सरकार ने नहीं सुनी गुहार तो इस शख्स ने अकेले ही बना डाली गांव से लेकर शहर तक की सड़क

सरकार ने नहीं सुनी गुहार तो इस शख्स ने अकेले ही बना डाली गांव से लेकर शहर तक की सड़क
सरकार ने नहीं सुनी गुहार तो इस शख्स ने अकेले ही बना डाली गांव से लेकर शहर तक की सड़क

आपने ‘माउंटेन मैन’ कहे जाने वाले बिहार के दशरथ मांझी की कहानी पर आधारित फिल्म ‘मांझी’ तो देखी ही होगी। ठीक उसी तरह एक बार फिर एक आदमी ने साबित कर दिया ‘जहां चाह वहां राह’दरअसल केन्या के केगांडा गांव में रहने वाले एक शख्स ने जंगलों के बीच गांव से शहर जाने के लिए अकेले ही सड़क बना डाली। आइये जानते हैं इस शख्स की पूरी कहानी के बारे में …

Kenya Kaganda Village Man Nicholas Muchami Single Handedly Buil A Road :

पत्थरों को काटकर अकेले बनाई एक किलोमीटर लंबी सड़क

केन्या के केगांडा गांव में रहने वाले 45 वर्षीय निकोलस मुकामी नाम के एक शख्स ने अकेले ही जंगल के बीच पत्थरों को काटकर एक किलोमीटर लंबी सड़क बना डाली। इस रास्ते से अब लोग शॉपिंग सेंटर और चर्च जाते हैं। निकोलस ने बताया कि उस रास्ते पर सड़क बनवाने के लिए सरकार से कई दफा गुजारिश की गई लेकिन उसके बाद भी कभी कोई मदद नहीं मिली। जिसके बाद भी मैं हार नहीं माना और खुद ही इस सड़क को बनाने का जिम्मा ले लिया।

बता दें कि निकोलस पेशे से मजदूर हैं, उन्होंने इस सड़क को बनाने के लिए हफ्तेभर के लिए अपना काम छोड़ा और सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक बिना रूके सड़क बनाने का काम किया। निकोलस ने आगे बताया कि उन्होंने स्थानीय नेताओं से इस रोड के लिए बार-बार गुहार लगाई, लेकिन कुछ ना हुआ। इस वजह से उन्होंने अपने खेतों में काम करने वाले औज़ार उठाए और सड़क बनानी शुरू कर दी। ऐसा करने के पीछे उन्होने बताया कि अब इससे औरतों और बच्चों का बहुत समय बचेगा और वो लोग आराम से स्कूल, मार्केट और चर्च जा पाएंगे।

केन्या के एक यू ट्यूब पेज पर निकोलस का एक वीडियो शेयर किया गया है जिसमें वो खुद इस रास्ते के बारे में बता रहे हैं। इस वीडियो को एक दिन के अंदर ही लगभग 15 हज़ार बार देखा गया है। इस वीडियो को देखकर यह प्रेरणा मिलती है कि कुछ भी नामुमकिन नहीं बस आपके ठानने की देरी है।

यहां देखें वीडियो

आपने 'माउंटेन मैन' कहे जाने वाले बिहार के दशरथ मांझी की कहानी पर आधारित फिल्म 'मांझी' तो देखी ही होगी। ठीक उसी तरह एक बार फिर एक आदमी ने साबित कर दिया 'जहां चाह वहां राह'दरअसल केन्या के केगांडा गांव में रहने वाले एक शख्स ने जंगलों के बीच गांव से शहर जाने के लिए अकेले ही सड़क बना डाली। आइये जानते हैं इस शख्स की पूरी कहानी के बारे में ... पत्थरों को काटकर अकेले बनाई एक किलोमीटर लंबी सड़क केन्या के केगांडा गांव में रहने वाले 45 वर्षीय निकोलस मुकामी नाम के एक शख्स ने अकेले ही जंगल के बीच पत्थरों को काटकर एक किलोमीटर लंबी सड़क बना डाली। इस रास्ते से अब लोग शॉपिंग सेंटर और चर्च जाते हैं। निकोलस ने बताया कि उस रास्ते पर सड़क बनवाने के लिए सरकार से कई दफा गुजारिश की गई लेकिन उसके बाद भी कभी कोई मदद नहीं मिली। जिसके बाद भी मैं हार नहीं माना और खुद ही इस सड़क को बनाने का जिम्मा ले लिया। बता दें कि निकोलस पेशे से मजदूर हैं, उन्होंने इस सड़क को बनाने के लिए हफ्तेभर के लिए अपना काम छोड़ा और सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक बिना रूके सड़क बनाने का काम किया। निकोलस ने आगे बताया कि उन्होंने स्थानीय नेताओं से इस रोड के लिए बार-बार गुहार लगाई, लेकिन कुछ ना हुआ। इस वजह से उन्होंने अपने खेतों में काम करने वाले औज़ार उठाए और सड़क बनानी शुरू कर दी। ऐसा करने के पीछे उन्होने बताया कि अब इससे औरतों और बच्चों का बहुत समय बचेगा और वो लोग आराम से स्कूल, मार्केट और चर्च जा पाएंगे। केन्या के एक यू ट्यूब पेज पर निकोलस का एक वीडियो शेयर किया गया है जिसमें वो खुद इस रास्ते के बारे में बता रहे हैं। इस वीडियो को एक दिन के अंदर ही लगभग 15 हज़ार बार देखा गया है। इस वीडियो को देखकर यह प्रेरणा मिलती है कि कुछ भी नामुमकिन नहीं बस आपके ठानने की देरी है। यहां देखें वीडियो [embed]https://www.youtube.com/watch?v=gjmjyzQfprM[/embed]