उन्नाव के पूर्व विधायक कुलदीप सेंगर पर लगे रेप के आरोप में 16 दिसंबर को सुनाया जायेगा फैसला

kuldeep singh sengar
उन्नाव दुष्कर्म केस: जुर्माना जमा करने के लिए विधायक कुलदीप सेंगर को मिले 60 दिन

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के 2017 विधानसभा चुनाव में उन्नाव जिले की बांगरमऊ सीट से बने भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर एक नाबालिक किशोरी ने रेप का मुकदमा दर्ज करवाया था। जिसके बाद मामले ने तूल पकड़ा तो कुलदीप सिंह सेंगर को हिरासत में लिया गया। लेकिन कुछ माह पूर्व जब रायबरेली जिले में पीड़िता की कार का एक्सीडेंट हो गया और उस दौरान पीड़िता के करीबियों की मौत हो गयी तो ​पूरे देश में हड़कम्प मच गया और पीड़ित परिवार के साथ साथ विपक्षी दलों ने भी कुलदीप​ सिंह सेंगर पर आरोप लगा दिया। सरकार पर दबाव पड़ा तो पूरे मामले की जांच सीबीआई को दे देी। फिल्हाल दुष्कर्म मामले की सुनवाई हो गयी है और 16 दिसम्बर को रेप केस का फेसला सुनाया जा सकता है।

Kuldeep Sengar Former Mla From Unnao Will Be Pronounced On December 16 On Charges Of Rape :

दुष्कर्म मामले में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ दिल्ली की तीस हजारी अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। अदालत अब 16 दिसंबर को अपना फैसला सुनाएगी। अगर इस मामले में कुलदीप सिंह सेंगर पर आरोप सिद्ध होता है तो उन्हें उम्र कैद की सजा सुनाई जा सकती है। वहीं इस मामले में उनके साथ साथ उनकी सहयोगी शशि सिंह पर भी आरोप लगा था कि वे पीड़िता को विधायक कुलदीप सेंगर के पास लेकर गई थीं जहां सेंगर ने उसके साथ रेप किया था। इस पूरे मामले में 5 एफआईआर दर्ज हैं, अभी दुष्कर्म मामले में फैसला सुनाया जायेगा बाकी की सुनवाई चलती रहेगी।

सबसे पहले 2017 में पीड़िता की तरफ से विधायक सेंगर व शशी सिंह पर रेप का मामला दर्ज हुआ था। इसके बाद दूसरी एफआईआर पीड़िता के साथ हुए गैंगरेप को लेकर दर्ज की गई थी। जबकि तीसरी एफआईआर पीड़िता के पिता के साथ मारपीट और चौथी एफआईआर पुलिस कस्टडी में पीड़िता के पिता की मौत पर दर्ज की गयी। इसके अलावा पांचवां और आखिरी एफआईआर पीड़िता के साथ हुई कार एक्सीडेंट से जुड़ी हुई है।

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के 2017 विधानसभा चुनाव में उन्नाव जिले की बांगरमऊ सीट से बने भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर एक नाबालिक किशोरी ने रेप का मुकदमा दर्ज करवाया था। जिसके बाद मामले ने तूल पकड़ा तो कुलदीप सिंह सेंगर को हिरासत में लिया गया। लेकिन कुछ माह पूर्व जब रायबरेली जिले में पीड़िता की कार का एक्सीडेंट हो गया और उस दौरान पीड़िता के करीबियों की मौत हो गयी तो ​पूरे देश में हड़कम्प मच गया और पीड़ित परिवार के साथ साथ विपक्षी दलों ने भी कुलदीप​ सिंह सेंगर पर आरोप लगा दिया। सरकार पर दबाव पड़ा तो पूरे मामले की जांच सीबीआई को दे देी। फिल्हाल दुष्कर्म मामले की सुनवाई हो गयी है और 16 दिसम्बर को रेप केस का फेसला सुनाया जा सकता है। दुष्कर्म मामले में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ दिल्ली की तीस हजारी अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। अदालत अब 16 दिसंबर को अपना फैसला सुनाएगी। अगर इस मामले में कुलदीप सिंह सेंगर पर आरोप सिद्ध होता है तो उन्हें उम्र कैद की सजा सुनाई जा सकती है। वहीं इस मामले में उनके साथ साथ उनकी सहयोगी शशि सिंह पर भी आरोप लगा था कि वे पीड़िता को विधायक कुलदीप सेंगर के पास लेकर गई थीं जहां सेंगर ने उसके साथ रेप किया था। इस पूरे मामले में 5 एफआईआर दर्ज हैं, अभी दुष्कर्म मामले में फैसला सुनाया जायेगा बाकी की सुनवाई चलती रहेगी। सबसे पहले 2017 में पीड़िता की तरफ से विधायक सेंगर व शशी सिंह पर रेप का मामला दर्ज हुआ था। इसके बाद दूसरी एफआईआर पीड़िता के साथ हुए गैंगरेप को लेकर दर्ज की गई थी। जबकि तीसरी एफआईआर पीड़िता के पिता के साथ मारपीट और चौथी एफआईआर पुलिस कस्टडी में पीड़िता के पिता की मौत पर दर्ज की गयी। इसके अलावा पांचवां और आखिरी एफआईआर पीड़िता के साथ हुई कार एक्सीडेंट से जुड़ी हुई है।