आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुआ हरियाणा का लाल, अपने पीछे बिलखते छोड़ गया 3 मासूम

गुरुग्राम (हरियाणा): देश की रक्षा के सीमा पर तैनात सेना का हर जवान असली हीरो है। रविवार को जम्मू-कश्मीर के डोडा में जिले में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में जवान लांस नायक राज सिंह शहीद हो गए।

Lal Of Haryana Martyred While Taking On Terrorists 3 Innocent People Left Behind :

दरअसल, शहीद लांस नायक राज सिंह हरियाणा के गुरुग्राम के रहने वाले थे। वह तीन भाइयों में सबसे बड़े थे, वहीं उनके पिता भी सेना में थे। शहीद अपने पीछे दो बेटों और एक बेटी छोड़कर चले गए। उनका बड़ा बेटा अभी 10 साल का है, जो अपने पिता की तरह सेना में भर्ती होना चाहता है।

शहीद करीब नौ साल पहले खेल कोटे से सेना में भर्ती हुआ था। उनके भाई ने बताया कि राज का बचपन से सपना था कि वह पिता की तरह सेना में जाएगा। इसके लिए उसने कड़ी मेहनत भी की। लेकिन देश के दुश्मनों ने उसकी जिंदगी छीन ली। सोमवार दोपहर शहीद की पार्थिव देह पैतृक गांव पहुंची, जहां उनका सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ।

बता दें कि रविावार को डोडा के जंगल में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरू हुई थी। जिसमें अभी तक 2 आतंकी मारे गए जबकि 1 जवान शहीद हो गया है। बताया जा रहा है कि ये आतंकी हिजबुल मुजाहिद्दीन के हैं, जो डोडा के जंगल में छिपे हैं। वह अपने कमांडर रियाज नायकू के मारे जाने के बाद से घाटी में हमला करने की कोशिश कर रहे हैं।

गुरुग्राम (हरियाणा): देश की रक्षा के सीमा पर तैनात सेना का हर जवान असली हीरो है। रविवार को जम्मू-कश्मीर के डोडा में जिले में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में जवान लांस नायक राज सिंह शहीद हो गए।

दरअसल, शहीद लांस नायक राज सिंह हरियाणा के गुरुग्राम के रहने वाले थे। वह तीन भाइयों में सबसे बड़े थे, वहीं उनके पिता भी सेना में थे। शहीद अपने पीछे दो बेटों और एक बेटी छोड़कर चले गए। उनका बड़ा बेटा अभी 10 साल का है, जो अपने पिता की तरह सेना में भर्ती होना चाहता है।

शहीद करीब नौ साल पहले खेल कोटे से सेना में भर्ती हुआ था। उनके भाई ने बताया कि राज का बचपन से सपना था कि वह पिता की तरह सेना में जाएगा। इसके लिए उसने कड़ी मेहनत भी की। लेकिन देश के दुश्मनों ने उसकी जिंदगी छीन ली। सोमवार दोपहर शहीद की पार्थिव देह पैतृक गांव पहुंची, जहां उनका सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ।

बता दें कि रविावार को डोडा के जंगल में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुरू हुई थी। जिसमें अभी तक 2 आतंकी मारे गए जबकि 1 जवान शहीद हो गया है। बताया जा रहा है कि ये आतंकी हिजबुल मुजाहिद्दीन के हैं, जो डोडा के जंगल में छिपे हैं। वह अपने कमांडर रियाज नायकू के मारे जाने के बाद से घाटी में हमला करने की कोशिश कर रहे हैं।