1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. जानिए सर्दी में आलस्य से दूर करने और स्वस्थ रहने के दस उपाय

जानिए सर्दी में आलस्य से दूर करने और स्वस्थ रहने के दस उपाय

किसी को फिट रखने के लिए शारीरिक गतिविधि एक महत्वपूर्ण पहलू है। आलस्य के लक्षण दिखने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं ही बढ़ सकती हैं।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

सर्दियों के महीनों में आलस महसूस होना स्वाभाविक है। गिरते तापमान के कारण कई लोग अपने वर्कआउट सेशन को छोड़ कर अधिक समय तक कंबल के नीचे रहना चाहते हैं। लेकिन, ठंड के महीनों में सेहत के लिहाज से कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है। आलस्य के लक्षण दिखने से स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं ही बढ़ सकती हैं।

पढ़ें :- Makhana Benefits : मखाना खाने से तनाव कम होता है, कई तरह के फायदे मिलते हैं

ठंडे तापमान जो लोगों को घर के अंदर रखते हैं, उन्हें व्यायाम करने से रोक सकते हैं, जिससे वे बीमारियों के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाते हैं। घर के अंदर रहने से गतिहीन आदतें होती हैं और इससे कोलेस्ट्रॉल के स्तर में उतार-चढ़ाव हो सकता है जिससे मधुमेह, हृदय रोग और बहुत कुछ जैसी बीमारियां हो सकती हैं। इसके अलावा, सर्दियों के महीनों में भी अधिक खाने का कारण बन सकता है

1. व्यायाम: किसी को फिट रखने के लिए शारीरिक गतिविधि एक महत्वपूर्ण पहलू है। दैनिक योग या किसी भी प्रकार की गतिविधि आपको गर्म रखने और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करेगी, फ्लू और सर्दी जैसी मौसमी बीमारियों से बचाव में सुधार करेगी। यदि आपको अस्थमा, हृदय की समस्याएं या रेनॉड रोग जैसी कुछ स्थितियां हैं, तो किसी विशेष सावधानियों या दवाओं की समीक्षा करने के लिए पहले अपने चिकित्सक से संपर्क करें।

2. स्वस्थ आहार: प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए साबुत अनाज, दुबला मांस, मछली, मुर्गी पालन, फलियां, नट और बीज, जड़ी-बूटियों और मसालों के साथ-साथ ताजे फल और सब्जियां खाएं। विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ लें, क्योंकि यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और आपके शरीर को फिट रखने में मदद करता है। हाई-कैलोरी विंटर डिलाइट्स का सेवन न करें।

3. स्ट्रेस को मैनेज करें: जब भी आप स्ट्रेस महसूस करें तो ब्रेक लें और कुछ ऐसा करें जिससे आपका दिमाग इससे हट जाए। यह आपके तनाव प्रतिक्रिया प्रणाली को आराम करने का मौका देता है।

पढ़ें :- Cinnamon Health Benefits : दालचीनी करेगी बीमारियों से बचाव,परेशानियों से मिलेगी राहत

4. नियमित स्वास्थ्य जांच: सर्दियों में, लोग अन्य लोगों के निकट संपर्क में घर के अंदर रहना पसंद करते हैं, इस प्रकार बीमारियों के त्वरित और आसान संचरण की सुविधा होती है। इसके अलावा, धुंधली जलवायु और कम धूप बैक्टीरिया के विकास में मदद करती है। इस प्रकार, स्वास्थ्य जांच निवारक कदमों के रूप में महत्वपूर्ण हैं।

5. अपने जीवन की निगरानी करें: किसी के रक्तचाप, हृदय गति और रक्त शर्करा के स्तर पर ध्यान देना आवश्यक है। बड़े उतार-चढ़ाव दर्ज होने की स्थिति में डॉक्टर से सलाह लें।

6. धूम्रपान न करें: अधिक मात्रा में धूम्रपान और शराब के सेवन से बचना चाहिए। शराब का हृदय की मांसपेशियों पर विषैला प्रभाव पड़ता है। यह आलिंद फिब्रिलेशन को जन्म दे सकता है  एक असामान्य हृदय ताल। धूम्रपान हृदय की समस्याओं, सांस की बीमारियों को बढ़ा सकता है और उच्च रक्तचाप का कारण बन सकता है।

7. पर्याप्त नींद : नींद लेना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह अगले दिन ऊर्जा और भूख के स्तर को स्थिर करते हुए शरीर को पुन: उत्पन्न करने में मदद करता है। राष्ट्रीय हृदय, फेफड़े और रक्त संस्थान द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, यह अनुशंसा की जाती है कि एक व्यक्ति रोजाना कम से कम 7 से 8 घंटे सोए। यदि कोई स्लीप एपनिया, स्लीप डिसऑर्डर से पीड़ित है, तो उसे तुरंत जांच करवानी चाहिए क्योंकि यह हृदय रोगों से जुड़ा है।

8. मौसम के अनुसार कपड़े पहनें : लोगों को आधे कपड़े पहने बाहर जाने से बचना चाहिए। हाइपोथर्मिया (कम शरीर के तापमान) से बचने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे कपड़ों की परतों, विशेष रूप से एक कोट, टोपी, दस्ताने और भारी मोजे पहनकर कवर करें। चूंकि सिर से बहुत अधिक गर्मी निकल जाती है, इसलिए स्कार्फ या टोपी पहनने की भी सिफारिश की जाती है।

पढ़ें :- High Energy : दिनभर भरपूर ऊर्जा के लिए खाएं ऐसा भोजन, थकान और तनाव से मुक्त हो जाएंगे

9. बाहर जाने से बचें: किसी को भी लंबे समय तक बाहर रहने की कोशिश करनी चाहिए। घर के अंदर रहने से शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी।

10. बार-बार हाथ धोएं: श्वसन संक्रमण से दिल का दौरा पड़ने की संभावना बढ़ सकती है। नियमित रूप से साबुन और पानी से हाथ धोकर इससे बचना चाहिए। इसके अतिरिक्त, यदि कोई फ्लू के लक्षण दिखाई देते हैं, जैसे बुखार, वायरल खांसी, या शरीर में दर्द, फ्लू शॉट या एंटीवायरल दवा के लिए डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...