20 साल पुराने केस में इन वजहों से हुई ‘टाईगर’ को सजा, जानें पूरी कहानी

SalmanKhan ,BlackBuck case
20 साल पुराने केस में इन वजहों से हुई 'टाईगर' को सजा, जानें पूरी कहानी

नई दिल्लीकाला हिरण शिकार(Blackbuck Poaching Case) मामले के दो दशक बाद बॉलीवुड के दबंग सलमान खान को जोधपुर सीजेएम कोर्ट ने दोषी करार देते हुए पांच साल की सजा सुनाई है, जबकि उनके साथ मामले में आरोपी रहे अन्य फिल्मी सितारों सैफ अली खान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और नीलम को बरी कर दिया गया है। वहीं सलमान को जोधपुर सेंट्रल जेल भेज दिया गया है। बता दें, इस मामले में सलमान के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण की धारा 9/51 में आरोप लगाए गए है।

Know All About Black Buck Case :

सलमान खान के खिलाफ जोधपुर में चार मामले दर्ज किए गए थे। इनमें से तीन मामले हिरण शिकार के और एक अवैध हथियार रखने के लिए दर्ज किया गया था। इनमें से दो मामलों पर सलमान को कोर्ट ने सजा सुनाई थी और उन्हें जेल जाना पड़ा था। वहीं अवैध हथियार रखने के मामले में कोर्ट ने सलमान को बरी कर दिया था और अब सलमान के खिलाफ इस चौथे मामले पर आज सजा सुनाई गयी है।

आइये आपको बताते हैं केस से जुड़ी पूरी कहानी…

काला हिरण शिकार मामला वर्ष 1998 का है। फिल्म ‘हम साथ साथ हैं’ की शूटिंग के दौरान जब सलमान खान, सैफ अली खान, तब्बू और सोनाली बेंद्रे एक जिप्सी में बैठकर जोधपुर के कणकणी गांव की सैर कर रहे थे, तभी उनके सामने से हिरणों का एक झुंड निकला। झुंड का पीछा करते हुए जब सभी कलाकर हिरणों के पास पहुंचे तब सलमान ने गोली चला दी, जिसमें दो हिरण की मौत हो जाती है। गोली की आवाज सुनते ही आसपास के ग्रामीण वहां पहुंचे तो उन्होने देखा कि सभी कलाकर मृत हिरणों को छोड़कर वहां से भाग निकले।

ऐसे हुआ मामले का खुलासा

काला हिरण मामला उस समय लोगों के सामने आया जब 2 अक्टूबर 1998 में हिरणों के शिकार का मामला दर्ज कराया गया। यह मामला विश्नोई के ग्रामीण द्वारा कराया था। जिसमें सलमान खान और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज हुआ। 2 अक्टूबर 1998 में मामला दर्ज होने के बाद 12 अक्टूबर 1998 में पहली बार सलमान को गिरफ्तार किया गया, लेकिन उनकी जमानत भी तुरंत हो गई।

मामले में नया मोड तब आया जब सलमान खान को ट्रायल कोर्ट ने 10 अप्रैल 2006 में वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट के तहत दोषी करार देते हुए 5 साल की सजा और 25 हजार रुपये का जुर्माना लगाया। इसके बाद राजस्थान हाईकोर्ट ने 31 अगस्त 2007 में काले हिरण के मामले में सलमान खान को 5 साल तक सजा सुनाई और उन्हे एक सप्ताह तक जोधपुर जेल में बंद रखा। लेकिन सलमान की अपील के बाद सजा सस्पेंड कर दी गई। 2012 में राजस्थान कोर्ट में मामले में आरोपियों के खिलाफ आरोप तय किए और मामले में ट्रायल का नया मोड़ जुड़ गया।

सजा सस्पेंड होने पर राज्य सरकार ने जताया विरोध

सजा सस्पेंड होने पर राज्य सरकार ने राजस्थान हाईकोर्ट के फैसले पर प्रश्न चिह्न खड़ा कर दिया और सुप्रीम कोर्ट से अपील की गई। जिसके तहत सलमान खान की 5 साल की सजा सस्पेंड कर दी गई थी। 9 जुलाई 2016 में राज्य सरकार की अपील पर सुप्रिम कोर्ट ने सलमान खान को नोटिस भेजा। मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने फास्ट ट्रैक करने का आदेश दिया।

सलमान के खिलाफ कोई ठोस सबूत न होने की वजह से हाईकोर्ट में सलमान की 5 साल की सजा को उस समय सस्पेंड कर दिया था। कोर्ट ने यह बताते हुए उन्हे बरी कर दिया था कि सलमान ने अपने लाइसेंसी बंदूक से ही शिकार किया था। बता दें कि इस बात जिक्र सलमान के वकील 27 जनवरी 2017 को सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई दौरान की थी। 28 मार्च 2018 में इस मामले का ट्रायल पूरी हो गई है और फैसला सुरक्षित रखा।

ये था सलमान का तर्क 

काला हिरण शिकार मामले में सलमान खान ने 27 जनवरी 2017 को जोधपुर कोर्ट को बताया था कि हिरण की मौत स्वाभाविक थी। उन्होंने कहा, हिरण को उन्होंने नहीं मारा था। जज ने सलमान खान से कहा, आपको दो लोगों ने देखा। जिनका कहना है कि आपने काले हिरण का शिकार किया। सलमान ने कहा- गलत। जज ने कहा जीप में खून के धब्बे मिले थे और काले हिरण के बाल भी पाए गए थे। सलमान ने फिर कहा- गलत। जज ने कहा, उस रात आप शूटिंग पर गए थे? सल्लू भाई ने जवाब दिया नहीं।

नई दिल्लीकाला हिरण शिकार(Blackbuck Poaching Case) मामले के दो दशक बाद बॉलीवुड के दबंग सलमान खान को जोधपुर सीजेएम कोर्ट ने दोषी करार देते हुए पांच साल की सजा सुनाई है, जबकि उनके साथ मामले में आरोपी रहे अन्य फिल्मी सितारों सैफ अली खान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और नीलम को बरी कर दिया गया है। वहीं सलमान को जोधपुर सेंट्रल जेल भेज दिया गया है। बता दें, इस मामले में सलमान के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण की धारा 9/51 में आरोप लगाए गए है।सलमान खान के खिलाफ जोधपुर में चार मामले दर्ज किए गए थे। इनमें से तीन मामले हिरण शिकार के और एक अवैध हथियार रखने के लिए दर्ज किया गया था। इनमें से दो मामलों पर सलमान को कोर्ट ने सजा सुनाई थी और उन्हें जेल जाना पड़ा था। वहीं अवैध हथियार रखने के मामले में कोर्ट ने सलमान को बरी कर दिया था और अब सलमान के खिलाफ इस चौथे मामले पर आज सजा सुनाई गयी है।

आइये आपको बताते हैं केस से जुड़ी पूरी कहानी...

काला हिरण शिकार मामला वर्ष 1998 का है। फिल्म ‘हम साथ साथ हैं’ की शूटिंग के दौरान जब सलमान खान, सैफ अली खान, तब्बू और सोनाली बेंद्रे एक जिप्सी में बैठकर जोधपुर के कणकणी गांव की सैर कर रहे थे, तभी उनके सामने से हिरणों का एक झुंड निकला। झुंड का पीछा करते हुए जब सभी कलाकर हिरणों के पास पहुंचे तब सलमान ने गोली चला दी, जिसमें दो हिरण की मौत हो जाती है। गोली की आवाज सुनते ही आसपास के ग्रामीण वहां पहुंचे तो उन्होने देखा कि सभी कलाकर मृत हिरणों को छोड़कर वहां से भाग निकले।

ऐसे हुआ मामले का खुलासा

काला हिरण मामला उस समय लोगों के सामने आया जब 2 अक्टूबर 1998 में हिरणों के शिकार का मामला दर्ज कराया गया। यह मामला विश्नोई के ग्रामीण द्वारा कराया था। जिसमें सलमान खान और अन्य के खिलाफ मामला दर्ज हुआ। 2 अक्टूबर 1998 में मामला दर्ज होने के बाद 12 अक्टूबर 1998 में पहली बार सलमान को गिरफ्तार किया गया, लेकिन उनकी जमानत भी तुरंत हो गई।मामले में नया मोड तब आया जब सलमान खान को ट्रायल कोर्ट ने 10 अप्रैल 2006 में वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट के तहत दोषी करार देते हुए 5 साल की सजा और 25 हजार रुपये का जुर्माना लगाया। इसके बाद राजस्थान हाईकोर्ट ने 31 अगस्त 2007 में काले हिरण के मामले में सलमान खान को 5 साल तक सजा सुनाई और उन्हे एक सप्ताह तक जोधपुर जेल में बंद रखा। लेकिन सलमान की अपील के बाद सजा सस्पेंड कर दी गई। 2012 में राजस्थान कोर्ट में मामले में आरोपियों के खिलाफ आरोप तय किए और मामले में ट्रायल का नया मोड़ जुड़ गया।

सजा सस्पेंड होने पर राज्य सरकार ने जताया विरोध

सजा सस्पेंड होने पर राज्य सरकार ने राजस्थान हाईकोर्ट के फैसले पर प्रश्न चिह्न खड़ा कर दिया और सुप्रीम कोर्ट से अपील की गई। जिसके तहत सलमान खान की 5 साल की सजा सस्पेंड कर दी गई थी। 9 जुलाई 2016 में राज्य सरकार की अपील पर सुप्रिम कोर्ट ने सलमान खान को नोटिस भेजा। मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने फास्ट ट्रैक करने का आदेश दिया।सलमान के खिलाफ कोई ठोस सबूत न होने की वजह से हाईकोर्ट में सलमान की 5 साल की सजा को उस समय सस्पेंड कर दिया था। कोर्ट ने यह बताते हुए उन्हे बरी कर दिया था कि सलमान ने अपने लाइसेंसी बंदूक से ही शिकार किया था। बता दें कि इस बात जिक्र सलमान के वकील 27 जनवरी 2017 को सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई दौरान की थी। 28 मार्च 2018 में इस मामले का ट्रायल पूरी हो गई है और फैसला सुरक्षित रखा।

ये था सलमान का तर्क 

काला हिरण शिकार मामले में सलमान खान ने 27 जनवरी 2017 को जोधपुर कोर्ट को बताया था कि हिरण की मौत स्वाभाविक थी। उन्होंने कहा, हिरण को उन्होंने नहीं मारा था। जज ने सलमान खान से कहा, आपको दो लोगों ने देखा। जिनका कहना है कि आपने काले हिरण का शिकार किया। सलमान ने कहा- गलत। जज ने कहा जीप में खून के धब्बे मिले थे और काले हिरण के बाल भी पाए गए थे। सलमान ने फिर कहा- गलत। जज ने कहा, उस रात आप शूटिंग पर गए थे? सल्लू भाई ने जवाब दिया नहीं।