश्मीर। घाटी में आए दिन भारतीय जवानों से बर्बरता का मामला सामने आ रहा है, आतंकी आसानी से अपने मसूबों को अंजाम तक पहुचाने में कामयाब हो रहे है। एक बार फिर ऐसा ही कुछ देखने को मिला है कश्मीर के शोपियां इलाके में जहां आतंकियों ने छुट्टी में घर गए सेना के लेफ्टिनेंट को गोलियों से छलनी कर दिया। बताया जा रहा है कि आतंकियों ने उन्हें शादी समारोह से पहले अगवा किया और फिर गोलियों से छलनी उनका…

कश्मीर। घाटी में आए दिन भारतीय जवानों से बर्बरता का मामला सामने आ रहा है, आतंकी आसानी से अपने मसूबों को अंजाम तक पहुचाने में कामयाब हो रहे है। एक बार फिर ऐसा ही कुछ देखने को मिला है कश्मीर के शोपियां इलाके में जहां आतंकियों ने छुट्टी में घर गए सेना के लेफ्टिनेंट को गोलियों से छलनी कर दिया। बताया जा रहा है कि आतंकियों ने उन्हें शादी समारोह से पहले अगवा किया और फिर गोलियों से छलनी उनका शव दक्षिणी कश्मीर के हरमन में फेंक दिया। इस घटना के बाद सेना ने कश्मीर में छुट्टी पर गए जवानों को अलर्ट कर दिया है। उधर, रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने घटना की निंदा करते हुए इसे आतंकियों की कायराना हरकत करार दिया है।



जानकारी के मुताबिक कुलगाम के रहने वाले लेफ्टिनेंट उमर फयाज छुट्टी पर थे। मंगलवार रात वह बेहिबाग के नजदीक बातापुरा में अपने चाचा की बेटी की शादी में शामिल होने गए थे। यहां रात दस बजे के करीब आतंकियों ने उन्हें अगवा कर लिया। सुबह उनकी गोलियों से छलनी लाश हरमन में मिली। पुलिस का कहना है कि आतंकी उमर को एक बाग में ले गए। आतंकियों ने वहां उन्हें पांच गोलियां मारीं। बाद में एक स्थानीय शख्स को उनका शव मिला, जिसकी जानकारी उसने पुलिस को दी। सेना ने बयान जारी कर कहा कि वह वीर जवान को सलाम करती है और दुख की घड़ी में सेना उनके परिवार के साथ खड़ी है।



लेफ्टिनेंट उमर फयाज कश्मीर के अखनूर में राजस्थान राइफल्स के यूनिट में तैनात थे। एनडीए पासआउट लेफ्टिनेंट फयाज को 10 दिसंबर 2016 को सेना में कमीशन मिला था। इस साल वह सेना के यंग ऑफिसर्स कोर्स के लिए जाने वाले थे। फयाज एनडीए में हॉकी टीम के कैप्टन थे और वॉलिबॉल के भी अच्छे खिलाड़ी थे। फयाज के पिता किसान हैं और सेब का छोटा-मोटा बिजनस करते हैंं।

Loading...