1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. केजरीवाल ने पीएम को लिखा पत्र, सुंदर बहुगुणा को भारत रत्न देने की मांग

केजरीवाल ने पीएम को लिखा पत्र, सुंदर बहुगुणा को भारत रत्न देने की मांग

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। पत्र लिख उन्होंने भारत के जाने—माने पर्यावरणविद सुंदर लाल बहुगुणा को भारत रत्न देने की मांग की है।

By प्रिन्स राज 
Updated Date

Kejriwal Wrote A Letter To Pm Demanding Bharat Ratna To Sundar Bahuguna

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। पत्र लिख उन्होंने भारत के जाने—माने पर्यावरणविद सुंदर लाल बहुगुणा को भारत रत्न देने की मांग की है। उन्होंने लिखा है कि चिपको आंदोलन के जनक और पर्यावरण के मामले में देश को एक मजबूत राह दिखाने वाले सुंदर जी को भारत रत्न देना उनको सच्ची श्रद्धांजली होगी।

पढ़ें :- मीडिया दफ्तरों पर आईटी का छापा तुरंत बंद हो, इनको स्वतंत्र रूप से काम करने दे सरकार : केजरीवाल

आगे वो कहते हैं कि देश अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है ऐसे में अगर ऐसा किया जाता है तो पार्यवरण को लेकर के और भी लोगो में जागरुकता बढ़ेगी। उत्तराखंड के पहाड़ी राज्य में प्रकृति के संरक्षण के लिए आजीवन अपने काम के लिए पहचाने जाने वाले बहुगुणा ने पेड़ों को काटने से बचाने के लिए “चिपको आंदोलन” शुरू किया जो अन्य राज्यों में भी फैल गया। इस साल 21 मई को 94 साल की उम्र में उनका निधन हो गया।

पढ़ें :- 'किसान संसद' में जंतर-मंतर पर गरजे राकेश टिकैत, कहा- सदन में हमारी आवाज बने विपक्ष

उत्तराखंड के पहाड़ी राज्य में प्रकृति के संरक्षण के लिए आजीवन अपने काम के लिए पहचाने जाने वाले बहुगुणा ने पेड़ों को काटने से बचाने के लिए “चिपको आंदोलन” शुरू किया जो अन्य राज्यों में भी फैल गया। इस साल 21 मई को 94 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। देश में पेड़ों व वनों की कटान एक बड़ी समस्या बनी हुई है ऐशे में सुंदर बहुगुणा को भारत रत्न देना एक सराहनीय कदम हो सकता है। केजरीवाल ने मोदी को लिखा, मुझे उम्मीद है कि आप दिल्ली सरकार के इस अनुरोध पर विचार करेंगे और इस संबंध में जल्द से जल्द उचित निर्णय लेंगे। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली विधानसभा में बहुगुणा का चित्र लगाया गया है ताकि उनका जीवन और पर्यावरण संरक्षण का कार्य दिल्ली के नीति निर्माताओं को प्रेरित और मार्गदर्शन कर सके।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X