कोहली का खुलासा- टीम में सेलेक्शन के लिए मेरे पापा से मांगे गए थे पैसे

kohali
कोहली का खुलासा- टीम में सेलेक्शन के लिए मेरे पापा से मांगे गए थे पैसे

भारतीय क्रिकेट की पहचान बन चुके विराट कोहली (Virat Kohli) ने सनसनीखेज खुलासा किया है. सुनील छेत्री के साथ इंस्‍टाग्राम लाइव में कोहली ने बताया कि एक समय स्‍टेट क्रिकेट टीम में उनके चयन के लिए पिता से पैसे मांगे गए थे. कोहली ने कहा कि वे अच्‍छा खेल रहे थे. स्‍टेट क्रिकेट में एक बार कोई आगे आया और उनके पिता से कहा कि चयन की तो परेशानी नहीं है, मगर इसके लिए उन्‍हें कुछ अतिरिक्‍त करना होगा. यानी पैसा मांग रहे थे. इतना तो समझ में आ गया था कि वह क्‍या मांग रहा है. मगर उनके पिता मेहनत करके वकील बने और मेहनत करने वालों को ये सब भाषा समझ नहीं आती.

Kohli Disclosed My Father Was Asked For Money For Selection In The Team :

कोहली ने कहा कि उनके पिता ने कोच को साफ कर दिया था कि अपने दम पर जो उनका बेटा कर लेगा, वो ठीक है. मगर ऐसे नहीं खेलना. भारतीय कप्‍तान ने बताया कि वह उस समय तो काफी रोए, मगर पिता ने कहा था वो करो, जो कोई नहीं कर रहा. उनकी यही बात उन्‍होंने हमेशा गांठ बांध ली. इस दौरान कोहली ने छेत्री ने कई सवाल पूछे. कोहली ने कहा कि वह सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का पैडल स्‍कूप चुराना चाहते हैं.  सुनील छेत्री ने उनसे पूछा कि अगर आपको आखिरी गेंद पर तीन रन की जरूरत है तो वकार युनूस और शेन वॉर्न में से किस गेंदबाज को चुनेंगे. कोहली ने युनूस का नाम लेते हुए कहा कि उन्‍हें विश्‍वास है कि वह युनूस की गेंद पर‍ हिट कर देंगे.

जब विराट ने नोट फाड़कर उड़ाए

विराट कोहली (Virat Kohli) ने सुनील छेत्री को बचपन की एक और घटना बताई. उन्होंने कहा, ‘मैं बचपन में लोगों को शादियों में नोट उड़ाता देखता था, मुझे बहुत मजा आता था. एक दिन मेरे घर पर कोई मेहमान आया और मुझे घरवालों ने पचास का नोट सामान लाने के लिए दिया. पता नहीं मुझे क्या हो गया, मैंने उस नोट के टुकड़े कर दिए और उसे उड़ाकर नाच कर आ गया. उसके बाद घर पर बहुत पिटाई हुई.’  

भारतीय क्रिकेट की पहचान बन चुके विराट कोहली (Virat Kohli) ने सनसनीखेज खुलासा किया है. सुनील छेत्री के साथ इंस्‍टाग्राम लाइव में कोहली ने बताया कि एक समय स्‍टेट क्रिकेट टीम में उनके चयन के लिए पिता से पैसे मांगे गए थे. कोहली ने कहा कि वे अच्‍छा खेल रहे थे. स्‍टेट क्रिकेट में एक बार कोई आगे आया और उनके पिता से कहा कि चयन की तो परेशानी नहीं है, मगर इसके लिए उन्‍हें कुछ अतिरिक्‍त करना होगा. यानी पैसा मांग रहे थे. इतना तो समझ में आ गया था कि वह क्‍या मांग रहा है. मगर उनके पिता मेहनत करके वकील बने और मेहनत करने वालों को ये सब भाषा समझ नहीं आती. कोहली ने कहा कि उनके पिता ने कोच को साफ कर दिया था कि अपने दम पर जो उनका बेटा कर लेगा, वो ठीक है. मगर ऐसे नहीं खेलना. भारतीय कप्‍तान ने बताया कि वह उस समय तो काफी रोए, मगर पिता ने कहा था वो करो, जो कोई नहीं कर रहा. उनकी यही बात उन्‍होंने हमेशा गांठ बांध ली. इस दौरान कोहली ने छेत्री ने कई सवाल पूछे. कोहली ने कहा कि वह सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का पैडल स्‍कूप चुराना चाहते हैं.  सुनील छेत्री ने उनसे पूछा कि अगर आपको आखिरी गेंद पर तीन रन की जरूरत है तो वकार युनूस और शेन वॉर्न में से किस गेंदबाज को चुनेंगे. कोहली ने युनूस का नाम लेते हुए कहा कि उन्‍हें विश्‍वास है कि वह युनूस की गेंद पर‍ हिट कर देंगे.
जब विराट ने नोट फाड़कर उड़ाए विराट कोहली (Virat Kohli) ने सुनील छेत्री को बचपन की एक और घटना बताई. उन्होंने कहा, 'मैं बचपन में लोगों को शादियों में नोट उड़ाता देखता था, मुझे बहुत मजा आता था. एक दिन मेरे घर पर कोई मेहमान आया और मुझे घरवालों ने पचास का नोट सामान लाने के लिए दिया. पता नहीं मुझे क्या हो गया, मैंने उस नोट के टुकड़े कर दिए और उसे उड़ाकर नाच कर आ गया. उसके बाद घर पर बहुत पिटाई हुई.'