एक ऐसा हॉस्टल जहां वार्डेन जबरन करवाती है लड़कों से दोस्ती

मेरठ। यूपी के मेरठ में इंदिरा गांधी वर्किंग वूमन हॉस्टल में जमकर हंगामा हुआ। हॉस्टल में रहने वाली युवतियो का आरोप है कि वार्डेन और हॉस्टल प्रबंधन उन्हे पप्रताड़ित करते हैं। लड़कियों का कहना है कि वार्डेन आंटी कहती है- जिन लड़कों से वो बताए उनसे दोस्ती करो जिससे तुम्हारे साथ-साथ हमारा भी फाइदा होगा।




ये है मामला-

इंदिरा गांधी वर्किंग वूमन हॉस्टल में रहने वाली युवतियों का आरोप है कि उनका जानबूझ कर शोषण किया जा रहा हैं। वहां की लड़कियों को इस बात का डर है कि उनके साथ कभी कुछ भी गलत हो सकता हैं। इस बात का विरोध करते हुये रविवार शाम वहां की दो लड़कियों और वार्डेन में हाथापाई भी हुयी। सूचना मिलने पर मौके से पहुंची पुलिस दोनों को थाने ले गयी। वही हॉस्टल की वार्डेन ने अपने पर लगाए सारे आरोपो को बेबुनियाद बताया। वार्डेन का कहना है कि किराया बढ़ाने कि बात को सुनकर लड़कियां लड़ाई-झगड़े पर उतारू हो गयी और झूठे आरोप लगाकर हॉस्टल को बदनाम करने में लगी हुयी हैं।

पीड़िता का अरोप है कि वार्डेन ने अपने सहायकों के साथ मिलकर मारपीट भी किया। मारपीट करने के बाद सारा सामान उठा कर बाहर फेक दिया। पीड़िता ने यह भी कहा कि उसके कमरे से पैसे और गोल्ड का सामान भी लूट लिया गया। उसके कमरे की चाबी खो गई थी, जब उसने दूसरी चाबी मांगी तो उसे नहीं दी गई। पूरे मामले में दोनों पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ थाना सिविल लाइन में तहरीर दे दी और इंस्पेक्टर विजय सिंह का कहना है कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद ही पुलिस कार्रवाई करेगी।




काफी दिनों से किराए को लेकर चल रहा था बवाल

वहां रहने वाली युवतियों का कहना है कि पहले किराया 1000 रुपए महीना था और अब उसे बढ़ाकर 1800 रुपये कर दिया गया है। बिजली का 500 रुपए महीना अलग से लिए जाते हैं। अचानक से इतना किराया बढ़ाने की वजह से वहां रहने वाली युवतियाँ उसका विरोध जताने लगीं। आपको बता दें कि हॉस्टल में करीब 45 युवतियां रहती हैं, इनमें से अधिकतर जॉब कर रही हैं।

पूरे मामले में हॉस्टल प्रबंध समिति के प्रबंधक हर्षवर्द्धन का कहना युवतियों द्वारा लगाए गए सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया है। कहा कि अनुशासनहीनता पर उन्हें तीन नोटिस दिए जा चुके हैं। जिसके बाद भी उन्होंने कमरा खाली नहीं किया।