आईसीजे के अंतिम आदेश से पहले कुलभूषण जाधव को नहीं दी जाएगी फांसी: अब्दुल बासित

नई दिल्ली| इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) द्वारा भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगाए जाने के बाद पाकिस्तान इस मामले में नरम पड़ गया है| भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने कहा कि वह अंतराष्ट्रीय कानून मानने के लिए प्रतिबद्ध है| उन्‍होंने कहा कि पाकिस्‍तान जाधव के मामले में अंतरराष्‍ट्रीय कोर्ट के अंतिम फैसले का इंतजार करेगा| जाधव को तब तक फांसी नहीं दी जाएगी, जब तक अंतराष्‍ट्रीय कोर्ट का फैसला नहीं आ जाता है|




उन्होंने कहा, “वह यह बात सिर्फ कोर्ट के अस्थाई आदेश के संदर्भ में कह रहे हैं जिसके मुताबिक जाधव की फांसी पर रोक लगाई गई है, इसका केस के मेरिट पर कोई असर नहीं पड़ेगा|” पाकिस्तानी उच्चायुक्त ने कहा, “कोर्ट ने काउंसलर ऐक्सेस को लेकर कुछ ऐसा नहीं कहा है जिसे अंतिम माना जाए| इन सभी बातों का फैसला कोर्ट के आखिरी आदेश में होगा|”

आपको बता दें की कुलभूषण जाधव की फांसी पर आईसीजे के रोक के बाद पाकिस्तान ने कहा था कि वह अपने कानून के हिसाब से ही कार्रवाई करेगा| गृहमंत्री निसार चौधरी ने कहा था, “जाधव को पाकिस्तान के कानून से हिसाब सजा सुनाई गई है और पाकिस्तान अपने कानून के हिसाब से ही आगे काम करेगा|”




18 मई को कुलभूषण जाधव मामले में भारत को गुरुवार को अंतर्राष्ट्रीय अदालत (आईसीजे) में बेहद अहम कूटनीतिक, नैतिक व कानूनी जीत मिली| अदालत ने पाकिस्तान से मामले में अंतिम फैसला आने तक कथित जासूस कुलभूषण जाधव को फांसी न देने का आदेश दिया और आदेश के क्रियान्वयन को लेकर उठाए गए कदमों से अदालत को अवगत कराने को कहा| अदालत ने यह भी कहा कि जाधव तक राजनयिक पहुंच प्रदान की जानी चाहिए, जिसकी भारत ने मांग की है|

Loading...