जानिए क्यों चिकेन से भी ज्यादा महंगा हो रहा है अंडा

नई दिल्ली। सर्दी शुरू होते ही अंडे के दामों में इजाफा हो जाता है मगर इस बार अंडे के दामों में दोगुनी तेजी देखने को मिली। मुर्गी पालन केंद्रों पर 100 अंडों की क्रेट 585 रुपए में बेची जा रही है। ऐसे में रिटेल में एक अंडे की कीमत करीब सात रुपए के आस-पास पहुंच गई है। जिसकी वजह से पॉल्ट्री कारोबार से जुड़ीं कंपनियों की शेयर्स में जोरदार उछाल देखने को मिला है।

जहां एक तरफ सब्जियों के भाव आसमान छू रहे हैं और सर्दियाँ बढ़ रही हैं जिसका साफ असर अंडे की डिमांड पर दिख रहा है। पिछले कुछ समय से महंगी सब्जी की जगह लोग अंडे की तरफ ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। जानकारों के मुताबिक मुर्गियों की तुलना में अंडे की कीमत ज्यादा तेजी से बढ़ेगी, क्योंकि उसके कद्रदानों की संख्या अधिक है। अनुमान लगाया जा रहा है कि अंडा कीमतों के मामले में चिकन के लगभग बराबर ही चल रहा है और जल्द ही उससे आगे हो सकता है।

{ यह भी पढ़ें:- चेक बुक सुविधा नहीं होगी खत्म: अरुण जेटली }

अंडे की कीमत बढ्ने का कारण

सब्जियों की बढ़ती कीमत
हरी सब्जियों के दामों में तेजी से बढ़त एक मुख्य कारण है कि लोगों में अंडे की डिमांड काफी बढ़ती नजर आ रही है। हरी सब्जियां 60 से 100 रुपये के बीच बिक रही हैं, जो सामान्यं लोगों के लिहाजे से काफी अधिक है। सब्जियों की कीमतें बढ़ने के कारण कहा जा रहा है कि खुदरा महंगाई दर और बढ़कर 4 फीसदी के ऊपर जा सकती है। ऐसे में फिलहाल सब्जियों के साथ ही अंडों की कीमतों में कमी की संभावना काफी कम ही दिख रही है।

{ यह भी पढ़ें:- IRCTC लेकर आया नयी सुविधा, रेल टिकट बुक करने पर मिलेगा कैशबैक }

डिमांड बढ़ना
वैसे तो ठंड के साथ-साथ ही अंडे के दामों में हमेशा ही बढ़ोत्तरी होटी है। ठंड के मौसम में मांसाहारी के साथ ही बड़ी संख्यात में शाकाहारी लोग भी अंडे खाने लगते हैं। नेशनल एग कॉर्डिनेशन कमिटी के अनुसार अंडे की डिमांड में 15 फीसदी का इजाफा हुआ है वहीं मार्केट सूत्रों ने बताया कि डिमांड में 25 फीसदी से अधिक का इजाफा देखा जा रहा है।

कम वजन वाली मुर्गियों की बिक्री
एक ट्रेडर से जानकारी मिली कि मुर्गियों को पर्याप्तध खाना नहीं मिलने और देर से उत्पाशदन शुरू करने के कारण डिमांड पूरी करने में समस्या हो रही है। इस परेशानी को दूर करने के लिए किसानों और ट्रेडर्स ने कम वजन वाली मुर्गियां बेचनी शुरू कर दी, इससे डिमांड और सप्लािई की सामान्य प्रक्रिया प्रभावित हुई, जिसका असर अंडे की बढ़ी हुई कीमत के रूप में दिख रहा है.।

{ यह भी पढ़ें:- मोबाइल से करें ITR फाइल, जानिए कुछ सरकारी ऐप और वेबसाइट के बारे में }

Loading...