स‍िंदूर लगाने पर जारी हुआ फतवा, अब जगन्नाथ रथयात्रा में चीफ गेस्ट बनी नुसरत जहां

nusrat jahan
स‍िंदूर लगाने पर जारी हुआ फतवा, अब जगन्नाथ रथयात्रा में चीफ गेस्ट होंगी नुसरत जहां

बंगाल। तृणमूल कांग्रेस की सांसद और बंगाली एक्ट्रेस नुसरत जहां शादी के बाद लगातार सुर्खियों में हैं। इसकी वजह है नुसरत जहां का शादी के बाद स‍िंदूर लगाना, चूड़ा पहनना। 17वीं लोकसभा के सत्र में नुसरत जहां संसद में शपथ लेने सिंदूर और हाथों में चूड़ा पहनकर पहुंची थीं। नुसरत के इस पहनावे को ‘गैर इस्लामी’ करार देते हुए फतवा भी जारी किया था इस बीच श्रीकृष्ण भक्ति के प्रचार की अंतरराष्ट्रीय संस्था इस्कॉन ने बशीरहाट से तृणमूल कांग्रेस (TMC) सांसद नुसरत जहां को भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा में शामिल होने का न्योता दिया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया है।

Kolkata Iskcon Invites Tmc Mp Nusrat Jahan For Its Rathyatra Fest :

नुसरत जहां के विचार हमारे विचारों से मिलते हैं- इस्कॉन के प्रवक्ता

नुसरत जहां को मुख्य अतिथि बनाए जाने पर इस्कॉन के प्रवक्ता ने कहा है, “हम सभी धर्मों को मानने वाले लोग हैं। हमने देखा है कि नुसरत जहां के विचार हमारे विचारों से मिलते हैं। वह भी हमारी तरह सभी धर्मों का आदर करती हैं। ऐसे में एक नए राजनेता के रूप में वह निश्चित ही आज के युवाओं को अपने विचारों से प्रभावित करेंगी। इसी लिए इस्कॉन ने उन्हें निमंत्रण दिया है।”

‘सभी धर्मों का आदर करती रहूंगी’

हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में नुसरत जहां ने कहा, ‘मैं सभी धर्मों का आदर करती हूं और ऐसा करती रहूंगी। मुझे कोई परवाह नहीं कि मेरे बारे में कोई क्या बोलता है। मैं एक अभिनेत्री के रूप में इस रथ यात्रा में हिस्सा लेती रही हूं और इस बार भी उसी भूमिका में इसमें हिस्सा लेने जा रही हूं।’

मौलवियों ने नुसरत के खिलाफ जारी किया था फतवा

बता दें कि उत्तर प्रदेश में देवबंद के मौलवियों के एक धड़े ने नुसरत जहां के खिलाफ कथित तौर पर ‘फतवा’ भी जारी किया था। मौलवियों ने दावा किया था कि नुसरत ने जैन धर्म में शादी कर इस्लाम का अपमान किया और उनके वस्त्र को ‘‘गैर इस्लामिक’’ बताया।

दरअसल 29 साल की नुसरत जहां ने जून में तुर्की में व्यवसायी निखिल जैन से शादी की थी और इसके कुछ दिनों बाद उन्होंने संसद में शपथ ली। तब वह वहां मांग में सिंदूर, लाल साड़ी और हाथों में चूड़ियां पहनकर आईं थी। शपथ लेने के बाद उन्होंने ‘वंदे मातरम’ भी कहा था।

बंगाल। तृणमूल कांग्रेस की सांसद और बंगाली एक्ट्रेस नुसरत जहां शादी के बाद लगातार सुर्खियों में हैं। इसकी वजह है नुसरत जहां का शादी के बाद स‍िंदूर लगाना, चूड़ा पहनना। 17वीं लोकसभा के सत्र में नुसरत जहां संसद में शपथ लेने सिंदूर और हाथों में चूड़ा पहनकर पहुंची थीं। नुसरत के इस पहनावे को 'गैर इस्लामी' करार देते हुए फतवा भी जारी किया था इस बीच श्रीकृष्ण भक्ति के प्रचार की अंतरराष्ट्रीय संस्था इस्कॉन ने बशीरहाट से तृणमूल कांग्रेस (TMC) सांसद नुसरत जहां को भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा में शामिल होने का न्योता दिया, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया है। नुसरत जहां के विचार हमारे विचारों से मिलते हैं- इस्कॉन के प्रवक्ता नुसरत जहां को मुख्य अतिथि बनाए जाने पर इस्कॉन के प्रवक्ता ने कहा है, "हम सभी धर्मों को मानने वाले लोग हैं। हमने देखा है कि नुसरत जहां के विचार हमारे विचारों से मिलते हैं। वह भी हमारी तरह सभी धर्मों का आदर करती हैं। ऐसे में एक नए राजनेता के रूप में वह निश्चित ही आज के युवाओं को अपने विचारों से प्रभावित करेंगी। इसी लिए इस्कॉन ने उन्हें निमंत्रण दिया है।" 'सभी धर्मों का आदर करती रहूंगी' हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में नुसरत जहां ने कहा, 'मैं सभी धर्मों का आदर करती हूं और ऐसा करती रहूंगी। मुझे कोई परवाह नहीं कि मेरे बारे में कोई क्या बोलता है। मैं एक अभिनेत्री के रूप में इस रथ यात्रा में हिस्सा लेती रही हूं और इस बार भी उसी भूमिका में इसमें हिस्सा लेने जा रही हूं।' मौलवियों ने नुसरत के खिलाफ जारी किया था फतवा बता दें कि उत्तर प्रदेश में देवबंद के मौलवियों के एक धड़े ने नुसरत जहां के खिलाफ कथित तौर पर ‘फतवा’ भी जारी किया था। मौलवियों ने दावा किया था कि नुसरत ने जैन धर्म में शादी कर इस्लाम का अपमान किया और उनके वस्त्र को ‘‘गैर इस्लामिक’’ बताया। दरअसल 29 साल की नुसरत जहां ने जून में तुर्की में व्यवसायी निखिल जैन से शादी की थी और इसके कुछ दिनों बाद उन्होंने संसद में शपथ ली। तब वह वहां मांग में सिंदूर, लाल साड़ी और हाथों में चूड़ियां पहनकर आईं थी। शपथ लेने के बाद उन्होंने ‘वंदे मातरम’ भी कहा था।