एयर इंडिया के डायरेक्टर अरविंद पर लगा 3 साल का बैन, नशा कर उड़ाने जा रहे थे विमान

एयर इंडिया के डायरेक्टर अरविंद पर लगा 3 साल का बैन, नशा कर उड़ाने जा रहे थे विमान
एयर इंडिया के डायरेक्टर अरविंद पर लगा 3 साल का बैन, नशा कर उड़ाने जा रहे थे विमान

नई दिल्ली। उड़ान से कुछ मिनट पहले अल्कोहल टेस्ट में पॉजिटिव पाए जाने के जुर्म में पायलट ए के कठपालिया के विमान उड़ाने के कार्य को तीन साल के लिए बैन कर दिया है। बता दें कि एयर इंडिया के डायरेक्टर अरविंद अब 11 नवंबर से अगले तीन साल तक विमान नहीं उड़ा पाएंगे। यह कार्रवाई डीजीसीए के नियमों के तहत की गई थी। इससे पहले रविवार को फ्लाइट एआई-111 को दिल्ली से लंदन जाना था, लेकिन ब्रीथ टेस्ट में विफल होने पर अरविंद को विमान उड़ाने से रोक दिया था।

Kathpalia Detected Positive For Alcohol Test Pilot Licence Suspended :

विमान को उड़ान से कुछ समय पहले ही रोक दिया गया जिससे एआई-111 विमान 55 मिनट की देरी से रवाना हुआ। एअर इंडिया को उनके स्थान पर दूसरे पायलट को बुलाना पड़ा। इससे यात्रियों को असुविधा भी हुई। इस पूरे मामले में एअरलाइंस के एक अधिकारी ने कहा, ‘हमने कैप्टन ए के कठपालिया को उड़ान भरने से रोक दिया क्योंकि वह दो बार ब्रेथ एनालाइजर परीक्षण में विफल रहे थे।

नियम के अनुसार, उड़ान शुरू होने से पहले और बाद में चालक दल के सदस्यों को ब्रीथ टेस्ट से गुजरना अनिवार्य होता है। पहली बार इस तरह के उल्लंघन पर तीन महीने के लिए उड़ान लाइसेंस रद्द कर दिया जाता है। दूसरी बार नियम का उल्लंघन करने पर लाइसेंस तीन साल के लिये निलंबित कर दिया जाता है और तीसरी बार ऐसा होने पर उसे स्थायी रूप से रद्द कर दिया जाता है।

नई दिल्ली। उड़ान से कुछ मिनट पहले अल्कोहल टेस्ट में पॉजिटिव पाए जाने के जुर्म में पायलट ए के कठपालिया के विमान उड़ाने के कार्य को तीन साल के लिए बैन कर दिया है। बता दें कि एयर इंडिया के डायरेक्टर अरविंद अब 11 नवंबर से अगले तीन साल तक विमान नहीं उड़ा पाएंगे। यह कार्रवाई डीजीसीए के नियमों के तहत की गई थी। इससे पहले रविवार को फ्लाइट एआई-111 को दिल्ली से लंदन जाना था, लेकिन ब्रीथ टेस्ट में विफल होने पर अरविंद को विमान उड़ाने से रोक दिया था। विमान को उड़ान से कुछ समय पहले ही रोक दिया गया जिससे एआई-111 विमान 55 मिनट की देरी से रवाना हुआ। एअर इंडिया को उनके स्थान पर दूसरे पायलट को बुलाना पड़ा। इससे यात्रियों को असुविधा भी हुई। इस पूरे मामले में एअरलाइंस के एक अधिकारी ने कहा, 'हमने कैप्टन ए के कठपालिया को उड़ान भरने से रोक दिया क्योंकि वह दो बार ब्रेथ एनालाइजर परीक्षण में विफल रहे थे। नियम के अनुसार, उड़ान शुरू होने से पहले और बाद में चालक दल के सदस्यों को ब्रीथ टेस्ट से गुजरना अनिवार्य होता है। पहली बार इस तरह के उल्लंघन पर तीन महीने के लिए उड़ान लाइसेंस रद्द कर दिया जाता है। दूसरी बार नियम का उल्लंघन करने पर लाइसेंस तीन साल के लिये निलंबित कर दिया जाता है और तीसरी बार ऐसा होने पर उसे स्थायी रूप से रद्द कर दिया जाता है।