1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Lala Lajpat Rai Death Anniversary : एक महान स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने साइमन कमीशन के खिलाफ उठाई थी आवाज

Lala Lajpat Rai Death Anniversary : एक महान स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने साइमन कमीशन के खिलाफ उठाई थी आवाज

भारत के महान स्वतंत्रता सेनानियों में  लाला लाजपत राय का नाम बहुत आदर और सम्मान के साथ लिया जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

लाला लाजपत राय पुण्‍यतिथि:भारत के महान स्वतंत्रता सेनानियों में  लाला लाजपत राय का नाम बहुत आदर और सम्मान के साथ लिया जाता है। लाला लाजपत एक वीर सेनानी थे जिन्होंने देश के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया। आजीवन ब्रिटिश राजशक्ति का सामना करते हुए लाता जातपत जी ने अपने प्राणों की न करते हुए परवाह अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया था।

पढ़ें :- Shraddha Murder Case: श्रद्धा के कातिल पर तलवार से हमले की कोशिश, पुलिस की वैन में बैठा था आफताब

वीर सेनानी लाला लाजपत राय जी का जन्म 28 जनवरी 1865 को पंजाब के फिरोजपुर जिले के धूदिकी गांव में हुआ था। स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने कानून की उपाधि प्राप्त करने के लिए 1880 में लाहौर के राजकीय कॉलेज में प्रवेश ले लिया। इस दौरान वे आर्य समाज के आंदोलन में शामिल हो गए।

लालाजी ने कानूनी शिक्षा पूरी करने के बाद जगरांव में वकालत शुरू कर दी। इसके बाद वे रोहतक और फिर हिसार में वकालत करने लगे। स्वामी दयानंद सरस्वती के निधन के बाद लालाजी ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर एंग्लो वैदिक कॉलेज के विकास के प्रयास करने शुरू कर दिए। लालाजी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के गरम दल के प्रमुख नेता तथा पूरे पंजाब के प्रतिनिधि भी हुआ करते थे। उन्हें ‘पंजाब के शेर’ की उपाधि भी मिली थी।

अंग्रेजों ने जब 1905 में बंगाल का विभाजन कर दिया तो लाला जी ने सुरेन्द्रनाथ बनर्जी और विपिनचन्द्र पाल जैसे आंदोलनकारियों से हाथ मिला लिया और अंग्रेजों के इस फैसले की जमकर मुखालफत की। उन्होंने देशभर में स्वदेशी वस्तुएं अपनाने के लिए अभियान चलाया। 3 मई 1907 को ब्रितानिया हुकूमत ने उन्हें रावलपिंडी में गिरफ्तार कर लिया। रिहा होने के बाद भी लालाजी आजादी के लिए लगातार संघर्ष करते रहे।

लालाजी ने अमेरिका पहुंचकर वहां के न्यूयॉर्क शहर में अक्टूबर 1917 में इंडियन होम रूल लीग ऑफ अमेरिका नाम से एक संगठन की स्थापना की।

पढ़ें :- Shraddha murder case: श्रद्धा के शव किए टुकड़े-टुकड़े करने वाला हथियार बरामद, अंगूठी भी दूसरी लड़की को दी

3 फरवरी 1928 को कमीशन भारत पहुंचा जिसके विरोध में पूरे देश में आग भड़क उठी। लाहौर में 30 अक्टूबर 1928 को एक बड़ी घटना घटी, जब लाला लाजपत राय के नेतृत्व में साइमन का विरोध कर रहे युवाओं को बेरहमी से पीटा गया। पुलिस ने लाला लाजपत राय की छाती पर निर्ममता से लाठियां बरसाईं। वे बुरी तरह घायल हो गए और अंतत: इस कारण 17 नवंबर 1928 को उनकी मौत हो गई।

लाला लाजपत राय सिर्फ आजादी के मतवाले ही नहीं, बल्कि एक महान समाज सुधारक और महान समाजसेवी भी थे। जिन्होंने देश के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर दिया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...