केरल: भारी बारिश और भूस्खलन के चलते 22 लोगों की मौत

keral-barish
केरल: भारी बारिश और भूस्खलन के चलते 22 लोगों की मौत

नई दिल्ली। केरल में भारी बारिश के चलते अब तक 22 लोगों की मौत हो चुकी है। मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने मौसम पूर्वानुमान के मद्देनजर अलप्पुज्हा में शनिवार को होने वाली सालाना नेहरू रेस स्थगित कर दी है। विजयन ने कहा कि बारिश ने राज्यभर में जीवन और संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने कहा, हमने राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल की छह अतिरिक्त टीमों की मांग की है।

Kerala Rains 20 People Killed :

इडुक्की बांध में सुबह आठ बजे तक जल स्तर 2,398 फीट था जो जलाशय के पूर्ण स्तर के मुकाबले 50 फीट अधिक था। प्रशासन को हाई अलर्ट पर रखा गया है। कोझिकोड और वायनाड जिलों में भारी बारिश और बाढ़ के कारण राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) का एक दल कोझिकोड पहुंच गया है। केंद्र से उत्तर केरल के लिए दो टीमें भेजने के लिए कहा गया है। बारिश के कारण इडुक्की, कोल्लम और कुछ अन्य जिलों में शैक्षिक संस्थानों में गुरुवार को छुट्टी घोषित की गई है।

मुख्यमंत्री विजयन ने कहा, इडुक्की बांध के एक फाटक को खोलने पर विचार किया जा सकता है। सावधानी के तौर पर, कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड ने सूचित किया है कि 2.30 बजे तक सभी आने वाली उड़ानों को अन्य गंतव्यों में डाइवर्ट कर दिया जाएगा, जबकि रवाना होने वाले विमानों के लिए कोई समस्या नहीं होगी।

विजयन ने कहा कि बारिश से इडुक्की से 11, मलप्पुरम से छह, कोझिकोड से दो और वायनाड से एक मृतक शामिल है। उन्होंने कहा, चूंकि अधिक बारिश की संभावना है, अधिक सावधानी बरतने के कारण पुन्नामादा झील पर आगामी नेहरू वोट रेस स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। आयोजकों द्वारा नई तिथियों की घोषणा की जाएगी। विजयन ने कहा, चूंकि इस प्रकरण से व्यापक नुकसान और विनाश हुआ है, इसलिए पैसों की आवश्यकता है और हम उन सभी का आह्वाहन करते हैं, जो दान करना चाहते हैं। वे इसे मुख्यमंत्री के फंड में कर सकते हैं।

नई दिल्ली। केरल में भारी बारिश के चलते अब तक 22 लोगों की मौत हो चुकी है। मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने मौसम पूर्वानुमान के मद्देनजर अलप्पुज्हा में शनिवार को होने वाली सालाना नेहरू रेस स्थगित कर दी है। विजयन ने कहा कि बारिश ने राज्यभर में जीवन और संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने कहा, हमने राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल की छह अतिरिक्त टीमों की मांग की है।इडुक्की बांध में सुबह आठ बजे तक जल स्तर 2,398 फीट था जो जलाशय के पूर्ण स्तर के मुकाबले 50 फीट अधिक था। प्रशासन को हाई अलर्ट पर रखा गया है। कोझिकोड और वायनाड जिलों में भारी बारिश और बाढ़ के कारण राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) का एक दल कोझिकोड पहुंच गया है। केंद्र से उत्तर केरल के लिए दो टीमें भेजने के लिए कहा गया है। बारिश के कारण इडुक्की, कोल्लम और कुछ अन्य जिलों में शैक्षिक संस्थानों में गुरुवार को छुट्टी घोषित की गई है।मुख्यमंत्री विजयन ने कहा, इडुक्की बांध के एक फाटक को खोलने पर विचार किया जा सकता है। सावधानी के तौर पर, कोचीन इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड ने सूचित किया है कि 2.30 बजे तक सभी आने वाली उड़ानों को अन्य गंतव्यों में डाइवर्ट कर दिया जाएगा, जबकि रवाना होने वाले विमानों के लिए कोई समस्या नहीं होगी।विजयन ने कहा कि बारिश से इडुक्की से 11, मलप्पुरम से छह, कोझिकोड से दो और वायनाड से एक मृतक शामिल है। उन्होंने कहा, चूंकि अधिक बारिश की संभावना है, अधिक सावधानी बरतने के कारण पुन्नामादा झील पर आगामी नेहरू वोट रेस स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। आयोजकों द्वारा नई तिथियों की घोषणा की जाएगी। विजयन ने कहा, चूंकि इस प्रकरण से व्यापक नुकसान और विनाश हुआ है, इसलिए पैसों की आवश्यकता है और हम उन सभी का आह्वाहन करते हैं, जो दान करना चाहते हैं। वे इसे मुख्यमंत्री के फंड में कर सकते हैं।