जानिए, गरीब मजदूरों के लिए मसीहा बने अभिनेता सोनू सूद के पास है कितनी संपत्ति?

sonu
जानिए, गरीब मजदूरों के लिए मसीहा बने अभिनेता सोनू सूद के पास है कितनी संपत्ति?

सलमान खान की फिल्म दबंग में ‘छेदी सिंह’ का नेगेटिव किरदार निभाकर सुर्खियां बटोरने वाले फिल्म अभिनेता सोनू सूद इन दिनों प्रवासी मजदूरों के लिए किसी हीरो से कम नहीं हैं। लॉकडाउन के चलते महाराष्ट्र के अलग-अलग हिस्सों में फंसे प्रवासी मजदूरों को सोनू सूद बसों की व्यवस्था करके उन्हें खाना-पानी देकर अपने घर पहुंचा रहे हैं।

Know How Much Wealth Sonu Sood The Actor Who Has Become The Messiah For Poor Laborers Has :

सोशल मीडिया पर लोग सोनू सूद को मजदूरों के लिए फरिश्ता बताते हुए उनकी जमकर तारीफ भी कर रहे हैं। सोनू सूद कह चुके हैं कि वो तब तक कोशिश करते रहेंगे, जब तक आखिरी प्रवासी मजदूर अपने परिवार के पास नहीं पहुंच जाता। आइए जानते हैं कि मुश्किल घड़ी में इन प्रवासी मजदूरों के लिए मसीहा बने सोनू सूद कितनी संपत्ति के मालिक हैं।

इतनी संपत्ति के मालिक हैं सोनू सूद

‘रिपब्लिक वर्ल्ड’ की खबर के मुताबिक, सोनू सूद करीब 130.339 करोड़ रुपए की संपत्ति के मालिक हैं। 1999 से अपने करियर की शुरुआत करने वाले सोनू सूद फिल्मों के अलावा विज्ञापनों के जरिए भी कमाई करते हैं। सोनू सूद का घर मुंबई के अंधेरी वेस्ट में स्थित लोखंडवाला के यमुना नगर में है। प्रवासी मजदूरों के लिए बसों की व्यवस्था करने के अलावा सोनू सूद ने पिछले दिनों जुहू में बने अपने होटल में डॉक्टरों, नर्सों और पैरा मेडिकल स्टाफ सहित स्वास्थ्य कर्मियों के लिए ठहरने की व्यवस्था भी की थी।

सोनाली से 1996 में हुई थी शादी

सोनू सूद के परिवार में उनकी पत्नी सोनाली और दो बेटे हैं- ईशान और अयान हैं। पंजाब के मोगा में जन्मे सोनू सूद के पास इलेक्ट्रॉनिक्स में इंजीनियरिंग की डिग्री भी है। यशवंतराव चव्हाण कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में बीई की पढ़ाई के दौरान ही सोनाली से उनकी मुलाकात हुई थी और इसके बाद 1996 में दोनों ने शादी कर ली। हालांकि उनकी पत्नी सोनाली का बॉलीवुड से दूर-दूर तक कोई कनेक्शन नहीं है और वो लाइमलाइट से दूर ही रहती हैं।

प्रवासी मजदूरों के लिए ऐसे बने मसीहा

आपको बता दें कि कोरोन वायरस की महामारी के कारण देशभर में लॉकडाउन लगाया गया था, जिसके चलते बड़ी संख्या में लोगों के सामने रोजगार का संकट खड़ा हो गया। इसके बाद प्रवासी मजदूर पैदल ही अपने-अपने घरों के लिए निकल पड़े थे। ऐसे मुश्किल हालात में सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों के लिए बसों की व्यवस्था की और उन्हें उनके घर भेजना शुरू किया। बसों की व्यवस्था करते हुए सोनू सूद ने कहा कि मेरा मानना है कि वर्तमान समय में जब हम सभी इस वैश्विक स्वास्थ्य आपदा का सामना कर रहे हैं तो प्रत्येक भारतीय को अपने परिवार और प्रियजनों के साथ रहना चाहिए और वह इसका हकदार भी है।

सलमान खान की फिल्म दबंग में 'छेदी सिंह' का नेगेटिव किरदार निभाकर सुर्खियां बटोरने वाले फिल्म अभिनेता सोनू सूद इन दिनों प्रवासी मजदूरों के लिए किसी हीरो से कम नहीं हैं। लॉकडाउन के चलते महाराष्ट्र के अलग-अलग हिस्सों में फंसे प्रवासी मजदूरों को सोनू सूद बसों की व्यवस्था करके उन्हें खाना-पानी देकर अपने घर पहुंचा रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोग सोनू सूद को मजदूरों के लिए फरिश्ता बताते हुए उनकी जमकर तारीफ भी कर रहे हैं। सोनू सूद कह चुके हैं कि वो तब तक कोशिश करते रहेंगे, जब तक आखिरी प्रवासी मजदूर अपने परिवार के पास नहीं पहुंच जाता। आइए जानते हैं कि मुश्किल घड़ी में इन प्रवासी मजदूरों के लिए मसीहा बने सोनू सूद कितनी संपत्ति के मालिक हैं। इतनी संपत्ति के मालिक हैं सोनू सूद 'रिपब्लिक वर्ल्ड' की खबर के मुताबिक, सोनू सूद करीब 130.339 करोड़ रुपए की संपत्ति के मालिक हैं। 1999 से अपने करियर की शुरुआत करने वाले सोनू सूद फिल्मों के अलावा विज्ञापनों के जरिए भी कमाई करते हैं। सोनू सूद का घर मुंबई के अंधेरी वेस्ट में स्थित लोखंडवाला के यमुना नगर में है। प्रवासी मजदूरों के लिए बसों की व्यवस्था करने के अलावा सोनू सूद ने पिछले दिनों जुहू में बने अपने होटल में डॉक्टरों, नर्सों और पैरा मेडिकल स्टाफ सहित स्वास्थ्य कर्मियों के लिए ठहरने की व्यवस्था भी की थी। सोनाली से 1996 में हुई थी शादी सोनू सूद के परिवार में उनकी पत्नी सोनाली और दो बेटे हैं- ईशान और अयान हैं। पंजाब के मोगा में जन्मे सोनू सूद के पास इलेक्ट्रॉनिक्स में इंजीनियरिंग की डिग्री भी है। यशवंतराव चव्हाण कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में बीई की पढ़ाई के दौरान ही सोनाली से उनकी मुलाकात हुई थी और इसके बाद 1996 में दोनों ने शादी कर ली। हालांकि उनकी पत्नी सोनाली का बॉलीवुड से दूर-दूर तक कोई कनेक्शन नहीं है और वो लाइमलाइट से दूर ही रहती हैं। प्रवासी मजदूरों के लिए ऐसे बने मसीहा आपको बता दें कि कोरोन वायरस की महामारी के कारण देशभर में लॉकडाउन लगाया गया था, जिसके चलते बड़ी संख्या में लोगों के सामने रोजगार का संकट खड़ा हो गया। इसके बाद प्रवासी मजदूर पैदल ही अपने-अपने घरों के लिए निकल पड़े थे। ऐसे मुश्किल हालात में सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों के लिए बसों की व्यवस्था की और उन्हें उनके घर भेजना शुरू किया। बसों की व्यवस्था करते हुए सोनू सूद ने कहा कि मेरा मानना है कि वर्तमान समय में जब हम सभी इस वैश्विक स्वास्थ्य आपदा का सामना कर रहे हैं तो प्रत्येक भारतीय को अपने परिवार और प्रियजनों के साथ रहना चाहिए और वह इसका हकदार भी है।