विराट कोहली ने टेस्ट करियर के 5000 रन पूरे किये

virat-kohali
विराट कोहली और डू प्लेसिस को बाउंसर से लगता है डर

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने अपने टेस्ट करियर के 5,000 रन पूरे कर लिए हैं। श्रीलंका के खिलाफ शनिवार से शुरू हुए तीसरे और अंतिम टेस्ट मैच में कोहली ने यह उपलब्धि हासिल की।

Kohli Completed 5000 Test Runs :

राजधानी दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर जारी तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के अंतिम मैच में कोहली नाबाद हैं। दिल्ली के निवासी 29 वर्षीय कोहली इस उपलब्धि को हासिल करने वाले 11वें भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। वह सबसे तेजी से 5,000 रन पूरे करने वाले चौथे बल्लेबाज बन गए हैं।

भारतीय बल्लेबाजों में दिग्गज सुनील गावस्कर ने सबसे तेजी से टेस्ट प्रारूप में 5,000 रन पूरे किए। उन्होंने 95 पारियों में यह कारनामा किया।
इस सूची में भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग दूसरे स्थान पर हैं। उन्होंने 98 पारियों में 5,000 रन पूरे किए। वहीं सचिन तेंदुलकर 103 पारियों में इस उपलब्धि को हासिल कर तीसरे स्थान पर हैं।

भारतीय कप्तान दूसरे युवा खिलाड़ी हो गए हैं, जिन्होंने 5,000 रन बनाए हैं। उन्होंने 29 साल और 27 दिनों में यह कारमाना किया है। तेंदुलकर ने 25 साल और 301 दिनों में इस उपलब्धि को हासिल किया था।

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने अपने टेस्ट करियर के 5,000 रन पूरे कर लिए हैं। श्रीलंका के खिलाफ शनिवार से शुरू हुए तीसरे और अंतिम टेस्ट मैच में कोहली ने यह उपलब्धि हासिल की।राजधानी दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर जारी तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के अंतिम मैच में कोहली नाबाद हैं। दिल्ली के निवासी 29 वर्षीय कोहली इस उपलब्धि को हासिल करने वाले 11वें भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं। वह सबसे तेजी से 5,000 रन पूरे करने वाले चौथे बल्लेबाज बन गए हैं।भारतीय बल्लेबाजों में दिग्गज सुनील गावस्कर ने सबसे तेजी से टेस्ट प्रारूप में 5,000 रन पूरे किए। उन्होंने 95 पारियों में यह कारनामा किया। इस सूची में भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग दूसरे स्थान पर हैं। उन्होंने 98 पारियों में 5,000 रन पूरे किए। वहीं सचिन तेंदुलकर 103 पारियों में इस उपलब्धि को हासिल कर तीसरे स्थान पर हैं।भारतीय कप्तान दूसरे युवा खिलाड़ी हो गए हैं, जिन्होंने 5,000 रन बनाए हैं। उन्होंने 29 साल और 27 दिनों में यह कारमाना किया है। तेंदुलकर ने 25 साल और 301 दिनों में इस उपलब्धि को हासिल किया था।