केजरीवाल का BJP पर हमला- MCD और पुलिस को नहीं करने देती काम, हम बना सकते हैं दोनो को बेहतर

Arvind kejariwal
केजरीवाल का BJP पर हमला- MCD और पुलिस को नहीं करने देती काम, हम बना सकते हैं दोनो को बेहतर

नई ​दिल्ली। जबसे चुनाव आयोग ने दिल्ली के विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान किया है तभी से सभी पार्टियां एक दूसरे पर आरोल लगाते हुए खुद को बेहतर बनाने में जुटी हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एकबार फिर बीजेपी पर हमला बोला है। उन्होने कहा कि दिल्ली की पुलिस और एमसीडी पर बीजेपी का कब्जा है। ऐसे मेें बीजेपी उन्हे सही से काम नही करने देती। उन्होने अपनी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि अगर मौका मिला तो हम शिक्षा और स्वास्थ्य के साथ साथ पुलिस और एमसीडी को भी बेहतर बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस को हिंसा रोकने के लिए ऊपर से आदेश ही नहीं दिए जाते।

Kejriwals Attack On Bjp Mcd And The Police Do Not Allow Us To Work We Can Make Both Better :

दिल्ली में आने वाले 8 अक्टूबर को चुनाव हैं ऐसे में आम आदमी पार्टी की सरकार जनता के बीच अपने 5 साल के कामों को लेकर जा रही है। अरविन्द केजरीवार ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि एमसीडी ने दिल्ली को कूड़ाघर बना डाला है, कोई भी काम अपने अधिकारों के चलते नही कर पा रही है बल्कि बीजेपी जो कहती है एमसीडी सिर्फ वही करती है। उन्होने कहा कि आप एमसीडी और दिल्ली की प्रदेश सरकार के स्कूलो में जाकर देख लीजिए तो आपको अन्तर पता चल जायेगा कि कहां पर बेहतर व्यवस्था है।

केजरीवाल का कहना है कि दिल्ली पुलिस खराब नहीं है लेकिन केन्द्र सरकार के दबाव व आदेशों की वजह से उनके हाथ बंधे हुए हैं। दिल्ली पुलिस आज की तारीख में चाहकर भी कानून व्यवस्था को नियंत्रित करने में विफल साबित हो रही है। उन्होने कहा कि दिल्ली पुुलिस में वो काबिलियत है कि उन्हे जो भी आदेश दिये जायेंगे वो उनका सही से पालन करेंगे। लेकिन जब उन आदेशो के पीछे राजनीतिक मंशा ही गलत होगी तो पुलिस सही से काम कैसे कर पाएगी। उनका कहना है कि आदेश मानना पुलिस की मजबूर बन चुकी हैं क्योंकि अगर वो आदेश नही मानते हैं तो उनकी नौकरी चली जाएगी।

अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि फ्री बस राइड, 200 यूनिट बिजली फ्री का तो वादा भी नहीं किया था, लेकिन ये भी हमने करके दिखाया है और कुछ लोग हैं कि वादा करने के बाद भी पूरा नही करते हैं। उन्होंने कहा कि अब दिल्ली की जनता को तय करना है कि उन्हें बीजेपी की दिल्ली पुलिस का शासन अच्छा लगता है या AAP के स्कूलों का शासन बेहतर लगता है। इस दौरान उन्होने यह भी कहा कि दिल्ली की जनता पूर्ण राज्य का दर्जा चाहती है ताकि यहां एक ही सरकार हो।

नई ​दिल्ली। जबसे चुनाव आयोग ने दिल्ली के विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान किया है तभी से सभी पार्टियां एक दूसरे पर आरोल लगाते हुए खुद को बेहतर बनाने में जुटी हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एकबार फिर बीजेपी पर हमला बोला है। उन्होने कहा कि दिल्ली की पुलिस और एमसीडी पर बीजेपी का कब्जा है। ऐसे मेें बीजेपी उन्हे सही से काम नही करने देती। उन्होने अपनी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि अगर मौका मिला तो हम शिक्षा और स्वास्थ्य के साथ साथ पुलिस और एमसीडी को भी बेहतर बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस को हिंसा रोकने के लिए ऊपर से आदेश ही नहीं दिए जाते। दिल्ली में आने वाले 8 अक्टूबर को चुनाव हैं ऐसे में आम आदमी पार्टी की सरकार जनता के बीच अपने 5 साल के कामों को लेकर जा रही है। अरविन्द केजरीवार ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि एमसीडी ने दिल्ली को कूड़ाघर बना डाला है, कोई भी काम अपने अधिकारों के चलते नही कर पा रही है बल्कि बीजेपी जो कहती है एमसीडी सिर्फ वही करती है। उन्होने कहा कि आप एमसीडी और दिल्ली की प्रदेश सरकार के स्कूलो में जाकर देख लीजिए तो आपको अन्तर पता चल जायेगा कि कहां पर बेहतर व्यवस्था है। केजरीवाल का कहना है कि दिल्ली पुलिस खराब नहीं है लेकिन केन्द्र सरकार के दबाव व आदेशों की वजह से उनके हाथ बंधे हुए हैं। दिल्ली पुलिस आज की तारीख में चाहकर भी कानून व्यवस्था को नियंत्रित करने में विफल साबित हो रही है। उन्होने कहा कि दिल्ली पुुलिस में वो काबिलियत है कि उन्हे जो भी आदेश दिये जायेंगे वो उनका सही से पालन करेंगे। लेकिन जब उन आदेशो के पीछे राजनीतिक मंशा ही गलत होगी तो पुलिस सही से काम कैसे कर पाएगी। उनका कहना है कि आदेश मानना पुलिस की मजबूर बन चुकी हैं क्योंकि अगर वो आदेश नही मानते हैं तो उनकी नौकरी चली जाएगी। अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि फ्री बस राइड, 200 यूनिट बिजली फ्री का तो वादा भी नहीं किया था, लेकिन ये भी हमने करके दिखाया है और कुछ लोग हैं कि वादा करने के बाद भी पूरा नही करते हैं। उन्होंने कहा कि अब दिल्ली की जनता को तय करना है कि उन्हें बीजेपी की दिल्ली पुलिस का शासन अच्छा लगता है या AAP के स्कूलों का शासन बेहतर लगता है। इस दौरान उन्होने यह भी कहा कि दिल्ली की जनता पूर्ण राज्य का दर्जा चाहती है ताकि यहां एक ही सरकार हो।