1. हिन्दी समाचार
  2. कुमार मंगलम बिड़ला की नेटवर्थ 2 साल में 21500 करोड़ रु घटी, टेलीकॉम ने बिगाड़ा खेल

कुमार मंगलम बिड़ला की नेटवर्थ 2 साल में 21500 करोड़ रु घटी, टेलीकॉम ने बिगाड़ा खेल

Kumar Mangalam Birlas Net Worth Decreased By Rs 21500 Crore In 2 Years Telecom Spoiled The Game

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। वोडाफोन ग्रुप की खराब आर्थिक स्थिति का इसके दूसरे सबसे बड़े निवेशक कुमार मंगलम बिड़ला की वित्तीय सेहत पर बहुत बुरा असर पड़ा है। पिछले दो साल में बिड़ला की नेटवर्थ में 21500 करोड़ रुपये घट गई। साल 2017 के बाद से अब तक कुमार मंगलम बिड़ला की संपत्ति करीब एक तिहाई कम हो चुकी है। हालांकि, केमिकल्स, मेटल और सीमेंट के क्षेत्र में उनकी अन्य कंपनियों के शेयरों में भी गिरावट आई है, जिसका असर उनकी कुल संपत्ति पर पड़ा है।

पढ़ें :- महिलाओं को ये काम करते कभी ना देखें वरना हो सकती है बड़ी भूल

ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के मुताबिक, दो साल पहले बिड़ला की संपत्ति 9.1 अबर डॉलर गई थी जो अब घटकर 6 अरब डॉलर रह गई। यानी, उनकी संपत्ति में 3.1 अरब डॉलर (करीब 217 अरब रुपये) की कमी आई है। इंडेक्स के मुताबिक, उनकी संपत्ति को ज्यादा नुकसान उनकी होल्डिंग कंपनी आदित्य बिड़ला ग्रुप के कारण हुआ है।

अकेले बिड़ला ने दिखाई यह हिम्मत

5 सितंबर, 2016 को मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो की लॉन्चिंग के बाद से लगातार झटके खा रहे देश के टेलिकॉम सेक्टर में निवेश करने की हिम्मत दिखाने वाले एकमात्र उद्योगपति कुमार मंगलम बिड़ला ही हैं। उन्होंने अपनी कंपनी आडिया सेल्युलर का वोडाफोन इंडिया के साथ विलय कर दिया और नई कंपनी वोडाफोन आइडिया अस्तित्व में आ गई।

94% लुढ़क गया है वोडाफोन आइडिया का शेयर

पढ़ें :- पैर भी बताते हैं कितने भाग्यशाली हैं आप, जानिए क्या है समुद्रशास्त्र

इस कंपनी ने पिछले हफ्ते देश के कंपनी जगत के इतिहास का सबसे बड़ा तिमाही नुकसान दर्ज किया था। तब वोडाफोन ग्रुप के सीईओ निक रीड ने यहां तक कह दिया था कि अगर सरकार से राहत नहीं मिली तो कंपनी भारतीय बाजार से निकलने पर विचार कर सकती है। वोडाफोन आइडिया के शेयर 2017 के आखिर से अब तक 94% सस्ता हो चुका है। इस कारण इसका मार्केट वैल्यु घटकर 2.7 अरब डॉलर (करीब 190 अरब रुपये) रह गया है।

आदित्य बिड़ला ग्रुप ने दुनिया की सबसे बड़ी ऐल्युमिनियम रॉलिंग कंपनी हिंडाल्को इंडस्ट्रीज में हिस्सेदारी ली है। उनके पास ग्रासिम इंडस्ट्रीज की हिस्सेदारी पहले से ही है। देश की सबसे बड़ी सीमेंट निर्माता कंपनी ग्रासीम के नियंत्रण में ही है।  

   

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...