केजरीवाल सरकार का प्लान: 42 निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमित गरीब मरीजों का होगा मुफ्त इलाज

kejrwal
दिल्ली के सीएम केजरीवाल का हुआ कोरोना टेस्ट, रात तक रिपोर्ट आने की संभावना

नई दिल्ली। देश में कोरोना के मामले हर दिन तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। वहीं, दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। इसे रोकने के लिए दिल्ली सरकार लगातार काम कर रही है। बावजूद इसके कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसी बीच खबर है कि सीएम अरविंद केजरीवाल की सरकार ने आर्थिक रूप से कमजोर कोरोना मरीजों का फ्री में इलाज कराने का फैसला लिया है।

Kejriwal Governments Plan Corona Infected Poor Patients Will Be Given Free Treatment In 42 Private Hospitals :

सरकार के इस योजना के तहत दिल्ली के 42 निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमित गरीबों का फ्री में इलाज होगा। इसके लिए दिल्ली सरकार के डायरेक्टर जनरल हेल्थ सर्विसेज (DGHS) ने सभी 42 प्राइवेट अस्पतालों को आदेश जारी कर दिया है। जानकारी के मुताबिक, इन सभी 42 प्राइवेट अस्पतालों को बेड रिजर्व रखने के लिए कहा गया है। खास बात यह है कि सभी अस्पतालों को महज तीन दिन के अंदर ही गरीब कोरोना मरीजों के इलाज के लिए सारी तैयारियां करनी होगी। जो अस्पताल ऐसा नहीं करेंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जा सकती है।

डीजीएचएस की तरफ से जारी आदेश में कुल 42 अस्पतालों की सूची जारी की गई है। उसमें ईडब्ल्यूएस कोटे के तहत रिजर्व बेड की संख्या भी बताई गई है। इन सभी अस्पतालों को कहा गया है कि मरीज के अस्पताल पहुंचने पर एक घंटे के अंदर में ही उसका इलाज शुरू करना होगा।

बताया जा रहा हे कि अस्पताल में बेड या वेंटिलेटर खाली न होने पर संक्रमित मरीज को दूसरे अस्पताल में भर्ती कराने की जिम्मेदारी अस्पताल की होगी। इसके अलावा कहा गया है कि अस्पताल को यह सुनिश्चित करना होगा कोरोना संक्रमित मरीज को अस्पताल में तीन घंटे से अधिक इंतजार नहीं करना पड़े। वहीं, अस्पताल में भर्ती मरीजों का खाने-पीने का ख्याल भी रखना होगा।

नई दिल्ली। देश में कोरोना के मामले हर दिन तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। वहीं, दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। इसे रोकने के लिए दिल्ली सरकार लगातार काम कर रही है। बावजूद इसके कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसी बीच खबर है कि सीएम अरविंद केजरीवाल की सरकार ने आर्थिक रूप से कमजोर कोरोना मरीजों का फ्री में इलाज कराने का फैसला लिया है। सरकार के इस योजना के तहत दिल्ली के 42 निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमित गरीबों का फ्री में इलाज होगा। इसके लिए दिल्ली सरकार के डायरेक्टर जनरल हेल्थ सर्विसेज (DGHS) ने सभी 42 प्राइवेट अस्पतालों को आदेश जारी कर दिया है। जानकारी के मुताबिक, इन सभी 42 प्राइवेट अस्पतालों को बेड रिजर्व रखने के लिए कहा गया है। खास बात यह है कि सभी अस्पतालों को महज तीन दिन के अंदर ही गरीब कोरोना मरीजों के इलाज के लिए सारी तैयारियां करनी होगी। जो अस्पताल ऐसा नहीं करेंगे, उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जा सकती है। डीजीएचएस की तरफ से जारी आदेश में कुल 42 अस्पतालों की सूची जारी की गई है। उसमें ईडब्ल्यूएस कोटे के तहत रिजर्व बेड की संख्या भी बताई गई है। इन सभी अस्पतालों को कहा गया है कि मरीज के अस्पताल पहुंचने पर एक घंटे के अंदर में ही उसका इलाज शुरू करना होगा। बताया जा रहा हे कि अस्पताल में बेड या वेंटिलेटर खाली न होने पर संक्रमित मरीज को दूसरे अस्पताल में भर्ती कराने की जिम्मेदारी अस्पताल की होगी। इसके अलावा कहा गया है कि अस्पताल को यह सुनिश्चित करना होगा कोरोना संक्रमित मरीज को अस्पताल में तीन घंटे से अधिक इंतजार नहीं करना पड़े। वहीं, अस्पताल में भर्ती मरीजों का खाने-पीने का ख्याल भी रखना होगा।