1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. जानें कहां से 195 साल पहले निकला था देश का पहला हिंदी अखबार ‘उदंत मार्त्तंड’?

जानें कहां से 195 साल पहले निकला था देश का पहला हिंदी अखबार ‘उदंत मार्त्तंड’?

देश में 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवस मनाया जा रहा है। आज ही के दिन 195 साल पहले कलकत्ता (अब कोलकाता) से हिंदी भाषा के पहले अखबार का प्रकाशन शुरू हुआ था। बता दें कि जिस स्थान से हिंदी का पहला समाचार पत्र उदंत मार्त्तंड प्रकाशन शुरू हुआ था, आज वहां उसका निशां तक नहीं बचा है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। देश में 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवस मनाया जा रहा है। आज ही के दिन 195 साल पहले कलकत्ता (अब कोलकाता) से हिंदी भाषा के पहले अखबार का प्रकाशन शुरू हुआ था। बता दें कि जिस स्थान से हिंदी का पहला समाचार पत्र उदंत मार्त्तंड प्रकाशन शुरू हुआ था, आज वहां उसका निशां तक नहीं बचा है।

पढ़ें :- West Bengal News: पश्चिम बंगाल में  कानून व्यवस्था पर उठ रहे सवाल, आखिर क्यों नहीं रुक रही बम से हमले की घटनाएं?

मध्य कोलकाता के कोलू टोला नामक मोहल्ले के 37 नंबर अमरतल्ला लेन स्थित जिस मकान से कानुपुर निवासी पंडित जुगल किशोर सुकुल (शुक्ल) ने 30 मई, 1826 में उदंत मार्त्तंड का प्रकाशन शुरू किया था, लेकिन आज उस मकान का तो नामोनिशान मिट चुका है।

बड़ाबाजार के इस इलाके में अमरतल्ला स्ट्रीट व अमरतल्ला लेन आज भी मौजूद हैं। इस लेन में एक से शुरू होकर 27 पर खत्म हो जाता है। वहीं, इसी से सटा अमरतल्ला स्ट्रीट एक से शुरू होकर 29 नंबर पर समाप्त हो जाता है। 37 नंबर अमरतल्ला लेन जिस जगह से यह अखबार शुरू हुआ था। इसी लेन में रहने वाले बिहार-उत्तर प्रदेश के हिंदी भाषी लोगों को भी नहीं पता है कि कभी इस स्थान से हिंदी का पहला अखबार प्रकाशित हुआ था।

ऐसे में यह विडंबना ही है कि जहां से पहला हिंदी अखबार शुरू हुआ था। उस स्थान का इतिहास तक मिट चुका है। न तो कभी किसी सरकार ने और न ही किसी संस्था या व्यक्ति ने इस ऐतिहासिक धरोहर को सहेजने या इसकी पहचान कायम रखने के लिए कोई पहल की। हालांकि, उत्तर प्रदेश के प्रयाग स्थित आध्यात्मिक, साहित्यिक, सामाजिक चिंतन मनन के प्रति समर्पित पं.देवीदत्त शुक्ल, पं.रमादत्त शुक्ल शोध संस्थान की ओर से प्रस्ताव रखा गया है कि उदंत मार्त्तंड के प्रकाशन स्थल की पहचान कर या उसके समीप स्मारक का निर्माण समय की मांग है।

उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद निवासी पंडित जुगल किशोर शुक्ल के माध्यम से देश को प्रथम हिंदी समाचार पत्र ‘उदंत मार्त्तंड’ की प्राप्ति हुई

पढ़ें :- West Bengal : अभिषेक बनर्जी की रैली से पहले ब्लास्ट से दो लोगों की हुई मौत, जांच में जुटी पुलिस

उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद निवासी पंडित जुगल किशोर शुक्ल और उदंत मार्त्तंड के माध्यम से देश को प्रथम हिंदी समाचार पत्र की प्राप्ति हुई, जिसका केंद्र कोलकाता बना। इसके कारण कोलकाता व पश्चिम बंगाल के गौरव में अभिवृद्धि हुई, लेकिन अधिकांश लोग इस तथ्य से अभी भी अपरिचित हैं। अतः उदंत मार्त्तंड का प्रकाशन कोलकाता के जिस 37 नंबर अमरतल्ला लेन, बड़ाबाजार से होता था, उस स्थान की पहचान कर अथवा उसके समीप भव्य स्मारक का निर्माण कराया जाना आज समय की मांग है। उस स्मारक में पंडित शुक्ल की प्रतिमा और उदंत मार्त्तंड के प्रारंभिक अंकों का प्रदर्शन और उससे संबंधित इतिहास की जानकारी उपलब्ध कराई जाए। यह स्मारक कोलकाता, बंगाल को हिंदी जगत से जोड़ने में निश्चय ही एक महत्वपूर्ण सेतु के रूप में भूमिका निभाएगा।

30 मई को हिंदी दिवस के मौके पर वृहद हिंदी कार्यक्रम का हो आयोजन 

– बंगाल सरकार के तरफ से प्रतिवर्ष 30 मई को हिंदी दिवस के मौके पर वृहद हिंदी कार्यक्रम के आयोजन की परंपरा भी प्रारंभ की जाए, जिसमें कोलकाता- बंगाल तथा समीपवर्ती अन्य अहिंदी भाषी प्रदेशों में हिंदी के प्रचार-प्रसार में सहयोग करने वाले पत्रकारों,साहित्यकारों, हिंदी- हितैषियों को उदंत मार्त्तंड एवं पंडित जुगल किशोर सुकुल स्मृति शिखर सम्मान से पुरस्कृत किया जाना चाहिए।

– इसके साथ ही चूंकि पंडित शुक्ल कोलकाता न्यायालय में कार्य करते थे, अतः कोलकाता और बंगाल के न्यायालयों में हिंदी के प्रयोग के प्रति समर्पित अधिवक्ताओं को पुरस्कृत कर प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। इस अवसर पर राष्ट्रीय स्तर की हिंदी संगोष्ठी (हिंदी पत्रकारिता के विकास में बंगभूमि की भूमिका), काव्य- संध्या के आयोजन विशेष आकर्षण हो सकते हैं।

– वाराणसी के पराड़कर भवन की भांति कोलकाता में पंडित जुगल किशोर शुक्ल पत्रकारिता भवन की स्थापना का प्रयास निश्चय ही हिंदी पत्रकारिता के इस पुरोधा की स्मृति को अक्षुण्ण बनाए रखने की दृष्टि से ऐतिहासिक कार्य हो सकता है। इसके लिए वरिष्ठ पत्रकारों व साहित्यकारों, विशिष्ट जनों एवं जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियों की एक शीर्ष समिति गठित कर स्थान के चयन एवं अन्य आवश्यक कार्रवाई कराई जानी चाहिए। यह महानगर के लिए ऐतिहासिक कार्य होगा। इस वृहद कार्य में बंगाल सरकार को भारत सरकार तथा उत्तर प्रदेश सरकार से यथासंभव सहयोग मिल सकता है।

पढ़ें :- West Bengal : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चलाई नाव, उनका ये अंदाज देख चौंके लोग

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...