शरद पूर्णिमा 2018: कर्ज से मुक्ति और धन की प्राप्ति के लिए करें ये उपाय

शरद पूर्णिमा 2018
Sharad Purnima 2018: रातभर में खीर कैसे बन जाती है अमृत, जाने वैज्ञानिक कारण

Know All About Sharad Purnima Vrat And Pujan Vidhi

लखनऊ। पूरे भारतार्ष में शरद पूर्णिमा इस बार 24 अक्टूबर को मनाई जायेगी। पूर्णिमा तिथि 23 अक्टूबर को रात 10:36 पर शुरु होगी और जिसका समापन 24 अक्टूबर रात 10:14 पर होगा। यह पूर्णिमा सभी बारह पूर्णिमाओं में सबसे सर्वश्रेष्ठ मानी गयी गई है। इस दिन की खासबाट यह है कि इस दिन चंद्रमा की सोलह कलाओं की शीतलता देखने लायक होती है। पूर्णिमा की पूजा, व्रत और स्नान बुधवार यानी 24 अक्टूबर को ही होगा।

शरद पूर्णिमा को कोजागर पूर्णिमा और कोजागरी के नाम से भी जाना जाता है। ऐसी मान्याता है कि इस रात को मां लक्ष्मी स्वर्ग लोक से पृथ्वी पर प्रकट होती हैं। इस रात जो मां लक्ष्मी को जो भी व्यक्ति पूजा करता हुआ दिखाई देता है मां उस पर अपनी कृपा बरसाती हैं।

शरद पूर्णिमा 2018: जाने कब है शरद पूर्णिमा, क्या है इस दिन का महत्त्व और पूजन विधि


पूजा करने से होंगे यह लाभ

  • शरद पूर्णिमा की रात जब चारों तरफ चांद की रोशनी बिखरती है उस समय मां लक्ष्मी की पूरा करने आपको धन का लाभ होगा।
  • मां लक्ष्मी को सुपारी बहुत पसंद है। सुपारी का इस्तेमाल पूजा में करें। पूजा के बाद सुपारी पर लाल धागा लपेटकर उसको अक्षत, कुमकुम, पुष्प आदि से पूजन करके उसे तिजोरी में रखने से आपको धन की कभी कमी नहीं होगी।
  • शरद पूर्णिमा की रात भगवान शिव को खीर का भोग लगाएं। खीर को पूर्णिमा वाली रात छत पर रखें। भोग लगाने के बाद उस खीर का प्रसाद ग्रहण करें। उस उपाय से भी आपको कभी पैसे की कमी नहीं होगी।
  • शरद पूर्णिमा की रात को हनुमान जी के सामने चौमुखा दीपक जलाएं। इससे आपके घर में सुख शांति बनी रहेगी।
लखनऊ। पूरे भारतार्ष में शरद पूर्णिमा इस बार 24 अक्टूबर को मनाई जायेगी। पूर्णिमा तिथि 23 अक्टूबर को रात 10:36 पर शुरु होगी और जिसका समापन 24 अक्टूबर रात 10:14 पर होगा। यह पूर्णिमा सभी बारह पूर्णिमाओं में सबसे सर्वश्रेष्ठ मानी गयी गई है। इस दिन की खासबाट यह है कि इस दिन चंद्रमा की सोलह कलाओं की शीतलता देखने लायक होती है। पूर्णिमा की पूजा, व्रत और स्नान बुधवार यानी 24 अक्टूबर को ही होगा। शरद पूर्णिमा को कोजागर…