केजरीवाल की चोरी हुई कार के भी अपने कई किस्से हैं, पढ़िए पूरी कहानी

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की एक कार (लकी कार) गुरुवार की दोपहर सचिवालय के बाहर से चोरी हो गई। जैसे ही यह खबर मार्केट में आई सोशल मीडिया पर लोगों की प्रतिक्रियाएं आने लगी। फिर शुरू हुआ चोरी हुई ‘नीली कार’ का किस्सा, जीतने मुंह उतनी बातें। हर कोई कह रहा था, ‘केजरीवाल के लिए यह कार बेहद खास थी’ लेकिन बहुत कम लोगों को यह पता है की आखिर उस कार में क्या था जिससे यह कार खास थी ? यह बात भी सच है कि चोरी हुई कार केजरीवाल की चहेती कार थी।

यह हैं वजह…
आम आदमी पार्टी के सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल इस कार को आम आदमी कार कहते थे। जानकारी मिली है कि यह कार अरविंद केजरीवाल की नहीं थी, बल्कि उन्हें यह कार उनके एक प्रशंसक कुंदन शर्मा ने आम आदमी पार्टी को डोनेट की थी। दरअसल, अन्ना के आंदोलन के पक्ष में वह सोशल मीडिया पर लिखते थे। इंडिया अगेंस्ट करप्शन (IAC) से जुड़े कुंदन शर्मा AAP कार्यकर्ता होने के साथ ही लंदन में सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे। फिलहाल ‘DL 9CG-9769 कार का मालिकाना हक आम आदमी पार्टी के पास है।

{ यह भी पढ़ें:- गाजियाबाद के मोहननगर इलाके से मिली केजरीवाल की गायब कार }

केजरीवाल मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार इसी कार में ऑफिस पहुंचे थे। तब यह काफी सुर्खियों में रही। दिल्ली के सीएम इसे ‘आम आदमी कार’ कहते थेसीएम की इस खास कार को ‘आप मोबाइल’ भी कहा जाता था। 2014 में यह खूब सुर्खियों में रही थी जब दिल्‍ली पुलिस के विवादास्‍पद खिलाफ प्रदर्शन के दौरान केजरीवाल इस कार का इस्‍तेमाल कैंप करने और सोने के लिए भी करते थे।

वहीं, बताया जा रहा है कि यह वैगन आर कुछ साल पहले तक अरविंद केजरीवाल की पहचान का हिस्सा थी, वो जहां भी जाते थे, इसी कार का इस्तेमाल करते थे। हालांकि फिलहाल ये कार आम आदमी पार्टी की युवा नेता वंदना के पास थी।

{ यह भी पढ़ें:- सीएम केजरीवाल की नीली वैगनआर कार चोरी }