लिपस्टिक लगाने और छोटे कपड़े पहनने से बढ़ रहे हैं निर्भया जैसे कांड: केवी टीचर

रायपुर। रायपुर के केंद्रीय विद्यालय की एक बायोलॉजी की टीचर ने रेप की घटनाओं को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होने लड़कियों को नसीहत देते हुए कहा है कि वो लिपस्टिक ना लगाएं और ना ही भड़कीले कपड़े पहनें क्योंकि यही वजह है कि निर्भया जैसे बलात्कार बढ़ते जा रहे हैं। लड़कों की मौजूदगी में टीचर ने यह सारी बातें बताई और कहा कि लड़कियों का रात में घर से बाहर जाना इस तरह की घटनाओं को आमंत्रण देता है।…

रायपुर। रायपुर के केंद्रीय विद्यालय की एक बायोलॉजी की टीचर ने रेप की घटनाओं को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्होने लड़कियों को नसीहत देते हुए कहा है कि वो लिपस्टिक ना लगाएं और ना ही भड़कीले कपड़े पहनें क्योंकि यही वजह है कि निर्भया जैसे बलात्कार बढ़ते जा रहे हैं। लड़कों की मौजूदगी में टीचर ने यह सारी बातें बताई और कहा कि लड़कियों का रात में घर से बाहर जाना इस तरह की घटनाओं को आमंत्रण देता है।

टीचर स्नेहलता शंखवार की ऐसी नसीहत से लड़कियों के गुस्साए परिजनों ने प्रिंसिपल भगवान दास अहीर से मुलाकात की। प्रिंसिपल का कहना है कि वह अभिवावकों द्वारा लिखित शिकायत दर्ज होने के बाद जांच बिठाएंगे। केवी संगठन को इस मामले की जानकारी दे दी गई है।

{ यह भी पढ़ें:- जम्मू कश्मीर में कठुआ गैंगरेप के खिलाफ छात्रों का प्रदर्शन, सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी }

टीचर ने लड़कियों को जींस पहनने और लिपस्टिक लगाने को लेकर चेतावनी दी थी। क्लिप में टीचर कहती हैं कि जब लड़कियों का चेहरा खूबसूरत नहीं होता है तभी वह एक्सपोज करती है। लड़कियां इतनी बेशर्म कैसे हो सकती हैं? लड़कियां किसी लड़के के साथ रात को बाहर कैसे जा सकती हैं जो उनका पति नहीं है? यह समझना काफी मुश्किल है कि इसका इतना बड़ा मुद्दा क्यों बनाया गया। इस तरह की घटनाएं अक्सर दूरदराज के क्षेत्रों में होती हैं। टीचर की इस बात को प्रूफ करने के लिए बच्चों ने बोलते समय एक ऑडियो क्लिप रिकॉर्ड कर लिया।

टीचर यहीं नहीं रुकी वह क्लिप में यह करते हुए सुनी जा सकती हैं कि निर्भया की मां को अपनी बेटी को इतनी रात को बाहर जाने की अनुमति नहीं देनी चाहिए थी। उनका मानना है कि यह लड़कों की नहीं बल्कि निर्भया की गलती थी। जिन लड़कियों के साथ इस तरह की घटनाएं होता हैं वह श्रापित हो जाती हैं और यह उनके लिए सजा होती है। जब लड़के किसी लड़की को एक लड़के साथ ऐसा करते हुए देखते हैं तो वे मान लेते हैं कि वो दूसरों के साथ भी कर लेंगी।

{ यह भी पढ़ें:- छग मेँ 10 साल की बच्ची से दुष्कर्म, हत्या     }

Loading...