क्या होती है जेड प्लस, जेड, वाई और एक्स कैटगरी की सिक्योरिटी ?

spg

आइए आपको बताते हैं कि भारत में जेड प्लस और जेड सिक्योरिटी का मतलब क्या होता है।भारत में नेताओं, अधिकारियों और बड़ी शख्सियतों या किसी शख्स की सुरक्षा को खतरा देखते हुए सरकार उन्हें सुरक्षा मुहैया कराती है। खतरे की गंभीरता को देखते हुए जेड प्लस, जेड, वाई और एक्स कैटगरी की सुरक्षा प्रदान की जाती है। भारत में करीब 450 लोगों को इस तरह की सुरक्षा मिली हुई है।

Know Z Plus Z Y And X Category Security In India :

जेड प्लस कैटगरी की सुरक्षा देश की सबसे बड़ी सुरक्षा मानी जाती है। इसके तहत 36 सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं। इसमें एनएसजी, एसपीजी कमांडो, आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवान शामिल होते हैं। इस सुरक्षा में पहले घेरे की जिम्मेदारी एनएसजी और दूसरे घेरे का जिम्मा एसपीजी कमांडो के पास होता है। देश में 15 लोगों को जेड प्लस कैटगरी की सुरक्षा दी गई है।

जेड कैटगरी की सुरक्षा में सुरक्षाकर्मियों की संख्या 22 होती है। इसमें दिल्ली पुलिस, आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवान शामिल होते हैं। जेड कैटगरी की सुरक्षा जिस व्यक्ति को दी जाती है उसे एक एस्कॉर्ट और पायलट भी दिए जाते हैं।

वाई कैटगरी की सुरक्षा में सुरक्षाकर्मियों की संख्या घटकर 11 हो जाती है। इसमें दो पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर शामिल होते हैं। एक्स कैटगरी की सुरक्षा में दो सुरक्षाकर्मी प्रदान किए जाते हैं। जिसमें एक पीएसओ भी शामिल होता है।

आइए आपको बताते हैं कि भारत में जेड प्लस और जेड सिक्योरिटी का मतलब क्या होता है।भारत में नेताओं, अधिकारियों और बड़ी शख्सियतों या किसी शख्स की सुरक्षा को खतरा देखते हुए सरकार उन्हें सुरक्षा मुहैया कराती है। खतरे की गंभीरता को देखते हुए जेड प्लस, जेड, वाई और एक्स कैटगरी की सुरक्षा प्रदान की जाती है। भारत में करीब 450 लोगों को इस तरह की सुरक्षा मिली हुई है।जेड प्लस कैटगरी की सुरक्षा देश की सबसे बड़ी सुरक्षा मानी जाती है। इसके तहत 36 सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं। इसमें एनएसजी, एसपीजी कमांडो, आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवान शामिल होते हैं। इस सुरक्षा में पहले घेरे की जिम्मेदारी एनएसजी और दूसरे घेरे का जिम्मा एसपीजी कमांडो के पास होता है। देश में 15 लोगों को जेड प्लस कैटगरी की सुरक्षा दी गई है।जेड कैटगरी की सुरक्षा में सुरक्षाकर्मियों की संख्या 22 होती है। इसमें दिल्ली पुलिस, आईटीबीपी और सीआरपीएफ के जवान शामिल होते हैं। जेड कैटगरी की सुरक्षा जिस व्यक्ति को दी जाती है उसे एक एस्कॉर्ट और पायलट भी दिए जाते हैं।वाई कैटगरी की सुरक्षा में सुरक्षाकर्मियों की संख्या घटकर 11 हो जाती है। इसमें दो पर्सनल सिक्योरिटी ऑफिसर शामिल होते हैं। एक्स कैटगरी की सुरक्षा में दो सुरक्षाकर्मी प्रदान किए जाते हैं। जिसमें एक पीएसओ भी शामिल होता है।