केरल: बाढ़ के बाद रैट फीवर का कहर, 43 लोगों की मौत के बाद रेड एलर्ट जारी

केरल,बाढ़, रैट फीवर ,रेड एलर्ट
केरल: बाढ़ के बाद रैट फीवर का कहर, 43 लोगों की मौत के बाद रेड एलर्ट जारी

जहां केरल अभी तक बाढ़ के प्रकोप से उभर भी नहीं पाया था वहीं केरल के सिर पर एक और बड़ी मुसीबत सामने आ गयी। दरअसल बाढ़ के बाद अब राज्य में रैट फीवर/ लेप्टोपाइरोसिस नाम की बीमारी फैल रही है। 20 अगस्त से अबतक रैट फीवर के चलते 43 लोगों की मौत हो चुकी है इससे ही अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि कितना खतरनाक है यह फीवर। ऐसी चिंताजनक और भयावह हालात को देखते हुए केरल के कासरगोड जिले को छोड़कर अन्य 13 जिलों में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।

Kerala Facing Rat Fever 43 Died :

कोझिकोड और पथानमतिट्टा जिलों में 71 और लोगों में इस बीमारी के लक्षण मिले हैं। यह बीमारी जानवरों से धीरे-धीरे इंसानों में फैलती है और बाढ़ के दौरान इसका खतरा काफी बढ़ जाता है। कासरगोड जिले को छोड़कर बारिश और बाढ़ से राज्य के अन्य सभी 13 जिले प्रभावित हुए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि लगभग 350 लोगों में रैट फीवर की शिकायत मिली है। इन सभी का इलाज राज्य के विभिन्न हिस्सों में हो रहा है। जानकारी के मुताबिक, पिछले पांच दिनों में इनमें से 150 मामले सकारात्मक पाए गए हैं। रैट फीवर के अधिकतर मामले कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों से आए हैं।

जहां केरल अभी तक बाढ़ के प्रकोप से उभर भी नहीं पाया था वहीं केरल के सिर पर एक और बड़ी मुसीबत सामने आ गयी। दरअसल बाढ़ के बाद अब राज्य में रैट फीवर/ लेप्टोपाइरोसिस नाम की बीमारी फैल रही है। 20 अगस्त से अबतक रैट फीवर के चलते 43 लोगों की मौत हो चुकी है इससे ही अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि कितना खतरनाक है यह फीवर। ऐसी चिंताजनक और भयावह हालात को देखते हुए केरल के कासरगोड जिले को छोड़कर अन्य 13 जिलों में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। कोझिकोड और पथानमतिट्टा जिलों में 71 और लोगों में इस बीमारी के लक्षण मिले हैं। यह बीमारी जानवरों से धीरे-धीरे इंसानों में फैलती है और बाढ़ के दौरान इसका खतरा काफी बढ़ जाता है। कासरगोड जिले को छोड़कर बारिश और बाढ़ से राज्य के अन्य सभी 13 जिले प्रभावित हुए हैं। अधिकारियों ने बताया कि लगभग 350 लोगों में रैट फीवर की शिकायत मिली है। इन सभी का इलाज राज्य के विभिन्न हिस्सों में हो रहा है। जानकारी के मुताबिक, पिछले पांच दिनों में इनमें से 150 मामले सकारात्मक पाए गए हैं। रैट फीवर के अधिकतर मामले कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों से आए हैं।