1. हिन्दी समाचार
  2. राजस्थान के कोटा में नहीं थम रहा बच्चों की मौत का सिलसिला, नौ और नवजातों की मौत, आंकड़ा 100 तक पहुंचा

राजस्थान के कोटा में नहीं थम रहा बच्चों की मौत का सिलसिला, नौ और नवजातों की मौत, आंकड़ा 100 तक पहुंचा

Kota Of Rajasthan Does Not Stop The Death Of Children

By शिव मौर्या 
Updated Date

कोटा। राजस्थान के कोटा में स्थित जेके लोन अस्पताल में मासूम बच्चों की मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है। अधिकारियों के मुताबिक, पिछले दो दिनों में यहां पर नौ और बच्चों की मौत हो गयी। ​लगातार मासूम बच्चों की हो रही मौत के कारण सरकार और प्रशासन दोनों सवालों के घेरे में हैं। अब तक यहां पर 100 बच्चों की मौत हो चुकी है। बच्चों के इलाज में लापरवाही के आरोपों से चर्चा में आए जेके लोन अस्पताल में पिछले साल कुल 963 बच्चों ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था।

पढ़ें :- क्या खत्म हो गया सनी लियोन का करियर, क्यों नहीं आना चाहतीं भारत ...

बीते दिसंबर महीने में मौत का आंकड़ा अचानक बढ़ने से हड़कंप मच गया। विपक्ष अशोक गहलोत सरकार को इस मुद्दे पर घेरने में जुटी है। वहीं, अस्पताल के सुप्रिटेंडेंट के मुताबिक नवजातों की मौत का मुख्य कारण उनका जन्म के वक्त कम वजन होना है। बता दें कि, मंगलवार को सांसद लॉकेट चटर्जी, कांता कर्दम और जसकौर मीणा वाली भाजपा संसदीय समिति के एक दल ने अस्पताल का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने कहा था कि, अस्पताल के एक बिस्तर पर दो—तीन बच्चों को रखा गया है।

अस्पताल में नर्सों की भी कमी है। इससे पहले राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने राज्य सरकार को इस मामले पर कारण बताओ नोटिस जारी किया था। आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने कहा कि अस्पताल परिसर में सुअर विचरण करते मिले थे। 23-24 दिसंबर के दौरान दस बच्चों की सरकारी अस्पताल में मौत के बाद विपक्ष ने राज्य सरकार पर निशाने पर है। वहीं राजस्थान सरकार की समिति ने कहा कि नवजातों को सही उपचार दिया गया था।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...