1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. जानिए दिल का दौरा का लक्षण, कारण और इलाज

जानिए दिल का दौरा का लक्षण, कारण और इलाज

जानिए इसके लक्षण, कारण और इससे कैसे बचा जा सकता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

हृदय को हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग माना जाता है। यह एक मुट्ठी के आकार का एक पेशीय अंग है, जो ब्रेस्टबोन के ठीक पीछे और थोड़ा बाईं ओर स्थित होता है और यह हमारे शरीर को ऊपर और चलाने के लिए धमनियों और नसों के नेटवर्क के माध्यम से रक्त पंप करता है।

पढ़ें :- जाने क्या है हॉर्टअटैक का आम कारण एंव लक्षण

शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक होने के कारण यह स्वाभाविक है कि व्यक्ति को अपना थोड़ा अतिरिक्त ध्यान रखने की आवश्यकता होती है।

वैसे तो लोग अपने दिल का अच्छे से ख्याल रखते हैं, लेकिन बीमारियां और उससे जुड़ी समस्याएं खासकर हार्ट अटैक दुनिया में आम बात है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, हृदय रोग या हृदय रोग विश्व स्तर पर मृत्यु का प्रमुख कारण हैं

हर साल अनुमानित 17.9 मिलियन लोगों की जान जाती है। लोगों को इस जानलेवा बीमारी के बारे में जानना बहुत जरूरी है ताकि इससे बचाव और सही समय पर इसका इलाज हो सके।

हृदय शरीर का एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है जो हमारे शरीर में ब्रेस्टबोन के थोड़े से हिस्से में स्थित होता है। इसमें 4 कक्ष बाएँ और दाएँ और ऊपर और नीचे हैं। हृदय के निचले भाग में स्थित दो कक्ष हमारे शरीर के माध्यम से रक्त पंप करने के लिए जिम्मेदार होते हैं और यह अशुद्ध रक्त को शुद्ध करने के लिए वापस ले जाता है।

पढ़ें :- Makhana Benefits : मखाने खाने के फायदे ही फायदे है, लंबे समय तक पेट भरा हुआ लगता है

यह परिपथ हमारे शरीर में निरंतर चलता रहता है। इसे बनाए रखने के लिए हमारा दिल एक मिनट में लगभग 100 बार धड़कता है और यह सुनिश्चित करने के लिए कि हृदय को ऑक्सीजन और भोजन की आवश्यकता होती है।

दिल का दौरा तब पड़ता है जब दिल को पर्याप्त ऑक्सीजन की आपूर्ति नहीं की जाती है ताकि फटने या रक्त के थक्के के कारण रक्त को शुद्ध और शुद्ध किया जा सके। रक्त के प्रवाह में एक रुकावट होती है जो ज्यादातर वसा, कोलेस्ट्रॉल और अन्य पदार्थों द्वारा निर्मित होती है, जो हृदय को खिलाने वाली धमनियों में पट्टिका का निर्माण करती हैं। दिल का दौरा पड़ने के लक्षण हैं

सबसे पहले यह पहचानना चाहिए कि लक्षण दिल के दौरे के हैं और आपको लक्षणों के बारे में स्पष्ट होना चाहिए, इसके बाद एक व्यक्ति को तुरंत घर पर या उस समय के आसपास के लोगों को सूचित करना चाहिए और संकोच नहीं करना चाहिए।

इसके बाद, यदि उपलब्ध हो तो आपको एस्पिरिन की एक गोली लेनी चाहिए क्योंकि इससे दिल के दौरे की संभावना कम हो जाती है। फिर किसी को तुरंत निकटतम चिकित्सा सुविधा में जाना चाहिए या एम्बुलेंस के लिए कॉल करना चाहिए। चिकित्सा सुविधा में, आपको आवश्यक सर्वोत्तम संभव सहायता प्रदान की जाएगी।

पढ़ें :- बारिश में डेंगू जैसी बीमारियों से रहें सावधान, जानिए क्या है लक्षण
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...