जानिए कैसे दो रुपये के सिक्के से रोकते थे ट्रेन, लुटेरों का अनोखा अंदाज

train

Know How The Train Was Stopped By 2 Rupees Coin

नोएडा। उत्तर प्रदेश की ग्रेटर नोएडा पुलिस और आरपीएफ़ ने मिलकर  रेल पटरी पर सिक्का लगाकर ट्रेन रोक लूट करने वाले गुंडों का किया खुलासा। मामले में पुलिस ने दो सदस्यों को धार दबोचा है साथ ही बाकी सदस्यों की तलाश जारी है।

मामले में पूछताछ के दौरान ट्रेन को रोकने का एक अनोखा तरीका भी सामने आया है। बदमाशों ने बताया कि ट्रेन की पटरी के बीच दो रुपये का सिक्का डाल कर अर्थिंग के जरिए हरे सिग्नल को लाल कर देते थे जिसे ट्रेन चालक खतरा समझ कर ट्रेन को रोक देता था। ट्रेन रुकते ही बदमाश ट्रेन में घुस लूटपाट करते हैं।

इस लूटपाट के गिरोह में कुल आठ सदस्य का हाथ है जिसमें तीन पहले ही गिरफ्तार थे और दो को अभी नोएडा में गिरफ्तार कर लिया गया साथ ही बाकी की तलाश जारी है।

कैसे हुआ बदमाशों का खुलासा

बीते कई दिनों से दिल्ली-हावड़ा रूट व मुरादाबाद रूट पर लगातार बदमाश लूटपाट कर रहे थे और मामले की शिकायत के बाद पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज खंगालना शुरू कर दिया। सीसीटीवी की मदद में एक बदमाश की पहचान हो गयी।

बदमाशों का अगला निशाना दादरी-अलीगढ़ रूट पर जाने वाली ट्रेन के यात्री थे। बदमाशों की लोकेशन के आधार पर तिलपता के समीप से दो बदमाशों को गिरफ्तार किया गया, जबकि दो मौके से भाग निकले। पकड़े गए बदमाशों की पहचान बुलंदशहर के रहने वाले राजन व दिनेश के रूप में हुई है।

बदमाशों के पास से तमंचा, दो रुपये का सिक्का बरामद किया गया है। पुलिस ने बताया कि सभी बदमाश एक ही गांव के रहने वाले हैं। पूछताछ में यह भी सामने आया कि दोनों आरोपियों ने मुरादाबाद, अलीगढ़ और गाजियाबाद में 3 दर्जन से ज्यादा ट्रेनों में लूट की वारदातों को अंजाम देने की बात स्वीकार की हैं।

नोएडा। उत्तर प्रदेश की ग्रेटर नोएडा पुलिस और आरपीएफ़ ने मिलकर  रेल पटरी पर सिक्का लगाकर ट्रेन रोक लूट करने वाले गुंडों का किया खुलासा। मामले में पुलिस ने दो सदस्यों को धार दबोचा है साथ ही बाकी सदस्यों की तलाश जारी है। मामले में पूछताछ के दौरान ट्रेन को रोकने का एक अनोखा तरीका भी सामने आया है। बदमाशों ने बताया कि ट्रेन की पटरी के बीच दो रुपये का सिक्का डाल कर अर्थिंग के जरिए हरे सिग्नल को…