अनुशासन मैने नहीं कुमार विश्वास ने तोड़ा: अमानतुल्ला

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) ने पार्टी नेता कुमार विश्वास को बीजेपी का एजेंट कहने वाले ओखला विधानसभा से विधायक अमानतुल्ला खान को निलंबित कर दिया है। बुधवार को बुलाई गई पार्टी की पीएसी की बैठक में अमानतुल्ला द्वारा कुमार विश्वास पर लगाए गए आरोपों को लेकर अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है। इसके साथ ही पीएसी ने उनके द्वारा ​लगाए आरोपों की जांच के लिए पार्टी ने तीन सदस्यीय कमिटी बनाने का फैसला करते हुए, कुमार विश्वास को राजस्थान का प्रभारी बनाकर बड़ी जिम्मेदारी भी सौंप दी है।




अपने ऊपर हुई अनुशासनात्मक कार्रवाई से नाराज अमानतुल्ला ने एक बार फिर मीडिया के सामने प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा है कि अनुशासन कुमार विश्वास ने तोड़ा है उन्होंने नहीं। पार्टी लाइन से हटकर कुमार विश्वास वीडियो जारी करते हैं। चुनावों में वह पार्टी के मंचों पर भी नहीं दिखे।

वहीं पीएसी की बैठक के बाद अरविन्द केजरीवाल के आवास से बाहर निकले कुमार विश्वास बुधवार को थोड़े शांत और संतुष्ट नजर आए। उन्होंने कहा कि पार्टी के भीतर विचार विमर्श की प्रक्रिया चल रही है। यह किसी प्रकार के वार्चस्व को लेकर संघर्ष की तरह नहीं है। ​सभी अपने निजी अहम को छोड़कर एक बड़े आन्दोलन के साथ खड़े हैं।

कुमार विश्वास ने पार्टी के सामने रखीं शर्तें—

बताया जा रहा है कि मुख्य रूप से कुमार विश्वास की नाराजगी दूर करने को लेकर रखी बुलाई गई आप पीएसी की बैठक में कुमार विश्वास ने पार्टी के सामने अपनी चार शर्तें रखीं।




पहली शर्त पार्टी और कार्यकर्ता के बीच संवाद और आम कार्यकर्ता की शिकायतों की अनदेखी न होने की रही।
दूसरी शर्त भ्रष्टाचार के मसले पर किसी प्रकार की छूट न बरती जाए।
तीसरी शर्त राष्ट्रवाद से जुड़े किसी भी मुद्दे पर किसी प्रकार का कोई सामझौता नहीं होगा।
और कुमार विश्वास की आखिरी शर्त अमानतुल्ला को पार्टी से निकाले जाने की थी।

Loading...